• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Bihar News; NDA United On One Side, Mahagathbandhan On The Other In Bihar Assembly By election

उपचुनाव में NDA एकजुट, विपक्ष में बिखराव:सभी विपक्षी दलों ने उतारे उम्मीदवार; कांग्रेस ने कहा- अब कोई फ्रेंडली फाइट नहीं, तेजस्वी महज RJD के नेता

पटना3 महीने पहलेलेखक: बृजम पांडेय
  • कॉपी लिंक
उपचुनाव में NDA के घटक दल को छोड़कर कांग्रेस और राजद ने अपना-अपना उम्मीदवार उतार दिया है। - Dainik Bhaskar
उपचुनाव में NDA के घटक दल को छोड़कर कांग्रेस और राजद ने अपना-अपना उम्मीदवार उतार दिया है।

बिहार विधानसभा उपचुनाव ने महागठबंधन की पोल खोल दी। अब तेजस्वी यादव के नेतृत्व पर सवाल उठने लगे है। विधानसभा चुनाव 2020 में तेजस्वी CM कैंडिडेट थे, अब उन्हें महागठबंधन का प्रतिपक्ष का नेता भी नहीं माना जा रहा है। कांग्रेस उन्हें सिर्फ RJD का नेता मानती है। RJD ने भी साफ कर दिया कि NDA से एक ही नेता टक्कर ले सकता है वो तेजस्वी यादव हैं। वहीं, NDA के नेता कह रहे हैं- बिहार में महागठबंधन नहीं है।

तारापुर और कुशेश्वरस्थान विधानसभा उपचुनाव में NDA के घटक दल को छोड़कर लगभग सभी दलों ने अपने उम्मीदवार उतारे हैं। सबका लक्ष्य NDA प्रत्याशी को हराना है। से सीटें क्रमश: JDU के मेवालाल चौधरी और शशिभूषण हजारी के निधन के बाद से खाली हैं। यहां पढ़िए उपचुनाव में किसकी किससे लड़ाई है ...

  • RJD की लड़ाई NDA और कांग्रेस से है।
  • कांग्रेस की लड़ाई RJD और NDA से है।
  • JAP की लड़ाई NDA और RJD से है।
  • तेज प्रताप समर्थित उम्मीदवार की लड़ाई NDA, RJD और कांग्रेस से है।
  • पुष्पम प्रिया चौधरी की प्लूरल्स की लड़ाई NDA, RJD और कांग्रेस से है।
  • LJP (रामविलास) की लड़ाई NDA और बाकी महागठबंधन के घटक दलों से है।

कांग्रेस ने कहा- महागठबंधन नहीं लड़ रहा उपचुनाव

कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता असितनाथ तिवारी ने कहा कि कोई महागठबंधन चुनाव नहीं लड़ रहा है। कोई फ्रेंडली फाइट नहीं है। हमारा लक्ष्य NDA और RJD के प्रत्याशी को हराना है। फाइट टाइट है। कुछ लोग फ्रेंडली फाइट की अफवाह फैला रहे हैं। महागठबंधन देश में है या नहीं ये शीर्ष नेतृत्व तय करेगा, लेकिन अभी साफ है कि तेजस्वी यादव RJD नेता के तौर पर काम कर रहे हैं।

RJD ने कहा- हमारा लक्ष्य होना चाहिए कि NDA को कैसे हराएं

RJD प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी कहते हैं कि हमारा लक्ष्य होना चाहिए कि इस चुनाव को कैसे जीतें। NDA को कैसे हराना है। तेजस्वी यादव ही एक मात्र ऐसे नेता हैं जो NDA को धूल चटा सकते हैं। जो लोग खुशफहमी में हैं उनका कोई इलाज नहीं किया जा सकता है। शीर्ष नेतृत्व ने सभी रणनीति को समझते हुए दोनों जगह उम्मीदवार उतारे हैं। तेजस्वी यादव महागठबंधन के नेता हैं और उन्हीं के नेतृत्व में बिहार में सरकार बनेगी। इस उपचुनाव में भी हमारा बड़ी जीत होगी।

लालू परिवार जनता को धोखा देते-देते घटक दलों को भी धोखा देने लगा: BJP

महागठबंधन के इस मामले पर BJP ने तंज कसा है। प्रदेश प्रवक्ता मनोज शर्मा ने कहा कि लालू परिवार अपनी जनता को धोखा देते-देते अपने घटक दलों को भी धोखा देने लगा है। धोखेबाजी में तेजस्वी यादव ने अपने भाई तेजप्रताप को भी नहीं बख्शा है। जिस तरह तेज प्रताप यादव अलग-थलग पड़ गए हैं, इससे साफ है कि तेजस्वी ने अपने रास्ते से बड़े भाई को हटा दिया है। उसी रणनीति के तहत उन्होंने कांग्रेस को भी रास्ते से हटाने की मुहिम छेड़ दी है। अब सिर्फ वाम दल बचे हैं। उसमें भी पहले कांग्रेस ने CPI को नुकसान पहुंचाया है। CPI के नेता कन्हैया कुमार को अपने दल में मिला लिया। बिहार में महागठबंधन नहीं रह गया है। सभी अपनी लड़ाई लड़ रहे हैं, अब तेजस्वी यादव महागठबंधन के नेता नहीं रहे।

खबरें और भी हैं...