पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • After The Death Of Two Ministers And The IG, Now The Financial Advisor Of The Disaster Management Authority Died From Corona

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कोरोना का कहर:आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के वित्तीय सलाहकार की कोरोना से गई जान, एक माह पूर्व ही हुई थी नियुक्ति

पटनाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
ज्योतिंद्र कुमार हाल ही में वित्त सेवा अधिकारी के पद से रिटायर हुए थे।
  • 64 वर्षीय ज्योतिंद्र कुमार बने कोरोना के शिकार, वित्त सेवा अधिकारी के पद से रिटायर हुए थे
  • बिहार में अब तक एक हजार लोगों की कोरोना से मौत हो चुकी है, 2,03,060 से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं

आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के वित्तीय सलाहकार 64 वर्षीय ज्योतिंद्र कुमार की कोरोना से मौत हो गई है। इलाज के दौरान मंगलवार की सुबह पटना एम्स में उनकी मौत हुई है। वह हाल ही में वित्त सेवा अधिकारी के पद से रिटायर होने के बाद आपदा प्रबंधन प्राधिकरण में एक माह पूर्व वित्तीय सलाहकार के रूप में ज्वाइन किए थे। एक सप्ताह पूर्व वह कोरोना से संक्रमित हुए थे, हालात खराब होने पर उन्हें पटना एम्स में भर्ती कराया गया था।

इससे पहले बिहार के दो मंत्री विनोद सिंह और कपिलदेव कामत के साथ आईपीएस अफसर पूर्णिया रेंज के आईजी विनोद कुमार की कोरोना के कारण मौत हो चुकी है। इन घटनाओं के बाद भी कोरोना को लेकर राज्य में कोई जागरुकता नहीं दिख रही है। प्राइवेट लैब में ऐसे लोगों की जांच होती है, जो जांच के लिए पैसा देने में सक्षम होते हैं। अब सवाल यह है कि कोरोना से मौत के आंकड़ों को लेकर भी राजनीतिक दल और विभाग गंभीर नहीं हैं।

बिहार में कोरोना के 2,03,060 से ज्यादा मामले आ चुके हैं। इसमें अब तक एक हजार लोगों की मौत भी हो चुकी है। प्राइवेट लैब के बढ़ते आंकड़ों को लेकर पटना की सिविल सर्जन डॉ. विभा कुमारी का कहना है कि संक्रमण को लेकर जो भी मामला सामने आ रहा है उसमें लोगों की निगरानी कराई जाती है। फोन कर उनसे उनकी स्थिति की भी जानकारी लगातार ली जाती है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- दिन उन्नतिकारक है। आपकी प्रतिभा व योग्यता के अनुरूप आपको अपने कार्यों के उचित परिणाम प्राप्त होंगे। कामकाज व कैरियर को महत्व देंगे परंतु पहली प्राथमिकता आपकी परिवार ही रहेगी। संतान के विवाह क...

और पढ़ें