• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Bihar Niyojit Teacher Protest (Andolan) Update; Today We Will Meet Education Department And Minister

नियोजित शिक्षक अभ्यर्थी आंदोलन:खुले आसमान में रात भर धरना देना था मुश्किल, अभ्यर्थियों ने जहां-तहां रहकर गुजारी रात, शिक्षा मंत्री से आज करेंगे मुलाकात

पटना2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
बुधवार की रात अभ्यर्थियों को संबोधित करते तेजस्वी यादव। - Dainik Bhaskar
बुधवार की रात अभ्यर्थियों को संबोधित करते तेजस्वी यादव।
  • संगठन ने शिक्षा मंत्री के रवैये को लेकर नाराजगी जताई, लाठीचार्ज के बावजूद नहीं आया कोई बयान
  • तेजस्वी यादव की ओर से बातचीत करने के बाद धरना देने की मिली अनुमति

गर्दनीबाग धरना स्थल पर नियोजित शिक्षक अभ्यर्थियों को बुधवार की रात गुजारनी बेहद मुश्किल हो गई। कड़ाके की ठंड में टेंट-शामियाना लगाकर नियोजित शिक्षक डेरा डाले हुए थे। लेकिन पुलिस की ओर से टेंट हटाने की वजह से वहां रूकना असंभव हो गया। नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव के साथ नियोजित शिक्षक अभ्यर्थी धरना स्थल पर बुधवार की रात पहुंच तो गए थे। लेकिन रूकने का इंतजाम नहीं हो सका। राजधानी के अलग-अलग मोहल्लों में नियोजित शिक्षक अभ्यर्थियों ने किसी तरह रात बिताई। बुधवार की रात 11 बजे संगठन के नेताओं की मुलाकात प्रशासनिक अफसरों से हुई। इसके बाद 21 जनवरी को सुबह 10 बजे से धरना देने से जुड़ा परमिशन वाला कागज इन्हें मिला।

शिक्षा मंत्री का नहीं आया कोई बयान

संगठन नेत्री मुन्नी शु्क्ला ने भास्कर को बताया कि शिक्षा विभाग के अफसरों से भी उनकी बात करायी गई। उन्होंने अफसरों को जानकारी दी कि नियोजन प्रक्रिया में अभ्यर्थियों को किस तरह परेशान किया जा रहा है। संगठन का एक शिष्ट मंडल सचिवालय में विभाग के अफसरों से मुलाकात करेगा और मांग पत्र सौंपेगा। संगठन का कहना है कि वे पहले भी अफसरों को मांग पत्र सौंप चुके हैं। मांग जब नहीं मानी गई तब इन्होंने धरना दिया था जिसमें लाठीचार्ज किया गया। संगठन ने शिक्षा मंत्री के रवैये को लेकर नाराजगी जताई है। चार दिनों से चल रहे आंदोलन और लाठीचार्ज के बाद भी शिक्षा मंत्री का कोई बयान नहीं आया है। संगठन ने शिक्षा मंत्री से मुलाकात करने की भी बात कही है।

धरना- प्रदर्शन लोकतांत्रिक अधिकारः तेजस्वी
नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने अभ्यर्थियों को फिर से धरना देने के लिए बुधवार की रात को मुख्य सचिव और जिलाधिकारी से बात की थी। वे ईको पार्क से धरना स्थल तक अभ्यर्थियों के साथ गए थे। उन्होंने यह भी कहा था कि कि पढ़ाई, दवाई, कमाई, सिंचाई, सुनवाई हमारा मुख्य मुद्दा है। बेरोजगारों, छात्रों, शिक्षकों, नौजवानों और किसानों के समर्थन में हूं और हमेशा रहूंगा। विपक्ष में रहते हुए भी बेरोजगार साथियों को नौकरी दिलाने के लिए प्रतिबद्ध हूं। इतनी ठंड में आंदोलनरत शिक्षक अभ्यर्थियों पर मुख्यमंत्री ने लाठीचार्ज करा उनकी रसोई और पंडाल को उखाड़ दिया था। कुछ को गिरफ़्तार किया था, जिन्हें रात में छुड़वाया गया।

नेता प्रतिपक्ष का सरकार से सवाल

  • सरकार कैसे उन्हें अनुमति नहीं दे सकती?
  • प्रशासन कैसे निर्दोष युवाओं, महिलाओं और दिव्यांगों पर लाठीचार्ज कर सकता है?
  • हाईकोर्ट के आदेश के बावजूद क्यों 94000 अभ्यर्थियों को नियुक्ति पत्र नहीं दिया जा रहा?
  • शिक्षा मंत्री क्यों अपने घर में दुबके बैठे हैं?
  • दो-दो उपमुख्यमंत्री और मुख्यमंत्री 94000 अभ्यर्थियों की नियुक्ति पर क्यों नहीं बोल रहे हैं?

शुक्रवार को भी गर्दनीबाग में धरना

नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव की पहल के बाद नियोजित शिक्षक अभ्यर्थियों को गर्दनीबाग धरना स्थल में फिर से बैठने की अनुमति मिल गई। गुरुवार को सुबह 10 बजे से शाम 4 बजे तक सैकड़ों अभ्यर्थियों ने गर्दनीबाग में धरना दिया, लेकिन सरकार की ओर से इन्हें कोई सकारात्मक जवाब नहीं मिला। अभ्यर्थियों ने तय किया है कि वे शुक्रवार को भी गर्दनीबाग धरना स्थल पर धरना देंगे। बिहार TET-2017/CTET उत्तीर्ण अभ्यर्थी संगठन के अध्यक्ष राजेन्द्र सिंह और अन्य दो नेता दोपहर में तेजस्वी यादव से मिलने राबड़ी आवास पर पहुंचे। मुलाकात के बाद तय हुआ कि आंदोलन लगातार जारी रहेगा। मांगें पूरी होने का आश्वासन जब तक सरकार से मिल नहीं जाता तब तक धरना भी जारी रहेगा। माले विधायक और इनौस के राष्ट्रीय अध्यक्ष मनोज मंजिल गुरुवार को धरनास्थल पर पहुंचे और उनके आंदोलन का समर्थन किया। कहा कि आने वाले विधानसभा सत्र में इस मसले को महागठबंधन एकजुट होकर मजबूती से उठाएगा। साथ ही, शिक्षा व रोजगार के सवाल पर विधानसभा का घेराव भी किया जाएगा।

खबरें और भी हैं...