पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

राज्य में सिर्फ 512 एक्टिव मरीज:टीके का दूसरा डोज लेने में बिहार देश में चौथे स्थान पर

पटना8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • भोजपुर, बक्सर, खगड़िया, शेखपुरा व सुपौल में एक भी मरीज नहीं

कोरोना टीके का दूसरा डोज लेने के मामले में बिहार का देश में चौथा स्थान है। फिर भी दूसरा डोज लेने वाले स्वास्थ्यकर्मी की रफ्तार धीमी है। केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी कोरोना के दूसरे डोज के आंकड़ों के अनुसार बिहार में अबतक 32569 लोगों ने टीके लिए हैं, जबकि 61925 डोज के साथ कर्नाटक पहले स्थान पर, तेलंगाना (55731) दूसरे और आंध्र प्रदेश (44052) तीसरे स्थान पर है।

हालांकि, बिहार में कोरोना टीका का दूसरा डोज लेने के लिए स्वास्थ्यकर्मी आगे नहीं आ रहे हैं। दूसरा डोज लेना अनिवार्य है। दूसरे डोज के बाद ही लाभार्थियों के शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता विकसित होगी।

पहले डोज की तुलना में रफ्तार धीमी
बिहार में कोरोना टीकाकरण की शुरुआत 16 जनवरी को हुई थी। सप्ताह में मात्र दो दिन ही कोरोना टीका का दूसरा डोज दिया जाना है। सोमवार व मंगलवार को दूसरा डोज टीकाकरण केंद्रों पर दिया जा रहा है, जबकि सप्ताह में चार दिन बुधवार, गुरुवार, शुक्रवार व शनिवार को पहला डोज दिया जाना है।

43 में से 31 केंद्रों पर टीका लगवाने नहीं पहुंचे
पटना में गुरुवार काे 43 केंद्राें पर 1135 फ्रंटलाइनर्स ने टीका लगवाया। अबतक 13459 फ्रंटलाइनर्स को टीका पड़ चुका है। हालांकि 27948 को टीका देने का टारगेट था। 31 केंद्रों पर एक भी फ्रंटलाइनर नहीं पहुंचा। गुरुवार काे 1194 स्वास्थ्यकर्मियों ने दूसरा डोज लगवाया। हालांकि टारगेट 2039 का था।

21 नए काेराेना मरीज मिले
पटना जिले में गुरुवार को 21 कोरोना मरीज मिले। जिले में संक्रमिताें की संख्या 52663 हो गई है। इनमें 51993 ठीक हाे चुके हैं। अभी 234 एक्टिव केस हैं। पीएमसीएच के एक डॉक्टर संक्रमित हुए हैं। एम्स में एक काेराेना मरीज अनुपमा की मौत हाे गई। एम्स में अभी 24 मरीज भर्ती हैं।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आप अपने व्यक्तिगत रिश्तों को मजबूत करने को ज्यादा महत्व देंगे। साथ ही, अपने व्यक्तित्व और व्यवहार में कुछ परिवर्तन लाने के लिए समाजसेवी संस्थाओं से जुड़ना और सेवा कार्य करना बहुत ही उचित निर्ण...

    और पढ़ें