पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Bihar Politics What Next?; Nitish Kumar Cabinet Expansion To Mukesh Sahni Will Contest Mlc Elections

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

अगले 4 दिन NDA के निर्णायक:नन मैट्रिक के कारण परिषद चुनाव में मुकेश सहनी तो उतरेंगे ही, MLA टिकट के लिए उतरी में बुलाए गए ठाकुर पर अड़ेगी BJP

पटना12 दिन पहलेलेखक: बृजम पांडेय
  • कॉपी लिंक

बिहार की राजनीति में अगले 4 दिन बेहद निर्णायक हैं। मंत्रिमंडल विस्तार, विधान परिषद् की मनोनयन वाली 12 सीटें और चुनाव वाली 2 सीटें- इन 3 मुद्दों पर NDA का निर्णय सामने आना है और उससे राजनीति ठंडी या गरम होगी। फिलहाल विधान परिषद् की चुनाव वाली 2 सीटों को लेकर चल रहा गतिरोध कुछ संभलता दिख रहा है। JDU मंत्री डॉ. अशोक चौधरी को MLC चुनाव में उतारने पर अड़ा नहीं रहा तो BJP अपने दो MLC के इस्तीफे से खाली हुई इन सीटों पर अपने कोटे से ही नाम देगी। एक नाम मंत्री और VIP प्रमुख मुकेश सहनी का होगा और दूसरा मिथिलांचल के घनश्याम ठाकुर का। 18 जनवरी तक इस चुनाव के लिए नामांकन होना है और स्पष्ट बहुमत के कारण NDA की दोनों सीटों पर जीत भी तय है।

सुशील मोदी और विनोद नारायण झा वाली सीटें हैं यह

भाजपा के सुशील मोदी और विनोद नारायण झा के बिहार विधान परिषद से इस्तीफा देने के बाद खाली सीटों के लिए नामांकन 11 जनवरी से ही होना था, लेकिन खरमास के कारण अबतक किसी ने नामांकन नहीं किया है। 15 जनवरी से शुभ काम की शुरुआत होगी और संभव है कि नामांकन भी शुरू हो जाए। परिषद की इन दो सीटें भाजपा की थीं, इसलिए पार्टी इसे JDU के खाते में डालने को तैयार नहीं है। JDU को मंत्री डॉ. अशोक चौधरी के लिए एक सीट चाहिए थी, लेकिन वह विनोद नारायण झा वाली सीट लेने से हिचक रहा है।

18 और 41 महीने की सीटें हैं, 122 वोट से होगी जीत

भाजपा के विनोद नारायण झा ने MLA चुनाव जीतने के बाद 11 नवंबर 2020 को इस्तीफा दिया था। इनका टर्म 21 जुलाई 2022 तक था। वहीं राज्यसभा भेजे जाने के कारण सुशील कुमार मोदी ने 9 दिसंबर 2020 को MLC पद से इस्तीफा दिया था। इनका टर्म 6 मई 2024 तक था। मतलब, विनोद नारायण झा वाले टर्म में 18 महीने और सुशील मोदी वाले टर्म में 41 महीने बचे हैं। दोनों सीटों के लिए चुनाव होना तो है, लेकिन वोटिंग अलग-अलग होनी है। चुनाव की नौबत आई तो सभी 243 MLA को दोनों को अलग-अलग वोट देना होगा। जीत 122 पर निर्धारित होगी और सत्तारूढ़ NDA के पास 125 विधायक हैं। यानी, सत्ता की जीत पक्की है।

सुमो की सीट पर मुकेश सहनी उतरेंगे, दो वजहें हैं

सत्तारूढ़ NDA के घटक VIP के अध्यक्ष मुकेश सहनी भाजपा कोटे से मंत्री बन चुके हैं। MLA चुनाव हार चुके सहनी को सदन तक पहुंचाना भी भाजपा की जिम्मेदारी है। चुनाव में NDA की सीटें भाजपा-जदयू में बंटी थीं। इनमें जदयू ने HAM को और भाजपा ने VIP को अपने खाते से सीटें दी थीं। सहनी को नन मैट्रिक हैं और राज्यपाल के मनोनयन वाली सीटों पर दावेदारी के लिए उनके पास किसी क्षेत्र की विशेषज्ञता नहीं है, इसलिए चुनाव में उतरना उनकी मजबूरी है। भाजपा उन्हें इसी कारण चुनाव में उतारने को मजबूर है। सुमो वाली सीट का कार्यकाल लंबा है, इसलिए मुकेश सहनी को भाजपा के प्रति विश्वास बनाए रखने के लिए यह दी जा रही है।

उतरी पहने बुलाए गए घनश्याम को अब मौका

दूसरी सीट मिथिलांचल के खाते की है और घनश्याम ठाकुर मधुबनी के पुराने कार्यकर्ता हैं। इसबार भाजपा ने उन्हें विधानसभा चुनाव का सिंबल देने के लिए पटना बुलाया था। उस समय घनश्याम ठाकुर के पिता का निधन हुआ था और वो उतरी (अंतिम संस्कार के बाद पहनने वाला कपड़ा) पहने ही पटना पहुंचे थे। कुछ हुआ और टिकट उन्हें नहीं मिला। अब विनोद नारायण झा की खाली हुई सीट पर पॉलिटिकल सेटलमेंट के तहत भाजपा उन्हें विधान परिषद भेजने की तैयारी में है। विनोद नारायण झा और घनश्याम ठाकुर- दोनों ही मैथिल भी हैं और ब्राह्मण भी। यह भी एक समीकरण है।

विपक्ष की दिलचस्पी नहीं, वाकओवर भी संभव

इन दोनों सीटों के लिए अब जदयू की दिलचस्पी कम दिख रही है और महागठबंधन तो लगभग शांत ही है। वजह है इन दोनों सीटों के लिए अलग-अलग वोटिंग होना। ऐसे में जिसके पास बहुमत होगा, वही जीत जाएगा। बताया जा रहा है कि राज्यसभा चुनाव में सुमो के सामने जैसे उसे उम्मीदवार ढूंढ़े नहीं मिल रहे थे, उसे याद करते हुए वह विधान परिषद् में भी तय हार के लिए शायद ही उम्मीदवार उतारे। मतलब, वाकओवर देने की उसकी पूरी तैयारी है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- जिस काम के लिए आप पिछले कुछ समय से प्रयासरत थे, उस कार्य के लिए कोई उचित संपर्क मिल जाएगा। बातचीत के माध्यम से आप कई मसलों का हल व समाधान खोज लेंगे। किसी जरूरतमंद मित्र की सहायता करने से आपको...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser