• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Bihar News; Illegal Possession Will Be Removed From The Land Of Temples In Bihar

बिहार में 116 वर्षों बाद होगा मंदिरों का सर्वे:हटेगा अवैध कब्जा, जमीन के मालिक बनेंगे खुद भगवान, केवल पटना में 378 मठों-देवालयों की जमीन की होगी जांच

पटना10 महीने पहले
सरकार की तरफ से 20 जिलों में भूमि सर्वे का काम टीम बनाकर शुरू कर दिया गया है।

बिहार में 116 वर्षों बाद मंदिरों की भूमि का सर्वे किया जाएगा। बिहार के विधि मंत्री प्रमोद कुमार ने कहा कि मठ-मंदिरों की जमीन के साथ ही, दान की गई ऐसी जमीनें, जिन पर अब तक मालिकाना नहीं हुआ, उनका भी सर्वे होगा। सरकार की तरफ से 20 जिलों में भूमि सर्वे का काम टीम बनाकर शुरू कर दिया गया है। पटना में जिला प्रशासन के साथ विधि मंत्री ने शुक्रवार को बैठक की।

इस बैठक में धार्मिक न्यास बोर्ड के प्रतिनिधि भी शामिल हुए। विधि मंत्री ने कहा कि मठ-मंदिरों की जमीन को अतिक्रमण मुक्त कराया जाएगा। इसके साथ ही उनके विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी, जिन्होंने अवैध कब्जा किया है। पटना में ऐसे 378 मठ- मंदिर हैं जिनकी जमीनों का सर्वे होगा। सर्वे के बाद जमीन की घेरेबंदी कराई जाएगी।

पटना में जिला प्रशासन के साथ विधि मंत्री ने आज एक बैठक की।
पटना में जिला प्रशासन के साथ विधि मंत्री ने आज एक बैठक की।

मठ-मंदिरों के नाम से होगा भूमि का स्वामित्व

विधि मंत्री ने कहा कि मठ-मंदिरों की जमीन का सर्वे किए जाने के बाद उसके स्वामित्व को लेकर भी सरकार पूरी व्यवस्था करेगी। अब ऐसी जमीन किसी व्यक्ति या निजी संस्था के नाम नहीं रहेगी। मठ और मंदिरों की भूमि का स्वामित्व मंदिर और मठ के नाम से ही होगा। बिहार में आखिरी बार 1905 में मठ-मंदिरों की जमीन का सर्वे हुआ था। वैसे सभी निबंधित, गैर निबंधित एवं निर्माणाधीन मंदिरों की सूची खाता, खेसरा के साथ धार्मिक न्यास परिषद् के पोर्टल पर अपलोड किया जाएगा। इस काम को एक महीने में पूरा किए जाने का लक्ष्य है।

खबरें और भी हैं...