• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • BJP Leader Devesh Kumar Audio Regarding BJP Party; Devesh Kumar Blame On BJP Leaders

MLC के ऑडियो से बिहार BJP में खलबली:देवेश बोले- संगठन के कई नेता चोर और ब्लैकमेलर हैं, 42 करोड़ का घोटाला किया; अब कहा- यह मुझे फंसाने की साजिश

पटना4 महीने पहलेलेखक: बृजम पांडेय
देवेश कुमार, MLC और बीजेपी के प्रदेश महामंत्री।

बिहार भाजपा के प्रदेश महामंत्री और राज्यपाल कोटे से MLC देवेश कुमार के एक वायरल ऑडियो ने पार्टी में खलबली मचा दी। इस ऑडियो में वो बीजेपी के कई बड़े नेताओं को चोर कह रहे हैं। देवेश कुमार कह रहे हैं कि इस सिस्टम में हर कोई चोरी कर रहा है। चाहे संगठन महामंत्री नागेंद्र नाथ त्रिपाठी हो या फिर संगठन सह मंत्री शिवनारायण महतो या फिर अति पिछड़ा प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष जयनाथ चौहान, सब इस सिस्टम में चोर हैं।

वहीं, इस ऑडियो में 42 करोड़ के घोटाले का भी जिक्र है। ऑडियो वायरल होने से पार्टी के अंदरखाने में खलबली जरूर है, लेकिन बड़े नेता इस मामले में ज्यादा कुछ नहीं बाेल रहे हैंं।

1.55 मिनट का है ऑडियो

1 मिनट 55 सेकेंड के इस ऑडियो में क्या कुछ बातें हुई हैं। अब, आपको बताते हैं। इसमें देवेश कुमार से एक व्यक्ति बात कर रहा है, लेकिन उसकी पूरी आवाज गायब है। सिर्फ देवेश कुमार की ही आवाज है।

देवेश- उनको कहा था कि बाद..., आप यह बोलो.. अच्छा हम देख लेते हैं... कल भूपेन जी आए थे.. इसलिए दिन में हम कुछ कर नहीं पाए ..हां हां... हम बोल देते हैं... हम उन्हीं को बोलते हैं।

दूसरा व्यक्ति- कुछ कहता है, लेकिन आवाज उसकी नहीं है।

देवेश- अरविंद सिंह है... ब्लैक मेलर... उसे कहीं कुछ चीजें हैं... शेयर नहीं कीजिएगा... तो सीधे ब्लैकमेल पर उतर आएगा... ब्लड प्रेशर बढ़ा लेगा... घर पर बैठ जाएगा। नागेन्द्र जी का फोन भी आता है... सब आपको डील करना पड़ेगा... दुनिया में सिस्टम है न, सिस्टम में शिव नारायण जी भी चोर हैं शशि जी भी चोरी कर रहे हैं।

दूसरा व्यक्ति - यहां भी कुछ कहता है, लेकिन ऑडियो में आवाज उसकी नहीं है।

देवेश- 11 जनरल सेक्रेटरी हैं पार्टी में... दिल्ली के... सब नाकारे हैं... कोई किसी का आदमी है... कोई किसी का आदमी है। हम तो देखते थे... क्या कर रहे हैं... क्या टीम बनाई हुई है... कोई किसी का आदमी है कोई किसी का आदमी है... जय नाथ चौहान 10 लाख इंस्टॉलमेंट पर ले ले के... 5-6 लाख तो हम देखे हैं... लिखा हुआ... 42 करोड़ का डिफिस्ट है।

देवेश कुमार ने ऑडियो को नकारा

इस ऑडियो के आने के बाद दैनिक भास्कर की टीम ने देवेश कुमार से संपर्क किया। देवेश ने दावा किया कि इस ऑडियो में जो आवाज है, उनकी नहीं है। जिन लोगों के बारे में इसमें जिक्र किया गया है, वह सारे आदरणीय हैं। देवेश ने कुछ लोगों को अपना पिता तुल्य भी बताया। देवेश कहते हैं कि इस ऑडियो को कई जगहों से काट छांट कर, एक साथ मिलाकर बनाया गया है। यह पूरी तरह से एडिटेड ऑडियो है। यह मेरी आवाज नहीं है। मुझे फंसाने के लिए इस तरह का षड्यंत्र रचा गया है।

कई नेताओं ने नहीं उठाया फोन

ऑडियो में प्रदेश प्रवक्ता अरविंद कुमार सिंह का जिक्र है। उनसे जब हमारी टीम ने बात की तो उन्होंने बताया कि देवेश कुमार का चरित्र और आचरण सर्वश्रेष्ठ है। वह कभी भी इस तरह की भाषा का प्रयोग नहीं कर सकते हैं। खासतौर पर मेरे बारे में तो बिल्कुल ही नहीं। यह उनके खिलाफ साजिश है। देवेश कुमार एक पढ़े-लिखे व्यक्ति हैं और प्रदेश में महामंत्री है। वह ऐसा कर ही नहीं सकते।

वहीं, जब अति पिछड़ा प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष जय नाथ चौहान से संपर्क करने की कोशिश की गई तो उन्होंने फोन नहीं उठाया। संगठन महामंत्री नागेंद्र नाथ त्रिपाठी अभी बिहार में नहीं हैं।

क्या कहते हैं सियासी विशेषज्ञ

वरिष्ठ पत्रकार अरुण पांडे बताते हैं कि BJP में सब कुछ ठीक ठाक नहीं है। जिस तरह से कम समय में देवेश कुमार का कद बढ़ा उससे BJP में कई नेता दुखी थे। देवेश कुमार को इतना पावर दे दिया गया था कि एक समय BJP बिहार के सर्वेसर्वा हो गए थे। उसी समय सभी जिलों में जिला कार्यालय बनाने का काम चल रहा था। उसमें भी गड़बड़ी को लेकर देवेश कुमार का नाम सामने आया था।

BJP में यह कोई नई बात नहीं है कि किसी भी नेता के खिलाफ एक गुट ना बना हो। सुशील मोदी के खिलाफ भी एक विरोधी धरा था, जो लगातार उनके खिलाफ मोर्चा खोले हुए था। यह जो ऑडियो आया है वह बताता है कि बिहार भाजपा में सिर्फ तथाकथित अनुशासन है। बाकी अंदर सब कुछ खोखला है।

कौन हैं देवेश कुमार?

देवेश कुमार 5 साल पहले भारतीय जनता पार्टी की सदस्यता बिहार में लेते हैं। इससे पहले वह ABVP से जुड़े हुए थे। JNU में ABVP की राजनीति किया करते थे। उसके बाद पत्रकार बन गए। कई बड़े अखबारों में एडिटर रहे हैं। जब उन्होंने BJP जॉइन की तो इन्हें तुरंत ही प्रदेश प्रवक्ता की जिम्मेदारी दे दी गई। देवेश कुमार तरक्की की सीढ़ी चढ़ने लगे। अगले ही बार इन्हें उपाध्यक्ष बना दिया गया। साथ ही प्रदेश मुख्यालय का प्रभारी भी बना दिया गया।

देवेश कुमार का कद BJP में काफी बढ़ गया। इसके बाद कई दफा इनके नाम राज्यसभा सांसद और MLC के तौर पर आने लगे, लेकिन इन्हें सफलता तब मिली जब राज्यपाल कोटे से 12 एमएलसी बनाए गए। जिसमें एक देवेश कुमार भी शामिल हैं। इस दौरान देवेश कुमार को प्रदेश महामंत्री की भी जिम्मेदारी की गई है। वे अरुण जेटली के नजदीकी बताए जाते थे। वहीं, अभी भूपेंद्र यादव से इनकी काफी घनिष्टता है।

खबरें और भी हैं...