• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Bihar News; Sanitation Workers Threw Dead Animals On Roads In Patna Increased Risk Of Infection, Efforts To End The Strike Failed

बिहार में सफाई कर्मियों की हड़ताल जारी:पटना में बीच सड़क मरे जानवर फेंककर बढ़ाया संक्रमण का खतरा, हड़ताल खत्म कराने के प्रयास फेल; आज फिर होगी बातचीत

पटनाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पटना के छज्जू बाग में पुलिस लाइन के पास सफाई कर्मियों ने कूड़े में मरा जानवर फेंका। - Dainik Bhaskar
पटना के छज्जू बाग में पुलिस लाइन के पास सफाई कर्मियों ने कूड़े में मरा जानवर फेंका।

बिहार में सफाई कर्मियों की हड़ताल से अब संक्रमण का खतरा बढ़ रहा है। सरकार पर दबाव बनाने के लिए सफाई कर्मियों ने शहरों में जगह-जगह मरे हुए जानवर फेंक दिए हैं। सड़े हुए जानवरों से लोगों की हालत खराब हो गई है। राजधानी पटना के अटल पथ, सगुना मोड, बेली रोड, पाटलिपुत्रा और पुलिस लाइन के पास फेंके गए सड़े जानवरों से बीमारी का खतरा बढ़ गया है। नगर वासियों को इससे मुक्ति दिलाने का प्रयास भी पूरी तरह से फेल हो रहा है। शनिवार को प्रधान सचिव की वार्ता में भी हड़ताल को नहीं खत्म कराया जा सका है। बिहार लोकल बॉडीज कर्मचारी संयुक्त संघर्ष मोर्चा ने हड़ताल जारी रखने की बात कही है। सफाई कर्मी पिछले पांच दिनों से हड़ताल पर हैं।

मांग पूरी नहीं होने तक चलेगी हड़ताल
पटना नगर निगम संयुक्त कर्मचारी समन्वय समिति और बिहार लोकल बॉडीज कर्मचारी संयुक्त संघर्ष मोर्चा के अध्यक्ष चंद्र प्रकाश सिंह ने बिहार के नगर निकाय के कर्मियों की 12 सूत्री लंबित मांगों पर प्रधान सचिव नगर विकास एवं आवास विभाग के कार्यालय कक्ष में वार्ता हुई है। कहा है कि सभी बिंदुओं पर चर्चा हुई लेकिन दैनिक मजदूरों का नियमितीकरण, समान काम समान वेतन अथवा 18000 से लेकर 21000 रूपए तक महावारी वेतन आदि की मांग को लेकर वार्ता रविवार को होगी। ऐसी स्थिति में बिहार के नगर निकायों में चल रही अनिश्चितकालीन हड़ताल जारी रहेगी।

सफाई कर्मियों ने कहा- आश्वासन से नहीं चलेगा काम
सफाई कर्मियों ने कहा है कि हर बार केवल आश्वासन मिलता है। इस बार इससे काम नहीं चलने वाला है। सरकार को मांगों पर विचार करना होगा। जब तक मांग मानी नहीं जाती है तब तक हड़ताल जारी रहेगी। बिहार लोकल बॉडीज कर्मचारी संयुक्त संघर्ष मोर्चा के अध्यक्ष चंद्र प्रकाश सिंह,महामंत्री अमृत प्रसाद एवं श्यामलाल प्रसाद ने कहा कि बिहार के नगर निकायों में जारी हड़ताल का मुख्य मुद्दा ग्रुप "डी" के पदों को पुनर्जीवित करना, दैनिक मजदूरों का नियमितीकरण,आउटसोर्स पर रोक, नगर निकायों के स्तर पर ग्रुप "सी" का नियंत्रण एवं अनुकंपा पर नियुक्ति को शीघ्र प्रारंभ करना है। इन प्रमुख मांगों पर जब तक सरकार फैसला नहीं करती है, तब तक इस हड़ताल को किसी भी परिस्थिति में स्थगित नहीं किया जा सकता है।

प्रधान सचिव ने मांग मानी तो खत्म होगी हड़ताल
शनिवार को दो दौर की वार्ता के बावजूद वर्षों से कार्यरत सफाई मजदूरों की नियुक्ति एवं वेतनमान से संबंधित मामले पर सहमति नहीं बन पाई है। अब आज फिर वार्ता होगी। अगर प्रधान सचिव मांग मान लेते हैं तो रविवार की शाम तक सफाई कर्मचारी काम पर वापस लौट सकते हैं। शनिवार को वार्ता में पटना के नगर आयुक्त हिमांशु शर्मा, निदेशालय प्रशासन, नगर विकास के निदेशक सतीश कुमार सिंह एवं वेद प्रकाश के अतिरिक्त बिहार लोकल बॉडीज इम्पालईज फेडरेशन, बिहार राज्य स्थानीय निकाय कर्मचारी महासंघ एवं पटना नगर निगम संयुक्त कर्मचारी समन्वय समिति की ओर से अमृत प्रसाद, श्यामलाल प्रसाद, अशोक कुमार सिंह, आर एन ठाकुर,शिव बच्चन शर्मा, चंद्र किशोर, ब्रहमदेव महतो, मंगल पासवान एवं अशोक राय आदि उपस्थित थे। रविवार को फिर इस टीम के बीच वार्ता होगी। इसके बाद हड़ताल जारी रखने या फिर खत्म करने का फैसला लिया जाएगा।

खबरें और भी हैं...