पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Bihar 15 Days Total Lockdown; Global Orthopedic Forum To CM Nitish Kumar Over Coronavirus Cases

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

ग्लोबल आर्थोपैडिक फोरम ने CM को किया आगाह:कहा- आम लोगों की जान बचानी है तो संपूर्ण लॉकडाउन कीजिए, भयावह स्थिति का सामना कर पाना बड़ी चुनौती

पटना5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
कोरोना के पीक पर आने की संभावना ने बढ़ाई डॉक्टरों की चिंता, IMA पहले ही कर चुका का संपूर्ण बंदी की मांग - Dainik Bhaskar
कोरोना के पीक पर आने की संभावना ने बढ़ाई डॉक्टरों की चिंता, IMA पहले ही कर चुका का संपूर्ण बंदी की मांग

कोरोना के पीक पर आने की संभावना ने डॉक्टरों की चिंता बढ़ा दी है। IMA के बाद अब ग्लोबल आर्थोपैडिक फोरम ने मुख्यमंत्री को इस भयावह स्थिति के लिए अगाह करते हुए 15 दिन के लिए संपूर्ण बंदी की मांग की है। फोरम ने कहा है कि अगर इस दिशा में काम नहीं किया गया तो आने वाले दिनों में कोरोना के पीक पर आते ही हालात बेकाबू हो सकते हैं।

CM साहब ध्यान दीजिए

ग्लोबल आर्थोपैडिक फोरम के प्रेसिडेंट डॉ. सरसीज नयनम, सेक्रेटरी डॉ. अमूल्य कुमार सिंह और डॉ. अक्षत सुमन ने CM नीतीश कुमार को भेजे पत्र में कहा है कि बिहार में बढ़ते हुए कोरोना की महामारी को देखते हुए बिहार में कम से कम 15 दिनों का संपूर्ण लॉकडाउन किया जाए। इससे से ही कोरोना की रफ्तार रोका जाए। अगर ऐसा नहीं किया गया तो आम जनता की जिंदगी सुरक्षित नहीं हो सकेगी। कोरोना पीक पर आने वाला है और इस दौरान लॉकडाउन नहीं लगाया गया तो हालात बेकाबू हो जाएगा। हालांकि बिहार सरकार अपनी तरफ से पूरा प्रयास कर रही है जिससे आम जनता पूरी तरह से सुरक्षित रह सके लेकिन कोरोना जिस तरह से तेजी से बढ़ रहा है ऐसे में एक मात्र बचाव का उपाय संपूर्ण लॉकडाउन ही है।

हॉस्पिटलों की तैयारी भी नहीं हो पाएगी पूरी

ग्लोबल आर्थोपैडिक फोरम के डॉक्टरों ने कहा है कि अभी कोरोना की भयावह स्थिति है। संक्रमितों को समय पर ऑक्सीजन नहीं मिल पा रहा है। दवाएं नहीं मिल पा रही हैं। न हॉस्पिटल में बेड मिल पा रहा है। सरकार प्रयास कर रही है लेकिन मामला इतनी तेजी से बढ़ रहा है जिससे मरीजों को राहत नहीं मिल पा रही है। सरकार के लाख प्रयास के बाद मेडिकल सुविधा इतनी तेजी से नहीं बढाई जा सकती है जितनी तेजी से मामले बढ़ रहे हैं। सरकार को इसकी तैयारी करने में समय चाहिए और स्थिति भयावह हुई तो हालात बेकाबू हो जाएगा। लॉकडाउन से कोरोना को काबू में किया जा सकता है। डॉक्टरों ने CM से मांग की है कि सरकारी और गैर सरकारी अस्पतालों में निजी सुरक्षा की पर्याप्त व्यवस्था कराई जाए, क्योंकि एक मरीज की गलती के कारण बहुत सारे मरीजों का नुकसान होता है। इससे चिकित्सकों और सेवाकर्मियों का मनोबल भी कमजोर होता है।

डॉक्टरों का परिवार हो रहा संक्रमित

ग्लोबल आर्थोपैडिक फोरम का कहना है कि सरकार को यह भी देखना होगा कि डॉक्टर और उनका परिवार तेजी से संक्रमण की जद में आ रहा है। ऐसे में भविष्य में इलाज का भी संकट हो सकता है। चिकित्सा कर्मी समाज की सेवा करना चाहते हैं, हर मरीज की जान बचाना चाहते हैं लेकिन संसाधनों के अभाव में इलाज के दौरान वह खुद पॉजिटिव होते जा रहे हैं। चिकित्सा कर्मियों का परिवार खतरे में है। ग्लोबल आर्थोपैडिक फोरम ने आम जनता से भी अपील की है कि वह सुरक्षा के साथ कोरोना गाइडलान का पूरी तरह से पालन करें। भीड़ से दूर रहे, डबल मास्क पहने और खुद से लॉकडाउन मानकर ही घर में रहें।

खबरें और भी हैं...

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज दिन भर व्यस्तता बनी रहेगी। पिछले कुछ समय से आप जिस कार्य को लेकर प्रयासरत थे, उससे संबंधित लाभ प्राप्त होगा। फाइनेंस से संबंधित लिए गए महत्वपूर्ण निर्णय के सकारात्मक परिणाम सामने आएंगे। न...

और पढ़ें