पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मधेपुरा मेडिकल कॉलेज में पड़ताल:रोस्टर में ड्यूटी पर 4 डॉक्टर; दो ने खुद को संक्रमित होकर छुट्टी पर बताया, एक AIIMS में भर्ती, एक ने कहा- स्टाफ को बोलिए

मधेपुरा3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
JNKTMCH के वेंटिलेटर में संक्रमित की देखरेख डॉक्टर की जगह परिजन ही कर रहे हैं। - Dainik Bhaskar
JNKTMCH के वेंटिलेटर में संक्रमित की देखरेख डॉक्टर की जगह परिजन ही कर रहे हैं।

जन नायक कर्पूरी ठाकुर मेडिकल कॉलेज (JNKTMCH) में भर्ती होने वाले मरीज कहते हैं कि इलाज में लापरवाही हो रही है। अधीक्षक और प्राचार्य कहते हैं कि डॉक्टरों की कमी है। पर, जब-जब अधिकारी JNKTMCH का निरीक्षण करते हैं, तो यहां कभी दो दर्जन तो कभी चार दर्जन तक डॉक्टर अनुपस्थित रहते हैं। ऐसे में मंगलवार की रात को 8 बजे से लेकर 1 बजे तक भास्कर रिपोटर्र ने JNKTMCH के कोविड वार्ड की पड़ताल की तो एक नया खुलासा हुआ। जी हां, यहां कोविड मरीजों के इलाज के लिए तैनात किए गए कोई डॉक्टर AIIMS में खुद भर्ती हैं, तो किन्हीं के परिवार के सभी सदस्य संक्रमित हैं, वे खुद भी संक्रमित हैं और होम आइसोलेशन में हैं। एक डॉक्टर कहते हैं कि वार्ड में दूसरे साहब हैं, उनसे बात कीजिए। तो एक डॉक्टर फोन करने के बाद आते तो हैं, लेकिन नर्स रूम से ही जानकारी लेकर वापस सीढ़ी से नीचे उतर जाते हैं। ऐसे में जबकि मरीज के परिजन इलाज में लापरवाही का आरोप लगाते हैं, तो गलत नहीं कहते हैं।

JNKTMCH की कमोवेश सच्चाई यह है कि मरीज का इलाज यहां की नर्स ही करतीं हैं। यहां अस्पताल प्रशासन द्वारा जारी किए गए रोस्टर के अनुसार कोई भी काम सही से नहीं होता है। रोस्टर में अगर 4 चिकित्सकों का नाम है, तो 3 गायब हैं। मंगलवार को दो शिफ्ट का बड़े बारीकी से पड़ताल किया गया। दोपहर दो बजे से 10 बजे रात्रि तक के चार चिकित्सकों की ड्यूटी है, जिसमें क्रमशः डॉ. लक्ष्मण कुमार, डॉ. जाहिद ,डॉ. आलोक निरंजन , डॉ. अभिषेक आनंद थे। इन सबों की तैनाती अपराह्न दो बजे से रात्रि के दस बजे तक का था। खुद ही सुनिए ड्यूटी पर रहे डॉक्टर क्या कहते हैं-

भास्कर : हेलो डॉक्टर साहब, एक बार आइये न। मेरे मरीज का हाल बहुत खराब हो गया है।
डॉ लक्ष्मण : जी बोलिए ....अच्छा मेडिकल कॉलेज मधेपुरा से बोल रहे हैं..

भास्कर: जी सर , एक बार आया जाए न, मेरे मरीज का हाल बहुत बुरा है
डॉ लक्ष्मण : हम खुद पॉजिटिव हैं, मेरे घर पर सब पॉजिटिव है, हम छुट्टी पर हैं। हमने सर को बताया है। रिपोर्ट भी भेजा हुआ है सर को। सब जानते हैं कि हम खुद इलाजरत हैं।

भास्कर: हेलो डॉक्टर साहब, एक बार आइये न। मेरे मरीज का हाल बहुत खराब हो गया है
डॉ जाहिद : अच्छा कौन बोल रहे हैं ,ओ ...अरे बाबू हम तो खुद एम्स में भर्ती हैं। हम खुद बहुत सीरियस हैं। नर्स को बोलो न। एनेस्थेसिया वाले को बुलवा देंगे।

भास्कर: जी ठीक है। मुझे नहीं पता था कि आप बीमार हैं।
डॉ. जाहिद : अच्छा कोई बात नहीं

भास्कर: हेलो डॉक्टर साहब, एक बार आइए न मेरे मरीज का हाल बहुत खराब हो गया है, वेंटिलेटर पर है।

डॉ. आलोक: अच्छा, क्या नाम है...बेड नंबर क्या है?

भास्कर: जी राकेश नाम है, चौथा तल्ला पर है, बेड नंबर 4104 है।
डॉ. आलोक : देख के क्या होगा, सिस्टर को बोलिए न एनेस्थेसिया वाले को बुलाएगी।

भास्कर: हेलो डॉक्टर साहब, एक बार आइये न। मेरे मरीज का हाल बहुत खराब हो गया है। हाथ सूज गया है।

डॉ. अभिषेक : अरे, तो आप हमको क्यों कॉल किए हैं, वहां स्टाफ है उसको बोलिए।

संवाददाता : कौन है सर, यहां तो कोई नहीं है।

डॉ. अभिषेक : नहीं पता है हमको, कौन बैठे हैं।

भास्कर: हेलो डॉक्टर साहब, एक बार वार्ड में आइये न

डॉ. सुनील: खांसते हुए...हम तो खुद परेशान हैं। मेरे घर पर सब पॉजिटिव है। हम छुट्टी ले लिए हैं।

इसके बाद डॉ. प्रेम प्रकाश ने एक बार में कॉल नहीं उठाया। कुछ देर बाद उन्होंने कॉल बैक किया। मरीज का बेड नंबर लिया। फिर वे नर्स के पास गए और उसे मरीज के संबंध में निर्देश देकर निकल गए। लेकिन मरीज के पास नहीं गए।

28 अप्रैल को थे 42 डॉक्टर अनुपस्थित

डॉक्टर के अस्पताल में नहीं रहने के लगातार लगाने वाले आरोप को देखते हुए 28 अप्रैल को प्राचार्य डॉ. गौरीकांत मिश्र ने निरीक्षण किया तो यहां पदस्थापित कुल 99 में से 42 डॉक्टर अनुपस्थित थे। अगले दिन अधीक्षक ने फिर निरीक्षण किया गया तो 21 डॉक्टर अनुपस्थित थे। उनकी हाजिरी काट दी गई। इसी तरह कुछ माह पूर्व जब प्राचार्य ने निरीक्षण किया था तो 50 से ज्यादा डॉक्टर अनुपस्थित पाए गए थे। इसके बाद कई डॉक्टरों ने प्राचार्य के साथ बदसलूकी भी की थी।

पूछा जाएगा शो-कॉज
JNKTMCH के प्राचार्य डॉ. गौरीकांत मिश्र ने बताया कि अगर रोस्टर के अनुसार कोविड वार्ड में रोस्टर के अनुसार डॉक्टर ड्यूटी पर नहीं थे तो यह लापरवाही का मामला है। मामले में शो-कॉज पूछा जाएगा।

रिपोर्ट किया जाएगा
JNKTMCH के अधीक्षक डॉ. राकेश कुमार ने बताया कि डॉक्टरों के कोरोना पॉजिटिव होने या इसकी जानकारी मुझे नहीं है। जो डॉक्टर ड्यूटी पर नहीं थे, उन्हें अनुपस्थित कर रिपोर्ट किया जाएगा।

(मनीष वत्स)

खबरें और भी हैं...