नदी में डूबने से एक किशोरी की मौत:जितिया पर्व पर अपने मां के साथ नदी में नहाने आई थी, पैर फिसला तो गहराई में चली गई, मौत

पटना2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
घटनास्थल पर लगी लोगों की भीड़। - Dainik Bhaskar
घटनास्थल पर लगी लोगों की भीड़।

बक्सर में जिउतिया के दिन भैसहा नदी में स्नान के दौरान एक किशोरी गहरे पानी में डूब गई, जिससे उसकी मौत हो गई। स्थानीय गोताखोरों ने आधा घंटा के प्रयास में शव को नदी से बाहर निकाला लेकिन तब तक उसकी मौत हो चुकी थी। इस घटना के बाद ग्रामीणों ने किशोरी के शव के साथ भैसहा पुल के पास NH 84 को जाम कर दिया। ग्रामीण आपदा राहत के तहत चार लाख का मुआवजा पीड़ित परिवार को देने की मांग कर रहे थे। घटना की सूचना मिलते ही औद्योगिक थाने की पुलिस मौके पर पहुंची तथा ग्रामीणों को समझा-बुझाकर जाम हटवाया। तत्काल पीड़ित परिवार को पारिवारिक अनुदान के तहत बीस हजार रुपए का लाभ शुक्रवार को देने का आश्वासन पुलिस पदाधिकारियों ने दिया तथा कागजी प्रक्रिया पूरी होने के बाद आपदा राहत की राशि भी देने का वादा किया।

मां के साथ नदी में नहाने आई थी किशोरी

मृतका सुप्रिया कुमारी (10 वर्ष) पिता मुनेन खरवार जितिया पर्व पर अपने मां के साथ नदी में नहाने आई थी। नहाने के दौरान ही उसका पैर फिसल गया और वह गहरे पानी में समा गई। आसपास नहा रहीं महिलाएं कुछ समझती प्रथम मदद के लिए शुरू कर दी, इसके पहले देर हो चुकी थी। हालाकि, किशोरी के डूबने की खबर मिलते ही ग्रामीण गोताखोर आननफानन में नदी में छलांग लगा, उसे बचाने का प्रयास किए। लेकिन पानी से निकलने से पहले ही उसके प्राण पखेरु उड़ गए थे। इसके बाद ग्रामीणों ने मुआवजे के लिए सड़क जाम कर दिया।

घटना के बाद पसरा मातम

इस घटना के बाद पीड़ित परिवार में मातम पसर गया। एक क्षण में ही जितिया का उत्साह गम में बदल गया था। किशोरी के डूबने की खबर सुन नदी में नहाने गई महिलाएं बैरंग वापस लौट गई। इस घटना के बाद गांव में चर्चाओं का बाजार तेज रहा। इसके बाद ग्रामीणों ने जाम हटाया। इसके बाद पुलिस शव को कब्जे में ले पोस्टमार्टम के लिए बक्सर भेजी।

खबरें और भी हैं...