पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Bihar Munger Shootout Case Updates; Cid On Brajesh Kumar Singh Over Durga Puja Incident

मुंगेर गोलीकांड में आरोपी पर CID मेहरबान:फरार आरोपी सब इंस्पेक्टर को CID ने थाने में बुलाया; हथियार लिया और छोड़ दिया, पूछताछ तक नहीं की

पटना4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मुंगेर गोलीकांड के दौरान की तस - Dainik Bhaskar
मुंगेर गोलीकांड के दौरान की तस

पिछले साल दुर्गा पूजा में मूर्ति विसर्जन के दौरान अनुराग पोद्दार की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। इस मामले में अब बिहार पुलिस की CID ने बड़ी लापरवाही बरती है। हत्या के मामले में फरार आरोपी सब इंस्पेक्टर को CID के अधिकारियों ने अपने पास बुलाया, लेकिन, न तो उसे कस्टडी में लिया और न ही उससे केस से जुड़ी कोई पूछताछ की। उसके साथ बहुत सॉफ्ट ट्रीटमेंट किया। बड़े आराम से बुलाकर फरार सब इंस्पेक्टर से उसका सरकारी हथियार वापस लिया, अपने पास जमा कराया। फिर उसे जाने दिया। इस बात की जानकारी जब पटना हाईकोर्ट को हुई तो कोर्ट ने सख्त नाराजगी जाहिर की।

कोर्ट के सामने हाजिर हुए थे ADG

दरअसल, इस कांड में उस वक्त के मुफ्फसिल थानेदार व 2009 बैच के सब इंस्पेक्टर ब्रजेश कुमार सिंह नामजद आरोपी हैं। पुलिस विभाग की तरफ से मिले सरकारी हथियार के साथ ब्रजेश कुमार सिंह फरार चल रहे थे। न तो इन्हें मुंगेर की पुलिस पकड़ रही थी और न ही CID की टीम। अनुराग पोद्दार के पिता अमरनाथ पोद्दार की तरफ से हाईकोर्ट में एक क्रिमिनल रिट दाखिल है। इनके तरफ से एडवोकेट मानस प्रकाश इस केस को देख रहे हैं। मानस प्रकाश के अनुसार इस मामले में 19 मई को सुनवाई हुई थी। वर्चुअल तरीके से CID के ADG विनय कुमार कोर्ट के सामने हाजिर हुए थे।

कोर्ट ने जताई नाराजगी

ADG ने उस वक्त कहा कि ब्रजेश से सरकारी हथियार ले लिया गया है और उस जांच के लिए FSL भेजा जाएगा। इनकी बात सुनते ही कोर्ट ने सख्त नाराजगी जाहिर की। सीधे ADG से कहा कि आप ब्रजेश को कस्टडी में ले सकते थे, उससे पूछताछ कर सकते थे। हाईकोर्ट के कड़े तेवर देख ADG ने कहा कि उनकी टीम जल्द ही ब्रजेश को पकड़ेगी और उससे पूछताछ भी करेगी। एडवोकेट के अनुसार अब इस मामले की अगली सुनवाई 25 जून को होगी। अप्रैल में हुई सुनवाई के दौरान हाईकोर्ट ने अनुराग के परिवार को 10 लाख रुपए की सरकारी मदद देने के लिए राज्य सरकार को निर्देश दिया था। लेकिन, अब तक परिवार को यह रुपए नहीं मिले। सरकार हाईकोर्ट के इस फैसले के खिलाफ जाने की तैयारी कर रही है।

चहेतों को बचाने के लिए अलग एंगल देने की तैयारी

मुंगेर गोलीकांड की जांच में शुरू से ही हर स्तर पर लापरवाही बरती जा रही है। सूत्रों का दावा है कि अपने चहेतों को बचाने के लिए ऐसा किया जा रहा है। कुछ लोग मिलकर अनुराग पोद्दार की हत्या के केस को अलग एंगल देने की काेशिश कर रहे हैं। 17 साल के उस नौजवान को ही गलत ठहराने का जुगाड़ लगा रहे हैं। जबकि, इस कांड में अकेले ब्रजेश कुमार सिंह ही आरोपी नहीं है, इनके अलावे एक थानेदार और दूसरा आउटपोस्ट इंचार्ज भी आरोपी है। मगर, इन सबके खिलाफ ठोस तरीके से कोई जांच नहीं हुई। पुलिसिया जांच में बरती जा रही लापरवाही को हाईकोर्ट ने भी पकड़ा था। यही वजह थी कि अप्रैल महीने की सुनवाई के दौरान उस वक्त के मुंगेर SP मानवजीत सिंह ढिल्लो समेत इस कांड की जांच से जुड़े सभी पुलिस वालों का वहां से ट्रांसफर कर दिया गया था।

खबरें और भी हैं...