• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Bihar News; Indefinite Picketing Of Teacher Candidates, Demand For Appointment Letter

शिक्षक अभ्यर्थियों का अनिश्चितकालीन धरना:अभ्यर्थी बोले- सरकार देर कर रही, नियुक्ति पत्र जल्दी दें, विभाग ने कहा- नियोजन होने पर एक साथ देंगे लेटर

पटना10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
गर्दनीबाग में धरने पर बैठे शिक्षक अभ्यर्थी। - Dainik Bhaskar
गर्दनीबाग में धरने पर बैठे शिक्षक अभ्यर्थी।

बढ़ती ठंड के बीच बिहार के विभिन्न जिलों के शिक्षक अभ्यर्थियों का पटना के गर्दनीबाग में अनिश्चितकालीन धरना शुरू हो गया हैं। बिहार TET- 2017-CTET उत्तीर्ण अभ्यर्थी संघ के प्रदेश अध्यक्ष राजेन्द्र सिंह ने बताया, '38 हजार शिक्षकों का चयन हुए चार-पांच माह हो चुके हैं और अब तक नियुक्ति पत्र नहीं दिया गया है। अनिश्चितकालीन जांच के नाम पर परेशान किया जा रहा है। सोमवार को अफसर आए थे और मांग का आवेदन लिया। इसमें लिखा गया है कि 38 हजार चयनित अभ्यर्थी को जल्द से जल्द नियुक्ति पत्र दिया जाए या इसकी तिथि की घोषणा की जाए।' अभ्यर्थियों ने बताया कि रात जहां-तहां खुले में गुजारनी पड़ रही है।

जांच से हमें कोई दिक्कत नहीं, पर जल्दी करें

शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव संजय कुमार ने आश्वासन दिया है कि विभाग का लक्ष्य है कि काउंसिलिंग पूरा कराने के बाद सभी चयनित अभ्यर्थियों के प्रमाण पत्रों की जांच कराकर एक साथ नियुक्ति पत्र दिया जाएगा। वहीं, अभ्यर्थियों का कहना है, 'सरकार देर पर देर कर रही है। प्रक्रिया काफी धीमी चल रही है। जांच से हमें कोई दिक्कत नहीं है। दिक्कत इस बात से है कि सरकार नियुक्ति पत्र देने की समय सीमा निर्धारित नहीं कर रही है।'

90,762 पदों पर छठे चरण के नियोजन की प्रक्रिया चल रही

बता दें, बिहार में प्रारंभिक शिक्षकों के 90,762 पदों पर छठे चरण के नियोजन की प्रक्रिया 2019 में शुरू हुई थी। यह अब तक पूरी नहीं हुई है। इस वर्ष जुलाई और अगस्त में दो राउंड की काउंसिलिंग में 38 हजार से ज्यादा अभ्यर्थियों का चयन हो चुका है, लेकिन उन्हें अब तक नियुक्ति पत्र नहीं मिला है। चयनित अभ्यर्थियों के सर्टिफिकेट शिक्षा विभाग के पास जमा हैं। बिहार में 90 हजार प्राथमिक शिक्षकों की नियोजन प्रक्रिया चल रही है।

गुणवत्ता पूर्ण शिक्षा देना चाहते हैं तो जल्द नियुक्ति पत्र दें

टीईटी एसटीईटी उतीर्ण नियोजित शिक्षक संघ (गोपगुट) के प्रदेश प्रवक्ता अश्विनी पांडेय ने कहा, 'अगर बिहार सरकार सच में बिहार में गुणवत्तापूर्ण शिक्षा चाहती है तो अविलंब सभी टीईटी ,सीटीईटी, एसटीईटी पास अभ्यर्थियों को नियुक्ति पत्र दें। सभी चयनित अभ्यर्थियों को नियोजन पत्र दें। साथ ही साथ बचे अभ्यर्थियों की अविलंब काउंसिलिंग कराई जाएं।'