• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Bihar Vidhan Parishad Update; 29 Bihar Legislative Council Seats Vacant As 10 Members Retire

राजनीति / 10 और विधानपार्षद हुए रिटायर, विधानपरिषद में भाजपा सबसे बड़ी पार्टी बनी

बिहार विधान परिषद में पहली बार भाजपा सबसे बड़ी पार्टी बनी है। बिहार विधान परिषद में पहली बार भाजपा सबसे बड़ी पार्टी बनी है।
X
बिहार विधान परिषद में पहली बार भाजपा सबसे बड़ी पार्टी बनी है।बिहार विधान परिषद में पहली बार भाजपा सबसे बड़ी पार्टी बनी है।

  • 75 सदस्यीय विधानपरिषद में 29 सीटें खाली, 7 मई को 17 सदस्य पहले ही रिटायर हो चुके हैं
  • ऐसा पहली बार हुआ है कि जब विधानपरिषद में इतने सदस्यों के स्थान रिक्त हुए हैं

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 07:38 PM IST

पटना. बिहार विधान परिषद के मनोनीत कोटे के 10 और सदस्य रिटायर हो गए। 24 मई से ये सीटें भी रिक्त हो गयी। सारी सीटें जदयू की हैं। इस प्रकार विधानपरिषद में अब 29 सीटें खाली हो गयी हैं। 17 सदस्य 7 मई को ही रिटायर हो चुके हैं जबकि मनोनीत कोटे के दो स्थान पहले से रिक्त हैं। 

जो विधानपार्षद रिटायर हुए हैं उनमें रामलषण राम रमण, राणा गंगेश्वर सिंह, जावेद इकबाल अंसारी, शिवप्रसन्न यादव, संजय कुमार सिंह गांधीजी, रामबचन राय, ललन सर्राफ, रणबीर नंदन, विजय कुमार मिश्रा, रामचन्द्र भारती शामिल हैं। ये सारे राज्यपाल द्वारा मनोनीत सदस्य हैं। जदयू के राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह और पशुपति कुमार पारस का स्थान रिक्त है। दोनों ही पिछले लोकसभा चुनाव में सांसद बन चुके हैं। ललन सिंह जदयू के टिकट पर मुंगेर से जबकि पारस लोजपा के टिकट पर हाजीपुर से लोकसभा पहुंच गए हैं। लिहाजा दोनों ने विधानपरिषद से इस्तीफा दे दिया था। दोनों राज्यपाल के मनोनीत कोटे से विधानपरिषद बने थे।

विधानपरिषद में मनोनीत सदस्यों की संख्या 12 होती है। शनिवार से मनोनीत कोटे का कोई सदस्य शेष नहीं रह जाएगा। इसके साथ ही 75 सदस्यीय विधानपरिषद में 29 सदस्यों का स्थान रिक्त हो जाएगा। विधानपरिषद के तत्कालीन कार्यकारी सभापति हारुण रशीद, सूचना एवं जनसंपर्क मंत्री नीरज कुमार और भवन निर्माण मंत्री अशोक चौधरी समेत 17 सदस्य पिछले दिनों 7 मई को ही रिटायर हुए थे। दो सदस्यों का स्थान पहले से रिक्त है। 

भाजपा सबसे बड़ी पार्टी बनी
29 सदस्यों का स्थान खाली होने के बाद भाजपा विधानपरिषद में सबसे बड़ी पार्टी बन गयी है। सदन में उसके अब 17 सदस्य हो गए हैं जबकि जदयू की सदस्य संख्या 15 रह गयी है। ऐसा पहली बार हुआ है कि जब विधानपरिषद में इतने सदस्यों के स्थान रिक्त हुए हैं। यही नहीं यह भी पहली बार है कि भाजपा सदन में सबसे बड़ी पार्टी बनी हो।

सीटों का गणित
भाजपा: 17
जदयू: 15
राजद: 8
कांग्रेस: 2
लोजपा: 1
हम: 1
निर्दलीय: 2

राज्यपाल मनोनयन में भाजपा को भी मिलेगी हिस्सेदारी, दावा लोजपा का भी
वर्ष 2014 में जब राज्यपाल कोटे से 12 सदस्यों का मनोनयन हुआ था तो नीतीश कुमार की अकेली जदयू सरकार थी। ऐसे में उसने सभी सीटों पर अपने लोग भेजे थे। हालांकि बीच में ही नरेन्द्र सिंह की सदस्यता खत्म हो जाने के कारण वह स्थान रिक्त हो गया था। बाद में लोजपा के पशुपति कुमार पारस को उनकी जगह विधानपरिषद भेजा गया था। अब स्थिति बदली हुई है। जदयू के साथ भाजपा भी सरकार में है। ऐसे में 12 सीटों में उसकी हिस्सेदारी तय है। मान्य परंपराओं के अनुसार उसे 5 सीटें मिल सकती है। उधर, सहयोगी दल के रुप में लोजपा का भी दावा रहेगा। 

चौथी बार सभापति, उपसभापति का पद रिक्त
ऐसा चौथी बार हो रहा है जब सभापति और उपसभापति का पद रिक्त है। हालांकि यह संवैधानिक संकट की स्थिति नहीं है। संवैधानिक प्रावधान के अनुसार पद रिक्त होने पर इसके कस्टोडियन राज्यपाल हो जाते हैं। 7 मई 1958 से 4 अप्रैल 1959, 2 जुलाई 1973 से 4 जनवरी 1975, 6 मई 1976 से 14 जुलाई 1980 और अभी 7 मई से ये पद रिक्त पड़े हैं। इस समय विधानपरिषद में सचिव का भी पद रिक्त है और कार्यकारी सचिव काम देख रहे हैं।

7 मई को 17 सदस्य हो चुके हैं रिटायर
पिछले दिनों 7 मई को 17 सदस्य रिटायर हो चुके हैं। रिटायर होने वाले सदस्यों में चार-चार स्नातक व शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र से जबकि द्विवार्षिक चुनाव में विधान सभा क्षेत्र के 9 सदस्य थे। विधान परिषद के स्नातक निर्वाचन क्षेत्र से रिटायर होने वालों में जदयू के नीरज कुमार, दिलीप कुमार चौधरी, भाजपा के डॉ. एन. के. यादव और निर्दलीय देवेश चंद्र ठाकुर शामिल हैं। नीरज पटना, दिलीप दरभंगा, यादव कोसी और देवेश तिरहुत स्नातक क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते थे। 

विधान परिषद के शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र से रिटायर होने वालों में भाजपा के नवल किशोर यादव, भाकपा के केदारनाथ पांडेय व संजय कुमार सिंह और कांग्रेस के मदन मोहन झा शामिल हैं। नवल पटना, पांडेय सारण, संजय तिरहुत और झा दरभंगा शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते थे। उधर, द्विवार्षिक चुनाव में विधानसभा क्षेत्र से चुने जाने वाले 9 सदस्य भी रिटायर हो चुके हैं। इनमें जदयू के हारुण रशीद, हीरा प्रसाद बिन्द, सतीश कुमार, पी. के. शाही, सोनेलाल मेहता, अशोक चौधरी जबकि भाजपा के कृष्ण कुमार सिंह, संजय मयूख, राधा मोहन शर्मा शामिल हैं।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना