• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Bihar NDA Alliance RIFT Update; Jitan Ram Manjhi HAM Party Leaders And Mukesh Sahni On MLA Fund

बिहार NDA में खटपट:HAM, BJP पर और VIP के नेता JDU पर हमलावर; मांझी बोले- को-ऑर्डिनेशन कमेटी बनाई जाए, सहनी ने CM नीतीश से विधायक फंड वापस मांगा

पटना6 महीने पहलेलेखक: बृजम पांडेय
  • कॉपी लिंक

बिहार NDA में सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है। NDA के घटक दल लगातार एक-दूसरे पर कटाक्ष करते नजर आ रहे हैं। बिहार NDA में मुख्य रूप से JDU और BJP है। इसके अलावा HAM और VIP का रोल भी अहम है। 4- 4 विधायकों वाली इन पार्टियों के बदौलत ही बिहार में NDA की सरकार चल रही है।

HAM चीफ जीतन राम मांझी ने NDA में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के कोटे से एंट्री ली। वहीं, VIP के मुकेश सहनी ने BJP कोटे से प्रवेश पाया था। अब दोनों दल अपने ही घटक दलों पर हमलावर है। एक ओर मांझी ने NDA में को-ऑर्डिनेशन कमेटी बनाने की मांग कर रहे हैं, तो VIP अध्यक्ष और पशुपालन मंत्री मुकेश सहनी ने तो विधायक फंड ही वापस मांग लिया है।

सहनी ने नीतीश को लिखी चिट्‌ठी
सहनी ने नीतीश को चिट्ठी लिखकर कहा कि PM नरेंद्र मोदी ने सभी राज्यों को मुफ्त में कोरोना वैक्सीन उपलब्ध कराने का ऐलान कर दिया है। अब वैक्सीनेशन में राज्य सरकार को कोई खर्च नहीं करना पड़ेगा। लिहाजा राज्य सरकार को विधायकों और विधान पार्षदों के फंड से लिए गए 2-2 करोड़ रुपए वापस कर देना चाहिए।

सरकार ने कोरोना से जंग में लिए थे फंड
दरअसल, बिहार में मुख्यमंत्री क्षेत्र विकास योजना के नाम पर विधायकों और विधान पार्षदों को हर साल 3 करोड़ रुपए खर्च करने को मिलता है। विधायकों की अनुशंसा पर ही यह पैसा खर्च किया जाता है। कोरोना की दूसरी लहर शुरू होने के बाद नीतीश सरकार ने पत्र जारी कर सभी विधायकों और विधान पार्षदों के फंड से दो-दो करोड़ रुपए लेने का ऐलान किया था।

भाजपा को टारगेट कर रहे हैं मांझी

  • वही, जीतनराम मांझी लगातार भाजपा को टारगेट कर रहे हैं। कुछ दिन पहले ही उन्होंने PM मोदी पर हमला करते हुए कहा था कि कोरोना वैक्सीन के सर्टिफिकेट पर PM की फोटो है तो फिर राष्ट्रपति, गवर्नर और CM की क्यों नहीं। जब कोरोना वैक्सीन के सर्टिफिकेट पर उनकी फोटो है, तो डेथ सर्टिफिकेट पर भी उनकी फोटो होनी चाहिए।
  • HAM प्रवक्ता दानिश रिजवान ने कहा कि भाजपा के कुछ नेता सरकार को अस्थिर करने की कोशिश कर रहे हैं। सरकार के खिलाफ बयानबाजी करके विपक्ष को मौका दे रहे हैं। NDA में को-आर्डिनेशन कमेटी बने, नहीं तो हालात और खराब हो सकते हैं।

जातिगत जनगणना को लेकर भी मांझी हमलावर
जातिगत जनगणना पर मांझी ने शनिवार को अपने सोशल मीडिया पर लिखा कि वर्तमान स्थिति में देश की जनगणना आवश्यक है, लेकिन कोरोना की वजह से जनगणना कार्य को रोक कर रखा गया है। देश में जब चुनाव हो सकते हैं तो जनगणना से परहेज क्यों? भारत सरकार से अनुरोध है कि 10 वर्षीय जनगणना के साथ-साथ जाति आधारित जनगणना अविलंब शुरू किया जाए।

क्या कहते हैं सियासी विशेषज्ञ
मामले में वरिष्ठ पत्रकार रवि उपाध्याय कहते है कि वर्तमान परिदृश्य में HAM और VIP की भूमिका संदिग्ध है। लालू यादव के बेटे तेज प्रताप से जीतन राम मांझी का मिलना और फिर लगातार BJP पर हमला करना संकेत अच्छे नहीं दे रहे हैं। HAM और VIP की ईमानदारी अलग-अलग है। मांझी JDU, तो मुकेश BJP के लिए ईमानदार हैं। हालांकि, ये छोटी पार्टियां प्रेशर पॉलिटिक्स करना जानती हैं। ऐसे में जिनका ये पलड़ा भारी देखते हैं, उस तरफ चले जाते हैं। वैसे HAM और VIP, NDA के साथ ही रहेगी। ये दबाव की राजनीति बनाकर कुछ लाभ लेना चाहते हैं।

खबरें और भी हैं...