पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Bihar: Sitamadhi Teacher Cut Hand And Wrote From Blood Corrupted Murdabad, Officer Woke Up After The Lockout And Protest

सीतामढ़ी:5 साल वेतन न मिला तो शिक्षक ने काटा हाथ और खून से लिखा भ्रष्टाचारी मुर्दाबाद, तालाबंदी के बाद जागे अधिकारी

सीतामढ़ीएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
शिक्षक संजीव कुमार ने  हवाई अड्डा मैदान में अपना हाथ और गला काट लिया था। - Dainik Bhaskar
शिक्षक संजीव कुमार ने हवाई अड्डा मैदान में अपना हाथ और गला काट लिया था।
  • साथियों ने किया हंगामा, ऑफिस में ताला लगाया तो शुरू हुई वेतन देने की प्रक्रिया
  • पंचायत शिक्षक संजीव कुमार को 2015 के बाद से वेतन नहीं मिला था

बिहार के सीतामढ़ी जिले में पांच साल से वेतन नहीं मिलने से परेशान शिक्षक संजीव कुमार ने हाथ का नस और गला ब्लेड से काटकर आत्महत्या करने की कोशिश की। संजीव ने शनिवार शाम को डुमरा थाना क्षेत्र के हवाई अड्डा मैदान में अपना हाथ और गला काट लिया और खून से भ्रष्टाचारी मुर्दाबाद लिख दिया। शरीर से तेजी से खून बहने से संजीव वहीं बेहोश हो गया।

स्थानीय लोगों ने उसे देखा तो पुलिस को सूचना दी। मौके पर पहुंची पुलिस संजीव को अस्पताल ले गई। उनका अभी इलाज चल रहा है। इस घटना से आक्रोशित जिले के शिक्षकों ने विरोध प्रदर्शन किया। सोमवार को डीपीओ स्थापना कार्यालय में तालाबंदी कर तीन घंटे तक प्रदर्शन किया। इसके बाद अधिकारी जागे और बकाया वेतन देने की प्रक्रिया शुरू की। 

एसकेएमसीएच में चल रहा संजीव का इलाज
संजीव का इलाज मुजफ्फरपुर के श्री कृष्ण मेडिकल कॉलेज मुजफ्फरपुर (एसकेएमसीएच) में चल रहा है। उन्होंने 2013 में पंचायत स्तर पर बारियारपुर के लपट्‌टी टोला स्थित स्कूल में शिक्षक के पद पर कार्य करना शुरू किया था। 2013 से उनको वेतन मिलना शुरू हुआ। तीन साल तक वेतन मिलता रहा। इसके बाद वेतन बंद हो गया। 

डीपीओ कार्यालय में तालाबंदी कर विरोध प्रदर्शन करते शिक्षक।
डीपीओ कार्यालय में तालाबंदी कर विरोध प्रदर्शन करते शिक्षक।

तालाबंदी के बाद डीपीओ ने लंबित वेतन के भुगतान के लिए ढाई लाख रुपए का विपत्र बैंक को भेजा
शिक्षक संजीव कुमार द्वारा नस काटकर आत्महत्या का प्रयास करने से जिले के शिक्षकों में गुस्सा भड़क गया। नाराज शिक्षकों ने सोमवार को डीपीओ स्थापना कार्यालय में तालाबंदी कर तीन घंटे तक प्रदर्शन किया। दूसरे शिक्षक संघ के लोग कलेक्ट्रेट पहुंचकर धरना पर बैठ गए। स्थिति गंभीर होते देख डीपीओ शैलेंद्र कुमार ने उक्त शिक्षक के लंबित वेतन भुगतान के लिए ढाई लाख रुपए का विपत्र (राशि चुकाये जाने का आदेश) बैंक को भेजा। 

डीपीओ शैलेंद्र कुमार ने कहा कि शिक्षक संजीव कुमार के लंबित वेतन भुगतान की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। तत्काल वेतन मद के ढाई लाख रुपए के भुगतान के लिए बैंक में विपत्र भेज दिया गया है। वेतन भुगतान लंबित रखने और कोताही बरतने वाले कर्मियों व अधिकारियों के विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी।

खबरें और भी हैं...