पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Bihar Politics News; Report On 6 LJP MPs Missing From Their Constituenties During Covid Pandemic

कोरोनाकाल में लोजपा के सांसद लापता:चिराग पासवान समेत अपने 6 सांसदों को ढूंढ रही है जनता, लेकिन क्षेत्र में दिखाई नहीं दिया LJP का कोई भी सांसद

पटना2 महीने पहलेलेखक: अमित जायसवाल
  • कॉपी लिंक
लोजपा के चिराग पासवान, चाचा पारस नाथ पासवान, चचेरे भाई प्रिंस राज समेत कुल 6 सांसद हैं। संकट की इस घड़ी में एक भी सांसद अपने इलाके में गए नहीं। - Dainik Bhaskar
लोजपा के चिराग पासवान, चाचा पारस नाथ पासवान, चचेरे भाई प्रिंस राज समेत कुल 6 सांसद हैं। संकट की इस घड़ी में एक भी सांसद अपने इलाके में गए नहीं।

सवाल उठ रहा है कि क्या बिहार विधानसभा चुनाव हारने के बाद लोक जन शक्ति पार्टी के नेताओं का राज्य की जनता से मोह भंग हो गया है? अगर ऐसा नहीं है तो कोरोना की दूसरी लहर शुरू होने के पहले से लेकर अब तक कहां हैं? लोजपा के चिराग पासवान, इनके चाचा पारस नाथ पासवान, चचेरे भाई प्रिंस राज, महबूब अली कैसर, चंदन सिंह और वीणा देवी समेत कुल 6 सांसद हैं। संकट की इस घड़ी में एक भी सांसद अपने इलाके में गए नहीं। जिन लोगों ने अपना कीमती वोट देकर इन्हें देश की संसद का सदस्य बनाया, उन तक मदद पहुंचाने के लिए कोई ठोस कदम नहीं उठाया। परेशान होने के लिए उन्हें छोड़ दिया गया। जबकि, इन सबकी राजनीति बिहार के ऊपर ही टिकी है। विधानसभा चुनाव के ठीक पहले 'बिहार फर्स्ट और बिहारी फर्स्ट' का नारा भी चिराग पासवान की तरफ से दिया गया था।

बिहार के 40 संसदीय क्षेत्रों से ग्राउंड रिपोर्ट: कोरोना में LJP सबसे निष्क्रिय पार्टी

  • चिराग पासवान

लोक जनशक्ति पार्टी की कमान संभालने के साथ ही जमुई के सांसद हैं। लंबे वक्त से दिल्ली में ही हैं। कुछ दिनों पहले अपने सोशल अकाउंट के जरिए इन्होंने अपनी बीमार हालत की फोटो पोस्ट की थी। कोरोना का शक था, लेकिन टायफाइड हो गया था। कहा जा रहा है कि अभी मूवमेंट नहीं कर सकते हैं। इनके और पार्टी की तरफ से अक्सर दावा किया जाता कि वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए अक्सर अपने इलाके के लोगों से कनेक्ट रहते हैं। सांसद निधि फंड से दो एंबुलेंस भी स्थानीय लोगों की मदद के लिए जिला प्रशासन को दी है।

जनता की बात
रिटायर्ड टीचर अशोक कुमार कहते हैं कि जमुई में हैं ही नहीं तो काम क्या करेंगे। कोई प्रतिनिधि या इनकी पार्टी का कोई कार्यकर्ता दिखता ही नहीं है। जिले में 70 से अधिक लोग मर चुके हैं। काफी लोग बीमार हैं। एक जनप्रतिनिधि होने के नाते चिराग पासवान की तरफ से कोई मदद नहीं मिली। उन्हें जनता के लिए खड़ा होना चाहिए था। लोगों को अधिक से अधिक मेडिकल सेवा उपलब्ध करानी चाहिए थी। मजदूरों और गरीबों के लिए खाने-पाने की व्यवस्था करानी चाहिए थी। दुर्भाग्य है कि ऐसे टाइम में वो नहीं आए।

अशोक कुमार।
अशोक कुमार।
  • पशुपति नाथ पारस

पूर्व केंद्रीय मंत्री राम विलास पासवान की लोकसभा सीट हाजीपुर से सांसद हैं। बड़े भाई की तरह ही लोगों ने इनसे उम्मीद जताई थी। इन्हें लेकर हाजीपुर की जनता में काफी नाराजगी है। 25 लाख रुपया अपने संसदीय कोष से जिला प्रशासन को दिया भी। पटना में रहते हुए भी लंबे वक्त से अपने इलाके की जनता के लिए गायब हैं।

बात जनता की
वैशाली चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंड्रस्टीज के उपाध्यक्ष रामानंद गुप्ता के अनुसार सांसद के रूप में पशुपतिनाथ पारस पूरी तरह से फेल हैं। सांसद बनने के बाद से लापता हैं। चुनाव जीतने के बाद से हाजीपुर नहीं आए। उनसे कोई उम्मीद नहीं है। कोरोना काल में सिर्फ एक वर्चुअल मीटिंग जिला प्रशासन के साथ उन्होंने किया। इसके अलावा कुछ नहीं। सांसद कोष से 25 लाख रुपए जिला प्रशासन को दिए पर उसका कोई उपयोग नहीं हुआ।

रामानंद गुप्ता।
रामानंद गुप्ता।
  • प्रिंस राज

चिराग पासवान के चचेरे भाई होने के साथ ही समस्तीपुर के सांसद हैं। युवा नेताओं से जनता को काफी सारी उम्मीदें होती हैं। लेकिन, लंबे वक्त से ये भी गायब हैं। पिछले 15 दिनों से दिल्ली में हैं। पार्टी का दावा है कि अपने संसदीय क्षेत्र के एक-एक प्रखंड अध्यक्ष से वीसी के जरिए जुड़ते हैं और पब्लिक के तक मदद पहुंचाने को कहते हैं।

बात जनता की
ताजपुर रोड में शम्भूपट्‌टी गांव के रहने वाले विकास कुमार सिंह के अनुसार सांसद प्रिंस राज का कोई काम दिखता नहीं है। कोरोना काल में किसी प्रकार की कोई गतिविधि उनकी नहीं दिखी है। चुनाव जीतने के बाद एक्टिव नहीं हैं। बहुत आश्चर्यजनक बात है कि काम तो छोड़ दीजिए, उनका एक मैसेज भी नहीं मिला। सांसद निधि कोष से भी कुछ नहीं किया। स्थानीय नेता और कार्यकर्ता के जरिए वो आम आदमी तक मदद पहुंचा सकते थे। हो सकता है कि बिहार विधान सभा चुनाव में उनकी पार्टी हार गई तो उनका मोह भंग हो गया हो। इसलिए वो गायब हैं।

विकास कुमार सिंह।
विकास कुमार सिंह।
  • महबूब अली कैसर

खगड़िया से दो बार सांसद चुने गए। लेकिन, पूरी तरह से सक्रिय नहीं रहे। इस बात की शिकायत वहां की जनता को बड़े पैमाने पर है। पटना में रहते हुए भी ये पूरी तरह से एक्टिव नहीं है। लंबे वक्त पर अपने संसदीय इलाके में जाते हैं। कोरोना काल में भी अपने इलाके के लोगों की कोई खोज खबर नहीं ली।

बात जनता की
इलाके के निवासी प्रदीप यादव कहते हैं, दूसरा टर्म है सांसद का। ग्राउंड लेवल पर काम जीरो है। कोरोना के इस पीरियड में नहीं दिखे हैं। आश्वासन के तौर पर सांसद प्रतिनिधि बनाए हैं। लेकिन कोई काम नहीं है। आम दिनों में खगड़िया के स्टेशन रोड का हाल बदहाल है। कोरोना में स्थिति बहुत भयावह था। सदर हॉस्पिटल में ऑक्सीजन की कमी थी। लोगों को बेगूसराय और पटना सीधे रेफर किया जाता है। हॉस्पिटल के नाम पर कोई व्यवस्था नहीं है। कोरोना टेस्ट भी सही से नहीं हो रहा है। एक बार वर्चुअल मीटिंग में जुडे़, इसके अलावा कुछ नहीं किए।

प्रदीप यादव।
प्रदीप यादव।
  • वीणा देवी

वैशाली की सांसद हैं। मुजफ्फरपुर में ही रहती हैं। पार्टी दावा करती हैं कि महिला सांसद अपने घर से रहकर अपने इलाके में मॉनिटरिंग कर रही हैं। वहीं से बैठकर वो सबकुछ देख रही हैं।

बात जनता की
वैशाली के साहेबगंज इलाके के रहने वाले किंग यादव कहते हैं कि कुछ एक्टिव नहीं है। बाढ़ हो या कोरोना, किसी में नहीं दिखी। इनका कार्यकर्ता भी नहीं सामने आया। कोई पूछने वाला नहीं है। 6 विधानसभा है, कहीं नहीं गई। वैशाली की जनता पूरी तरह बेहाल रही। सोशल नेटवर्क के माध्यम से कोरोना पीड़ितों का इलाज हुआ, लेकिन इन लोगों की तरफ से कोई मदद नहीं मिली। बतौर सांसद कोई हेल्पलाइन नंबर भी जारी नहीं किया। सांसद निधि से एक भी एंबुलेंस अपने क्षेत्र में उनकी तरफ से नहीं दिए गए।

किंग यादव।
किंग यादव।
  • चंदन सिंह

नवादा से सांसद होने के साथ ही बाहुबली नेता सूरजभान सिंह के छोटे भाई हैं। पार्टी बताती है कि पटना में रहकर वो अपने इलाके की जनता का ख्याल रख रहे हैं। कुछ दिनों पहले तक बीमार थे, फिर भी इलाके के लोगों का ख्याल रख रहे थे।

बात जनता की
नवादा के हिसुआ इलाके के रहने वाले पिंटू का कहना है कि पूरे कोरोना काल में अब तक एक बार आए, सुचारू रूप से काम कराए। फोन करने पर कोई मदद मांगता है तो उन्हें मदद करवा देते हैं। एंबुलेंस की सुविधा मिली है। क्षेत्र के लिए एक हेल्पलाइन जारी करवा दिए हैं। उसी पर लोग कॉल करते हैं और उन्हें मदद मिल जाती है।

पिंटू।
पिंटू।
  • लोजपा का दावा - हर सांसद और नेता हैं एक्टिव

इस पूरे मामले पर लोजपा के प्रदेश प्रवक्ता राजेश भट्‌ट का कहना है कि उनके पार्टी के सभी सांसद व नेता अपने इलाके में लगातार नजर रख रहे हैं। सरकार के गाइडलाइंस का पालन करते हुए आम लोगों तक मदद पहुंचा रहे हैं। जरूरतमंद लोगों की पूरी मदद कर रहे हैं। बीमार होते हुए भी राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान वीडियो कांफ्रेंसिंग और मोबाइल के जरिए लगातार नेताओं और कार्यकताओं से बात कर रहे हैं और जनता तक हर जरूरी सुविधाएं पहुंचाने को कह रहे हैं। पार्टी के कार्यकर्ता उनके निर्देशों के तहत काम कर रहे हैं।

खबरें और भी हैं...