बगहा में 'साधु' का खौफ:5 दिन से घूम रहा हत्यारा साधु, गांव में आकर बोलता है- 9 लोगों की और हत्या करनी है; डर से रात भर लाठी लेकर पहरा दे रहे गांव वाले

​​​​​​​बगहा2 महीने पहले
आरोपी के डर से लोग रात में लाठी-डंडा लेकर गांव में पहरेदारी करने को मजबूर हो गए हैं।

23 सितंबर को बगहा में दो बेटियों के सामने धारदार हथियार से महिला का गला काट कर हत्या करने के बाद भी आरोपी साधु गांव में आराम से घूम रहा है। पुलिस के आने पर आरोपी गन्ने के खेत में छिप जाता है और वो बच जाता है। वारदात के 5 दिन बीत जाने और गांव में आरोपी के मौजूद होने के बाद भी पुलिस उसे गिरफ्तार नहीं कर पा रही है।

इधर, रात में आरोपी गांव में आता है और चिल्लाकर कहता है कि 9 और लोगों की हत्या करनी है। ऐसे माहौल में ग्रामीण काफी डरे-सहमे हैं। लाठी, डंडा और भाला के सहारे पूरी रात ग्रामीण रतजगा कर पहरा दे रहे हैं।

हत्यारोपी की इतनी दहशत है कि ग्रामीण शाम ढलते ही खेतों से गांव की तरफ आ जाते हैं। महिलाओं ने खेत की तरफ जाना बंद कर दिया है। हत्यारोपी मोतीलाल इसके पहले भी कई घटनाओं को अंजाम दे चुका है। इसलिए लोग उससे डरे हुए हैं। हत्यारे साधु को कई नामों से लोग संबोधित कर रहे हैं। कोई उसे सिरफिरा आशिक तो कोई नरभक्षी साधु तो कोई सनकी साधु।

मोतीलाल ने महिला की गला काटकर 23 सितंबर को हत्या कर दी।
मोतीलाल ने महिला की गला काटकर 23 सितंबर को हत्या कर दी।

एकतरफा प्यार में की हत्या

मोतीलाल साधु नाम का शख्स चौतरवा थाना क्षेत्र के गांव लक्ष्मीपुर निवासी बेचू यादव की पत्नी तारा देवी (40) से एकतरफा प्यार करता था। तारा के पति हत्या के पहले कई बार मोतीलाल को चेतावनी दे चुके थे। इससे नाराज होकर उसने महिला की गला काटकर 23 सितंबर को हत्या कर दी। महिला के पांच बच्चे हैं। इसमें तीन बेटी और दो बेटे हैं। इन सभी की उम्र 14 साल से कम है। हत्या के दिन महिला के साथ उसकी दो बेटियां भी थी।

एक महिला के साथ करना चाह रहा था जबरदस्ती

2008 में घास काट रही इसी गांव की एक महिला के साथ जबरदस्ती करना चाह रहा था। इसके बाद महिला ने शोर मचाया तो खेत में काम कर रहे महिला के ससुर सुखदेव दास दौड़े हुए आए और उसे बचाया। इसके बाद आरोपी ने सुखदेव दास का नाक काट लिया। साधु को इस मामले में एक साल की कारावास हुई थी।

लाठी, डंडा व भाला के सहारे पूरी रात ग्रामीण रतजगा कर पहरा दे रहे हैं।
लाठी, डंडा व भाला के सहारे पूरी रात ग्रामीण रतजगा कर पहरा दे रहे हैं।

पहले भी दो बार जा चुका है जेल

मोतीलाल साधु का आतंक आज से नहीं बल्कि 1992 से है। चर्चित व्याधा हत्याकांड का मुख्य आरोपी था। इसमें वो जेल की सजा काट चुका है। हालांकि, इस केस में गवाह नहीं मिलने के कारण केस से बरी हो गया था, लेकिन कुछ वर्षों तक जेल की सलाखों के पीछे रहा था।

माइक पर बोलता आरोपी मोतीलाल। (फाइल)
माइक पर बोलता आरोपी मोतीलाल। (फाइल)

पुलिस के सामने बाधा बने गन्ने के खेत

चौतरवा थाना प्रभारी शंभू शरण गुप्ता ने बताया कि गांव में आने की सूचना मिल रही है। इसे लेकर लोग दहशत में हैं। मंगलवार रात गुप्त सूचना के आधार पर छापेमारी की गई थी, लेकिन अब तक गिरफ्त में नहीं आया है। गांव के पास गन्ने के बड़े खेत हैं। इसकी वजह से आरोपी गन्ने के खेत में छुप जा रहा है। जल्द हत्या के आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेजा जाएगा।

खबरें और भी हैं...