• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Bihar News ; Tejashwi Yadav Will Raise Inflation Unemployment And Corruption Issues In Tarapur And Kusheshwar Asthan By election

बिहार के उपचुनाव में रहेंगे RJD के तीन पुराने मुद्दे:महंगाई, बेरोजगारी और भ्रष्टाचार पर ही BJP-JDU को घेरेंगे तेजस्वी; विधानसभा चुनाव में भी इसी से दिया था '15 साल' का जवाब

पटनाएक महीने पहले

बिहार में तारापुर और कुशेश्वरस्थान सीट में उपचुनाव हो रहे हैं। राजनीतिक पार्टियां इसमें अपनी ताकत झोंक रही हैं। स्टार प्रचारकों को उतार रही हैं। राष्ट्रीय जनता दल ने साफ कर दिया है कि इस चुनाव में सबसे बड़े मुद्दे तीन होंगे- महंगाई, बेरोजगारी और भ्रष्टाचार। राजद ने विधानसभा चुनाव भी इसी मुद्दे पर लड़ा था। सत्ता पक्ष, लालू-राबड़ी के 15 साल-15 साल की रट लगाता रहा, लेकिन तेजस्वी यादव ने अपने मुद्दे को कभी छोड़ा नहीं। उसे हर चुनावी सभा में दुहराते रहे।

मंगलवार को विगत चुनाव के प्रत्याशियों, पूर्व विधायकों और पार्टी के विभिन्न प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्षों के साथ तेजस्वी यादव ने विचार विमर्श किया। बाद में उन्होंने सोशल मीडिया पर लिखा - डबल इंजन सरकार में जनता जानलेवा महंगाई, बेरोजगारी और भ्रष्टाचार से त्रस्त है।

मंगलवार को पार्टी के विभिन्न स्तर के नेताओं के साथ तेजस्वी ने उपचुनाव को लेकर विचार विमर्श किया। तेजस्वी की मीटिंग में मौजूद राजद नेता।
मंगलवार को पार्टी के विभिन्न स्तर के नेताओं के साथ तेजस्वी ने उपचुनाव को लेकर विचार विमर्श किया। तेजस्वी की मीटिंग में मौजूद राजद नेता।

खाली सरकारी पदों पर भर्ती का मुद्दा
तेजस्वी ने कहा कि विपक्ष पहले ही राज्य सरकार से डीजल-पेट्रोल पर टैक्स हटाने की अपील कर चुका है। CM नीतीश कुमार यह कहकर खारिज कर चुके हैं कि कोरोना की वजह से आर्थिक भार बढ़ा हुआ है। रसोई गैस, कुकिंग ऑइल से लेकर पेट्रोल की कीमत बढ़ ही रही हैं। आम लोगों का जीना दुश्वार है। बेरोजगारों की फौज बढ़ती जा रही है और सरकार में जितने पद रिक्त हैं उस हिसाब से नौकरी नहीं निकाली जा रही है।

शिक्षा व्यवस्था पर भी चिंतित है राजद
राजद के प्रवक्ता चित्तरंजन गगन कहते हैं कि शिक्षक बहाली का हाल सामने है। कई जगह नियोजन रद्द करना पड़ा है। नियुक्ति पत्र, सर्टिफिकेट वैरिफिकेशन का इंतजार कर रहा है। यूनिवर्सिटी का हाल इतना बुरा है कि मगध यूनिवर्सिटी में ओरिजिनल सर्टिफिकेट निकालने के लिए आपको नाको चने चबाने पड़ेंगे। कोई समय सीमा है ही नहीं।

जमीन से जुड़े मामलों की भरमार मुख्यमंत्री के जनता दरबार में भी दिख रहा है। दाखिल-खारिज के लिए भी फूल-माला लेकर लोगों को कर्मचारियों के पास जाना पड़ रहा है। वे कहते हैं कि हाहाकार की स्थिति है। जनता चारों तरफ से त्रस्त है, इसलिए बदलाव तय है।

उन्होंने कहा कि नेता प्रतिपक्ष उपचुनाव में लोगों को बताएंगे कि भाजपा और जदयू की सरकार महंगाई रोकने, बेरोजगारी घटाने और भ्रष्टाचार से निपटने में कितनी फेल्योर है। वे यह भी बताएंगे कि उपचुनाव में दो सीट की जीत का असर कैसा होगा।

खबरें और भी हैं...