पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सड़क की बाट जोह रहे हैं ग्रामीण:बेतिया के अहिरटोली गांव के लोगों को आज भी नसीब नहीं है पक्की सड़क, NH से महज 2 किमी की दूरी

बेतिया4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
आजादी के बाद से ही नहीं है सड़क। - Dainik Bhaskar
आजादी के बाद से ही नहीं है सड़क।

बेतिया जिला के चनपटिया प्रखंड अंतर्गत बनकट पुरैना पंचायत स्थित सिकरहना नदी के किनारे बसे अहिरटोली गांव के लोगों को आज भी मुख्य सड़क तक आने जाने के लिए पक्की सड़क नसीब नहीं हो पाई है। बरसात के मौसम में तो इस गांव के लोगों का पैदल चलना भी मुश्किल हो जाता है। इस गांव के अधिकतर लोग मजदूरी कर अपना जीवन यापन करते हैं। हालांकि डेढ़ दशक पहले ईंटकरण का कार्य करवाया गया था। लेकिन आज उस सड़क की स्थित काफी दयनीय है।

सिर्फ वोट मांगते के लिए आते हैं नेता

चुनाव के दौरान वोट के लिए नेताओं की लंबी लाइन लग जाती है। लेकिन, चुनाव खत्म होते ही फिर सब भूल जाते हैं। ग्रामीण बताते हैं कि इस गांव में जब किसी की शादी में बारात आती है या बारात निकलती है तो मुसीबत हो जाती है। दूल्हे या दूल्हन को गांव से मुख्य सड़क पर पैदल ही जाना पड़ता है। यह रास्ता चनपटिया नगर पंचायत से अहिरटोली गांव होते हुए पुरैना बाजार एवं लौरिया के मुख्यमार्ग को भी जोड़ती है। आप खुद अंदाजा लगा सकते हैं कि गांव को स्मार्ट बनाने का दावा करने वाली सरकार गांव का कितना विकास कर पाई है और स्थानीय जनप्रतिनिधि इन समस्याओं को दूर करने को लेकर कितने गंभीर हैं।

क्या बोले विधायक
इस संबंध में चनपटिया विधायक उमाकान्त सिंह ने बताया कि उक्त पथ का निर्माण कार्य बहुत जल्द करा दिया जाएगा और तत्काल बरसात से पूर्व उसपर अवागमन हेतु मरम्मती कार्य कराने के लिए विभाग को निर्देशित कर दिया जाएगा।

खबरें और भी हैं...