पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Bihar News ; Muzaffarpur Native 25 Year Old Drishti Kahnani Suicide In IIM Ahmedabad

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

IIM अहमदाबाद में बिहार की बेटी का सुसाइड:सेकंड ईयर की स्टूडेंट थी मुजफ्फरपुर की दृष्टि, स्कूल में टॉपर रही, देश के नामी कॉलेजों में पढ़ी

मुजफ्फरपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
श्रीराम कॉलेज ऑफ़ कॉमर्स और दिल्ली स्कूल ऑफ़ इकोनॉमिक्स जैसे नामी संस्थानों से पढ़ IIM में आई थी दृष्टि। - फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
श्रीराम कॉलेज ऑफ़ कॉमर्स और दिल्ली स्कूल ऑफ़ इकोनॉमिक्स जैसे नामी संस्थानों से पढ़ IIM में आई थी दृष्टि। - फाइल फोटो
  • MBA के सेकंड ईयर की बेहद मेधावी स्टूडेंट थी दृष्टि
  • IIM प्रशासन ने भी गहरी संवेदना जाहिर की है

देश के प्रतिष्ठित प्रबंधन संस्थान IIM, अहमदाबाद में पढ़ रही मुजफ्फरपुर की 25 वर्षीय दृष्टि कहनानी ने सुसाइड कर लिया है। घटना बुधवार की है। दृष्टि का शव IIM के ही पुराने कैंपस स्थित उसके हॉस्टल के कमरे में पंखे से लटकता मिला है। बुधवार की दोपहर तक जब वो अपने कमरे से बाहर नहीं निकली तो उसकी क्लासमेट खोजते हुए उसके डोर्म तक पहुंची। कमरा अंदर से बंद था तो सुरक्षाकर्मियों को जानकारी दी गई। गेट को जब खोला गया तब पंखे से लटकती उसकी लाश मिली। उसके कमरे से न कोई सुसाइड नोट मिला है, न ही सुसाइड जैसा कदम उठाने की कोई ऐसी वजह का अभी तक पता चला है। इस घटना ने पूरे IIM कैंपस को हैरत में डाल दिया है। संस्थान में भी गम का माहौल है। दृष्टि MBA के सेकंड ईयर की बेहद मेधावी स्टूडेंट थी।

मुजफ्फरपुर में टॉपर रही, देश के नामी कॉलेजों में पढ़ी

शहर के पुरानी बाजार निवासी सुनील कहनानी की बेटी दृष्टि पढ़ने में बहुत मेधावी थी। मुजफ्फरपुर के सनशाइन स्कूल की टॉपर रही थी। शहर से इंटरमीडिएट की पढ़ाई पूरी करने के बाद दिल्ली चली गई। वहीं श्री राम कॉलेज ऑफ कॉमर्स और दिल्ली स्कूल ऑफ़ इकोनॉमिक्स से पढ़ाई की। फिर अब IIM, अहमदाबाद में पढ़ रही थी। इस घटना की जानकारी मिलने पर IIM के साथ मुजफ्फरपुर में उसके परिवार समेत जानने वाले भी अचंभित हैं और गमजदा हैं। सहारा इंडिया में कार्यरत सुनील कहनानी अभी मोतीझील इलाके में रहते हैं।

गुरुवार को हुआ अंतिम संस्कार

दृष्टि के सुसाइड की जानकारी मिलते ही पूरा परिवार बुधवार को ही अहमदाबाद पहुंचा। उसके परिवार में पिता सुनील कहनानी, मां कविता कहनानी व छोटा भाई जलग हैं। पुलिस की औपचारिकताओं के बाद उसके शव का गुरुवार को अहमदाबाद में ही अंतिम संस्कार कर दिया गया। दृष्टि के परिजन आज देर रात वापस मुजफ्फरपुर पहुंचेंगे।

पुलिस भी पता लगा रही सुसाइड की वजह

दृष्टि के कमरे से कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है। उसके साथ पढ़ने वालों के अनुसार दृष्टि ने किसी से कभी अपनी निजी जिंदगी से जुड़ी किसी परेशानी या मानसिक तनाव का जिक्र नहीं किया। बुधवार की सुबह वो ब्रेकफास्ट करने मेस में नहीं गई। दोपहर में भी जब वह लंच करने मेस में नहीं पहुंची तो साथियों ने खोजबीन शुरू की थी। शहर के सेटेलाइट पुलिस थाने को बुधवार शाम 4 बजे के करीब घटना की जानकारी दी गई। पुलिस की अब तक की जांच में कोई ठोस वजह सामने नहीं आई है। कैंपस के डॉक्टरों ने भी पुलिस से दृष्टि द्वारा कभी किसी तनाव या कोई अन्य बीमारी की शिकायत नहीं किये जाने की बात कही है। पुलिस मामले में यूडी केस दर्ज कर फिलहाल दृष्टि के मोबाइल की जांच कर रही है।

कुछ हफ्ते से ही कैंपस में थी दृष्टि

IIM प्रशासन ने लॉकडाउन के बाद बीते दो माह से ही उन स्टूडेंट्स को कैंपस में रहने की अनुमति दी है, जिन्हें ऑनलाइन क्लास करने में किसी तरह की दिक्कत आ रही थी। दृष्टि कुछ हफ्ते पहले ही वापस अपने हॉस्टल आई थी। इस दौरान उससे हुई बातचीत में किसी भी साथी कोई ऐसा नहीं लगा कि वो इस तरह का कदम उठा सकती है। उसकी इस तरह मौत पर IIM प्रशासन ने भी परिजनों के साथ गहरी संवेदना जाहिर की है।

खबरें और भी हैं...

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थिति आपके लिए बेहतरीन परिस्थितियां बना रही है। व्यक्तिगत और पारिवारिक गतिविधियों के प्रति ज्यादा ध्यान केंद्रित रहेगा। बच्चों की शिक्षा और करियर से संबंधित महत्वपूर्ण कार्य भी आ...

और पढ़ें