बिहार में मौसम को लेकर अलर्ट:नवादा में सुबह से तेज हवा के साथ बारिश, नालंदा, गया, मुजफ्फरपुर, चंपारण सहित 12 जिलों में 40 KM प्रति घंटे की रफ्तार से चल सकती है हवाएं

पटना5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मौसम विभाग का कहना है कि ट्रफ रेखा की वजह से बारिश की आशंका लगातार बनी हुई है। - Dainik Bhaskar
मौसम विभाग का कहना है कि ट्रफ रेखा की वजह से बारिश की आशंका लगातार बनी हुई है।

मौसम विभाग का राज्य के सभी जिलों को लेकर अलर्ट है, लेकिन गुरुवार को 12 जिलों में विशेष अलर्ट जारी किया गया है। इन जिलों में 30 से 40 KM प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चलने के साथ बारिश और वज्रपात का अलर्ट जारी किया गया है। नवादा और आसपास के इलाकों में गुरुवार सुबह से ही तेज हवा के साथ बारिश हुई। इससे खेतों में लगी सब्जियों को काफी नुकसान पहुंचा है।

नवादा में करीब सौ एकड़ में लगी सब्जियों की फसल के नुकसान होने की आशंका जताई जा रही है। मौसम विभाग का कहना है कि एक ट्रफ रेखा की वजह से हल्के के साथ ही मध्यम दर्जे की बारिश हो रही है।

मानसून के आने से पहले बदल रहा मौसम

बिहार में मानसून के प्रवेश से पहले बारिश का सिस्टम सक्रिय हो गया है। मौसम विभाग ने बिहार के सभी हिस्सों में 13 जून तक बारिश के लिए अलर्ट जारी किया है। इस दौरान तेज हवा के साथ आंधी-तूफान, तीव्र वज्रपात और 6 से 32 MM तक बारिश होने का अंदेशा है। यानी कहीं बहुत ज्यादा बारिश भी हो सकती है।

इन जिलों को लेकर विशेष अलर्ट

गुरुवार को राज्य के जिन 12 जिलों को लेकर विशेष अलर्ट जारी किया गया है। उसमें नवादा, नालंदा, औरंगाबाद, गया, मुजफ्फरपुर, मधुबनी, सीतामढ़ी, वैशाली, पूर्वी चंपारण और पश्चिमी चंपारण, लखीसराय और जमुई शामिल हैं। मौसम विभाग ने इन जिलों में 30 से 40 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से हवा चलने और वज्रपात होने की संभावना व्यक्त किया है।

मानसून से पहले बारिश का सिस्टम एक्टिव

मानसून बंगाल की खाड़ी से होते हुए 11 जून को ओडिशा, पश्चिम बंगाल में प्रवेश करेगा। जहां से 13 जून तक झारखंड और फिर 15 जून तक बिहार पहुंचने की संभावना है। इस दौरान बारिश से पहले पटना, नालंदा, नवादा सहित बिहार के सभी हिस्सों में तेज बारिश होने की संभावना है। मौसम विभाग के अनुसार, बंगाल की खाड़ी में नमी युक्त हवा सक्रिय है। जो मानसून की गति प्रदान करने में सहायक है।

ट्रफ रेखा के सक्रिय होने से बदला मौसम

मौसम विभाग का कहना है कि एक ट्रफ रेखा उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड से होते हुए ओडिशा तक जा रही है। एक चक्रवाती हवा बिहार के तटवर्ती क्षेत्र में है। जिसकी वजह से हल्के के साथ ही मध्यम दर्जे की बारिश की आशंका लगातार बनी हुई है। हालांकि, पटना में दो दिनों से मौसम शुष्क बना हुआ है। हवा में नमी होने के साथ ही तेज धूप की वजह से उमस भरी गर्मी का एहसास हो रहा था। इस दौरान शाम होते-होते हवा की रफ्तार पूर्व होने के साथ ही बारिश का सिस्टम सक्रिय हो रहा है।

खेतों में पानी भरने से डूबी सब्जियां

नवादा और इसके आसपास के इलाकों में सुबह से हो रही तेज बारिश के कारण खेतों में पानी भर जाने से सब्जी की फसल डूब गई है। खासकर लत वाली सब्जियां पूरी तरह से बर्बाद हो चुकी है। नेनुआ, कद्दू, बोड़ा, करैला, खीरा, फरसवीन, तारबूज, ककड़ी, लालमी आदि फसलों को काफी क्षति पहुंची है।

किसानों का कहना है कि सब्जियों के अलावा दलहन की फसल को भी नुकसान पहुंचा है। जिले में करीब एक सौ एकड़ में सब्जी की खेती होती है। बेमौसम बारिश होने से सब्जी का फसल को नुकसान पहुंचा है। फसल का लागत पूंजी भी वापस होना मुश्किल लग रहा है। वहीं बारिश के कारण शहरी व ग्रामीण इलाकों में कई जगहों पर तेज बारिश में जल जमाव की समस्या भी उत्पन्न हो गई है।

खबरें और भी हैं...