पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पटना में फिर ब्लैक फंगस का इंजेक्शन ड्राई:AIIMS-IGIMS में मरीजों को दो दिनों से नहीं लगा इंजेक्शन, गोली के भरोसे चल रहा इलाज

पटना4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतीकात्मक तस्वीर। - Dainik Bhaskar
प्रतीकात्मक तस्वीर।

ब्लैक फंगस का इंजेक्शन एक बार फिर खत्म हो गया है। पटना में दो दिनों से किसी भी हॉस्पिटल में मरीजाें को इंजेक्शन नहीं लग पाया है। पटना AIIMS और IGIMS में एक भी मरीज को दो दिनों से सूई नहीं दी गई है। अब उन्हें गोलियों के सहारे रखा गया है। औषधि विभाग का कहना है कि इंजेक्शन आने में अभी एक से दो दिनों का समय लग सकता है।

इंजेक्शन नहीं देने से हो रही मुश्किल

पटना AIIMS और IGIMS से लेकर ब्लैक फंगस का इलाज करने वाले और अस्पतालों में एम्फोटेरेसिन बी इंजेक्शन की डिमांड है लेकिन हमेशा स्टाक खाली हो जा रहा है। दो दिन पूर्व 1700 वायल आई, लेकिन डिमांड के कारण दो दिन में ही खत्म हो गई। पटना AIIMS और IGIMS के डॉक्टरों का कहना है कि एंटीफंगल दवाएं हैं। इनका ब्रेक होना ठीक नहीं है।

हालांकि इसकी जगह पर पोसाकोना की गोली दी जा रही है लेकिन भर्ती होने वाले सभी मरीजों को एक दिन में कम से कम 5 डोज देना होता है। अगर इंजेक्शन लगातार मरीजों को दिया जाए तो इसका असर अधिक होता है।

पटना AIIMS फुल, IGIMS में 110 मरीज भर्ती

पटना AIIMS का ब्लैक फंगस वार्ड मरीजों से फुल है। यहां 140 बेड है, वहीं IGIMS में 110 मरीज भर्ती हैं। IGIMS के मेडिकल सुपरिटेंडेंट डॉ मनीष मंडल का कहना है कि कल दोपहर से ही इंजेक्शन नहीं मिल पा रहा है। एक मरीज को कम से कम 5 वायल इंजेक्शन दिया जाता है। अब इंजेक्शन नहीं है तो एंटीफंगल गोली दी जा रही है। वहीं, AIIMS के मेडिकल सुपरिटेंडेंट डॉ सीएम सिंह का कहना है कि एम्फोटेरिसन बी इंजेक्शन नहीं हाेने के कारण मरीजों काे एंटीफंगल दवाएं दी जा रही हैं। दो दिनों से इंजेक्शन नहीं होने समस्या आ रही है।

खबरें और भी हैं...