• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Bihar CM Nitish Kumar Highlevel Meeting On Yaas Cyclone, All Departments On Alert From 27 To 30 May

'यास' के खतरे पर CM की हाईलेवल मीटिंग:सभी विभागों को 27-30 मई तक अलर्ट रहने का निर्देश, स्वास्थ्य सुविधाओं के बैकअप प्लान पर ड्राई रन करने को कहा

पटना6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
खगड़िया सचिवालय में CM की वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग से जुड़े अधिकारी। - Dainik Bhaskar
खगड़िया सचिवालय में CM की वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग से जुड़े अधिकारी।

'यास' चक्रवात को देखते हुए CM नीतीश कुमार ने मंगलवार को एक हाईलेवल बैठक की। वीडियो कांफ्रेंसिंग से हुई इस मीटिंग में आपदा प्रबंधन विभाग, संबद्ध विभाग और सभी जिलाधिकारी जुड़े थे। आपदा प्रबंधन विभाग के अपर मुख्य सचिव प्रत्यय अमृत ने भारत मौसम विज्ञान विभाग द्वारा ‘यास’ चक्रवात के संबंध में मिली सूचना की विस्तृत जानकारी दी।

उन्होंने बताया कि बिहार में 27 मई से 30 मई तक आंधी, तूफान, वज्रपात और वर्षा की संभावना है। इसे देखते हुए सभी जिलाधिकारियों को सर्तक कर दिया गया है। ऊर्जा, कृषि, स्वास्थ्य, जल संसाधन, लघु जल संसाधन, पथ निर्माण एवं ग्रामीण कार्य विभाग को विशेष रूप से अलर्ट रहने को कहा गया है। NDRF और SDRF की टीम पूरी तरह तैयार है।

'यास' चक्रवात के खतरे पर CM के निर्देश

बैठक के दौरान CM नीतीश कुमार ने निर्देश देते हुए कहा कि संभावित ‘यास’ तूफान से निपटने को लेकर सारी तैयारी पूर्ण रखें। सभी संबद्ध विभाग पूरी तरह अलर्ट रहें। पूरे बिहार में इस तूफान का प्रभाव पड़ेगा। संबंधित विभाग और अधिकारी लगातार परिस्थितियों पर नजर बनाए रखें और उसके अनुसार जरूरी तैयारी रखें।

उन्होंने कहा कि बिजली आपूर्ति के व्यवधान की स्थिति में सभी सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों में मरीजों का इलाज प्रभावित न हो, इसकी वैकल्पिक व्यवस्था सुनिश्चित कर लें और उसका ड्राई रन कर लें। हमारी चिंता है कि ‘यास’ चक्रवात की वजह से यदि बिजली आपूर्ति प्रभावित होती है तो उसके अभाव में अस्पतालों में भर्ती मरीजों के इलाज में किसी भी प्रकार की कठिनाई न हो। इसका बैकअप प्लान पूरी तरह तैयार रखें।

कोरोना पर मीटिंग में बंगाल से आने वालों पर नजर रखने के निर्देश

इससे पहले CM नीतीश ने कोरोना महामारी पर भी अधिकारियों के साथ रोज की तरह मीटिंग की। उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल में पॉजिटिविटी रेट ज्यादा है। वहां से आने वाले लोगों से सावधान रहने की जरूरत है। ट्रेन या बस से आने वाले सभी यात्रियों की जांच अवश्य कराएं। कोई कोताही ना करें। अधिकारियों को निर्देश दिया कि ग्रामीण क्षेत्रों में अग्रेसिव टेस्टिंग जारी रखें। जिन इलाकों में संक्रमितों की संख्या ज्यादा पाई जा रही है, वहां विशेष नजर रखें।

खबरें और भी हैं...