BPSC में चौथी रैंक लाने वाले सुमित से बातचीत:पिछले 20 साल में पूछे गए प्रश्नों को हल करके तैयारी की; UPSC मेंस भी क्वालिफाई कर चुके हैं, अब इंटरव्यू की तैयारी में लगे हैं

पटना7 महीने पहलेलेखक: प्रणय प्रियंवद
  • कॉपी लिंक
सुमित मधुबनी के रहने वाले हैं। - Dainik Bhaskar
सुमित मधुबनी के रहने वाले हैं।

बिहार लोक सेवा आयोग (BPSC) की परीक्षा में सुमित कुमार ने पिछली बार 855वीं रैंक हासिल की थी। इस बार उन्होंने फिर से प्रयास किया और चौथी रैंक पर पहुंचे गए। उनका चयन बिहार लोक सेवा आयोग की बिहार प्रशासनिक सेवा के लिए हुआ है। सुमित मधुबनी के रहने वाले हैं, लेकिन पटना के संत माइकल स्कूल से इन्होंने पढ़ाई की है। इसके बाद IIT गुवाहाटी से सिविल इंजीनियरिंग की। दैनिक भास्कर से बातचीत करते हुए सुमित बताते हैं कि साल 2017 से वे बिहार लोक सेवा आयोग की परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं। उन्होंने 64वीं BPSC परीक्षा में 855वां रैंक हासिल किया था। तब उनका चयन रेवेन्यू ऑफिसर के लिए हुआ था। इस बार उन्होंने फिर मेहनत कर परीक्षा दी और टॉप- 4 में जगह बना ली।

ऑप्शनल पेपर्स पर ठीक से फोकस किया
पिछली बार वे काफी पीछे रहे और इस बार टॉप फाइव में कैसे आए? इस सवाल पर वे कहते हैं कि पिछली बार ऑप्शनल पेपर्स में कम अंक आने की वजह से उनकी रैंक काफी पीछे रह गई थी। इस बार उन्होंने ऑप्शनल पेपर्स पर ठीक से फोकस किया।

इंटरव्यू में नॉलेज के साथ पर्सनलिटी भी देखी जाती है
अपनी सफलता की कहानी बताते हुए सुमित कहते हैं कि पढ़ाई को लेकर मेरे परिवार ने हमेशा से ही काफी सपोर्ट किया। आगे बढ़ने में मदद परिवार के सहयोग से ही मिली। वे कहते हैं कि सभी को छात्रों को सिलेबस से ही पढ़ना चाहिए। इंटरव्यू में सिर्फ नॉलेज ही नहीं देखी जाती बल्कि ओवरऑल पर्सनलिटी भी देखी जाती है।

प्रीवियस ईयर के सवालों पर फोकस करें
सुमित की खासियत यह है कि वे हमेशा अपनी क्लास में टॉप करते रहे हैं। सुमित ने बताया कि उन्होंने पिछले 20 साल में BPSC में पूछे गए सवालों को हल किया। इससे आगे की रणनीति बनाने में काफी मदद मिली। इसलिए प्रीवियस ईयर के सवालों पर फोकस जरूर करें।

स्टडी मटेरियल के लिए सोशल मीडिया का उपयोग जरूर करें
सुमित ने UPSC मेंस भी क्वालिफाई किया है और वे अभी इसके लिए इंटरव्यू की तैयारी में लगे हैं। वे कहते हैं कि सोशल मीडिया काफी समय बर्बाद करता है। जरूरत के हिसाब से ही सोशल मीडिया का उपयोग करना चाहिए। स्टडी मटेरियल के लिए सोशल मीडिया का इस्तेमाल जरूर करें।

खबरें और भी हैं...