बिहार में मानसून की आंख मिचोली:पटना में 1 घंटे तक हुई बारिश, उत्तर बिहार के 19 जिलों में बारिश से परेशान हो गए लोग, आधे बिहार में बारिश नहीं होने से बढ़ी चिंता

पटना9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पटना में हुई जोरदार बारिश। - Dainik Bhaskar
पटना में हुई जोरदार बारिश।

बिहार में मानसून की आंख मिचोली चल रही है। कहीं बारिश से लोग परेशान हैं तो कहीं बारिश नहीं होने से परेशानी बढ़ गई है। उत्तर बिहार के लगभग 19 जिलों में आए दिन बारिश हो रही है। पटना में सोमवार की दोपहर करीब एक घंटे तक जबरदस्त बारिश हुई है। लेकिन, दक्षिण बिहार के जिलों में कम बारिश हो रही है। मानसून के 71 दिनों में 16 दिन ही भारी बारिश हुई है इसके बाद भी बारिश का कोटा आधे से अधिक पूरा हो गया है। हालांकि बारिश का यह कोटा वर्ष 2020 से कम है एक साल का रिकॉर्ड तोड़ने के लिए कम ही समय बचा है।

ऐसे आंख मिचोली कर रहा मानसून

मौसम विभाग के मुताबिक बंगाल की खाड़ी से बिहार, झारखंड और उत्तर प्रदेश तक बने लो प्रेशर के सिस्टम का फायदा पूर्वी-पश्चिम चंपारण, दरभंगा, सुपौल, सारण, सिवान, गोपालगंज सहित एक दर्जन से अधिक जिलों को हो रहा है लेकिन बिहार के अधिकांश हिस्से में केवल हल्की बारिश हो रही है। इस कारण पटना, सहरसा, पूर्णिया, मधेपुरा सहित 15 जिलों में औसत से कम बारिश रिकार्ड किया गया है। पटना में 71 दिनों में 24 इंच बारिश हुई। जो, सामान्य से दो इंच कम है।

वर्ष 2020 से भी कम हो सकती है बारिश

मौसम विभाग के मुताबिक यदि एक सप्ताह तक लगातार बारिश होती है, तो 2020 से अधिक बरसात होगी, नहीं तो वर्ष 2020 का रिकॉर्ड नहीं टूट पाएगा। मौसम विभाग का कहना है कि चक्रवाती हवाओं के प्रभाव से बिहार के उत्तरी हिस्से में अधिकांश जगहों पर और दक्षिण बिहार के पटना, गया सहित कुछ स्थानों पर हल्की बारिश के आसार हैं। इस कारण से पटना और आस पास के जिलों का तापमान अधिक है। गर्मी से लोगों की परेशानी बढ़ गई है। पटना में उमस भरी गर्मी लोगों की परेशानी बढ़ा रही है।

हल्की सी बरसात के बाद स्थिति और खराब हो जा रही है। रविवार को पटना का न्यूनतम तापमान 26.8 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया। सोमवार को अधिकतम तापमान 35 और न्यूनतम तापमान 27 डिग्री सेल्सियस होने के आसार है।

मानूसन में बारिश को तरस रहा दक्षिण बिहार

मौसम विभाग के मुताबिक मानसून के 71 दिनों में 32 इंच बारिश हुई है। वर्ष 2020 का रिकार्ड तोड़ने के लिए 30 सितंबर तक 12 इंच बारिश होनी चाहिए। बिहार में 13 जून को मानसून अनुमान के एक दिन पहले ही आ गया था। मानसून आने के बाद से 71 दिनों में केवल 16 दिन भारी बारिश हुई है। इसके बावजूद भी रिमझिम बारिश से ही सीजन का आधे से अधिक का कोटा पूरा हो चुका है। बिहार में अभी तक 32 इंच बारिश हुई। लेकिन, 2020 के रिकार्ड को तोड़ने के लिए 30 दिनों में 12 इंच बारिश की आवश्यकता है।

बिहार में बारिश का तीन दौर आया

बिहार में बारिश का तीन दौर आया है। पहला दौर 13 से 30 जून तक रहा है। इस दौरान बिहार में 354 एमएम बारिश हुई, जो सामान्य से 111 फीसदी अधिक रही। दूसरा दौर 15 से 23 जुलाई तक रहा है, इस दौरान 258 एमएम बारिश हुई। यह सामान्य से 26 फीसदी कम रहा। तीसरे दौर में अगस्त में तीन से सात और 15 से 22 अगस्त तक बारिश का सिस्टम सक्रिय रहा है। इस दौरान 180 एमएम बारिश हो चुकी है। जो अगस्त में सामान्य से 9 फीसदी अधिक है। इस दौरान पटना में 677 एमएम बारिश हुई, जो सामान्य से तीन फीसदी कम रिकार्ड किया गया है।

बिहार में 26 अगस्त तक बारिश का अलर्ट

मौसम विभाग ने 26 अगस्त तक बिहार में बारिश का अलर्ट किया है, लेकिन इसमें भी दक्षिण बिहार के जिलों में कम बारिश बताया गया है। उत्तर बिहार के पश्चिमी चंपारण, सीवान, सारण, पूर्वी चंपारण, गोपालगंज, सीतामढ़ी, मधुबनी, मुजफ्फरपुर, दरभंगा, वैशाली, शिवहर, समस्तीपुर, सुपौल, अररिया, किशनगंज, मधेपुरा, सहरसा, पूर्णिया और कटिहार में कई स्थानों पर बारिश का पूर्वानुमान है। लेकिन दक्षिण बिहार के बक्सर, भोजपुर, रोहतास, भभुआ, औरंगाबाद, अरवल, पटना, गया, नालंदा, शेखपुरा, नवादा, बेगूसराय, लखीसराय, जहानाबाद, भागलपुर, बांका, जमुई, मुंगेर और खगड़िया में कुछ ही स्थानों पर बारिश का अनुमान है। मानसून की आंख मिचोली से मौसम विभाग का पूर्वानुमान तो गड़बड़ हो रहा है साथ ही लोगों की परेशानी भी गर्मी के कारण बढ़ रही है।

खबरें और भी हैं...