बिहार में बारिश, बढ़ी कनकनी:औरंगाबाद, नवादा और रोहतास समेत कई जिलों में गिरे ओले, पटना में 13 MM बारिश

पटना5 महीने पहले
औरंगाबाद में बारिश के साथ गिरे ओले।

साइक्लोनिक सकुर्लेशन के प्रवेश करने और बंगाल की खाड़ी से आ रही नमी की वजह से बिहार में माैसम में बदलाव हुआ है। इसका असर 14 जनवरी तक रह सकता है। 12 जनवरी यानी आज पटना समेत बिहार के ज्यादातर हिस्सों में कहीं हल्की बारिश ताे कहीं मध्यम बारिश हो रही है। पटना में सुबह 8:20 बजे से मध्यम बारिश हो रही है। इसके अलावा सीतामढ़ी, वैशाली, लखीसराय, जहानाबाद, पूर्णिया और बेगूसराय समेत कई इलाके में सुबह साढ़े आठ बजे से ही रुक-रुककर बारिश हो रही है। नवादा, औरंगाबाद, रोहतास में समेत कई जिलों में ओले गिरे। इस ओला बरसात में फसलों को काफी नुकसान का अनुमान है।

पटना से सटे बाढ़, औरंगाबाद, नवादा, नालंदा, अरवल, गया, भोजपुर, रोहतास समेत कई स्थानों पर ओले भी गिरे। इन ओलों के आकार 2 एमएम से 8 एमएम के बीच थे। औरंगाबाद और नवादा में ओला इतना गिरा कि जमीन पर ओले की सफेद चादर सी बिछ गई। नवादा में कश्मीरी फिजा का अहसास लोगों को हुआ। पटना में 13 एमएम बारिश शाम तक हुई। बारिश हाेने और ओले गिरने से कनकनी बढ़ गई।

रोहतास के उत्तरी क्षेत्र में गिरे ओले।
रोहतास के उत्तरी क्षेत्र में गिरे ओले।
पटना सिटी में भी सुबह साढ़े आठ बजे से बारिश शुरू हुई।
पटना सिटी में भी सुबह साढ़े आठ बजे से बारिश शुरू हुई।
पटना के बोरिंग रोड इलाके की तस्वीर।
पटना के बोरिंग रोड इलाके की तस्वीर।
हाजीपुर में सुबह से ही रुक-रुककर बारिश हुई।
हाजीपुर में सुबह से ही रुक-रुककर बारिश हुई।

माैसम विभाग ने एक-दाे स्थानों पर ओला गिरने काे लेकर भी अलर्ट जारी किया है। मंगलवार काे पटना के अलावा बिहार के अधिकतर हिस्सों में आकाश बादल से घिरा रहा। माैसम साफ नहीं हाेने से न्यूनतम पारा बढ़ गया जबकि अधिकतम पारा में गिरावट दर्ज की गई।

औरंगाबाद में गिरे ओले।
औरंगाबाद में गिरे ओले।
जहानाबाद में बारिश के बाद की तस्वीर।
जहानाबाद में बारिश के बाद की तस्वीर।

15 जनवरी काे माैसम साफ हाेने की संभावना
कोल्ड डे ताे नहीं रहा पर कोल्ड डे की तरह हालात बने रहे। मौसम वैज्ञानिक के अनुसार, 15 जनवरी काे माैसम साफ हाेने की संभावना है। उसके बाद कनकनी बढ़ेगी। मंगलवार काे नवादा, औरंगाबाद, भभुआ, डेहरी, मोतिहारी, दाउदनगर, कैमूर आदि में बारिश हुई। सबसे अधिक बारिश औरंगाबाद में 7.2 एमएम दर्ज की गई।