• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Bihar Police Headquarter Suspends SI ASI In Katihar Father Carrying Son Dead Body In Plastic Bag Case

भास्कर की खबर का असर:बेटे का शव प्लास्टिक की बोरी में भर ले गया था पिता, पुलिस मुख्यालय ने दारोगा-ASI को किया निलंबित

पटना9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बीते 3 मार्च को इस तरह अपने बेटे का शव ले जाते पिता की तस्वीरें वायरल हुई थीं। - Dainik Bhaskar
बीते 3 मार्च को इस तरह अपने बेटे का शव ले जाते पिता की तस्वीरें वायरल हुई थीं।
  • गोपालपुर थाना के दारोगा राजदेव रमन व कुर्सेला थाना के ASI नंदलाल चौधरी पर कार्रवाई
  • बिहार पुलिस मुख्यालय ने माना - मामले में इनका व्यवहार अनुचित व संवेदनहीन

एक पिता द्वारा अपने 13 साल के बेटे के क्षत-विक्षत शव को प्लास्टिक की बोरी में भरकर ले जाने के मामले में भास्कर की खबर का बड़ा असर हुआ है। बिहार पुलिस मुख्यालय ने इस मामले में संवेदनहीनता दिखाने वाले एक दारोगा व एक ASI को निलंबित कर दिया है। भास्कर ने दो दिन पहले 5 मार्च को खबर प्रकाशित की थी जिसमें बताया था कि कटिहार में बेटे का क्षत-विक्षत शव देख जिस पिता पर दुखों का पहाड़ टूटा उसे पुलिस के अमानवीय व्यवहार ने तोड़ कर रख दिया। इसके बाद वह पिता बेटे के शव को प्लास्टिक की बोरी में भरकर पैदल ही थाने की ओर चल पड़ा। इस घटना की वीडियो और तस्वीरें सोशल मीडिया पर भी वायरल हो गई थीं।

दो थानों के दो पुलिसकर्मी निलंबित

बिहार पुलिस मुख्यालय ने इस मामले में कार्रवाई करते हुए गोपालपुर थाना के दारोगा राजदेव रमन और कुर्सेला थाना के ASI नंदलाल चौधरी को निलंबित किया है। मुख्यालय का कहना है कि मामला सामने आने के बाद कटिहार सदर SDPO से जांच कराई गई थी। जांच में पाया गया कि गंगा घाट पर मिले शव की पहचान के बाद उसे अपने संरक्षण में न लेकर इन पुलिस पदाधिकारियों ने पिता को खुद ही उसे भागलपुर सदर अस्पताल ले जाने को कहा। यह व्यवहार अनुचित व संवेदनहीन है। इसलिए दोनों को तत्काल निलंबित किया जाता है।

26 फरवरी से गायब किशोर का 3 मार्च को मिला शव

भागलपुर के करारी तीनटंगा गांव निवासी लेरू यादव के पुत्र हरिओम की 26 फरवरी को गंगा पार करने के दौरान डूबने से मौत हुई थी। शव बहते हुए कटिहार के कुरसेला पहुंच गया था। 3 मार्च को कटिहार के खेरिया गंगाघाट पर एक अज्ञात शव मिलने की सूचना पर गोपालपुर के साथ-साथ कुर्सेला थाना की पुलिस भी मौके पर पहुंची। साथ ही गंगा में डूबे पुत्र की खोज में जुटे लेरू यादव और परिजन गंगा घाट पहुंचे। इन पांच दिनों में शव बुरी तरह से सड़-गल चुका था। शव को कुत्तों ने नोचकर खा लिया था। ऐसे में उसकी पहचान मुश्किल थी। हालांकि घाट पहुंचे लेरू यादव ने शव का दांत और सिर के पीछे के निशान को देखकर पहचान लिया। उसने पहले गोपालपुर थाना में बेटे की गुमशुदगी का​​​​​​​ सनहा दर्ज करवाया था।

शव को थाने ले आने की बात कह निकल गए थे पुलिसवाले

गंगा घाट पर शव की पहचान होने के बाद दोनों थानों की पुलिस मृतक के परिजनों को लाश लेकर थाना आने की बात कह निकल गई। लेरू यादव को बेटे का शव ले जाने के लिए कोई वाहन नहीं मिला। वह बेटे के शव को प्लास्टिक के थैले में ​​​​​​​भर परिजनों के साथ हाथ में टांगे पैदल ही निकल पड़ा और 3 किलोमीटर तक चलता रहा। बाद में कुरसेला बाजार से किसी और साधन से गोपालपुर थाने के लिए निकल पड़ा। इतनी देर तक दोनों थानों की पुलिस संवेदनहीन बनी रही। थाना पहुंचने पर पुलिस ने कागजी कार्रवाई और खानापूर्ति करते हुए शव को पोस्टमार्टम के लिए भागलपुर भेज दिया।

गलती हुई होगी तो की जाएगी कार्रवाई

मामला सामने आने के बाद कटिहार सदर​​​​​​​ SDPO अमरकांत झा ने कहा था कि यह भागलपुर के गोपालपुर थानाक्षेत्र का मामला है। विस्तृत जानकारी वहां की पुलिस ही बता पाएगी। अगर स्थानीय पुलिस से गलती हुई होगी तो पुलिसकर्मी पर कार्रवाई की जाएगी।