पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • BJP MLC Sanjay Paswan Resigned From The Post Of Chairman Of The Scheduled Castes And Tribes Committee Of The Legislative Council

भाजपा MLC को पार्टी का दलित कार्ड मंजूर नहीं:विधान परिषद् की अनुसूचित जाति एवं जनजाति समिति के अध्यक्ष MLC संजय पासवान ने दिया इस्तीफा, कहा- यह जातिगत भेदभाव, 6 दिन पहले बने थे अध्यक्ष

पटना4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
भाजपा MLC संजय पासवान। - Dainik Bhaskar
भाजपा MLC संजय पासवान।

6 जून को बिहार विधान परिषद् की 34 समितियों के पुनर्गठन का पत्र जारी किया गया था, लेकिन पुनर्गठन के महज 6 दिन बाद ही अनुसूचित जाति एवं जनजाति समिति के अध्यक्ष संजय पासवान ने समिति से इस्तीफा दे दिया है। भाजपा MLC संजय पासवान ने अपने साथ जातिगत भेदभाव का आरोप लगाया है। मौजूदा समय में अपनी ही सरकार को दलित अत्याचार के मुद्दे पर दिन-रात कोसने वाली BJP के दलित प्रेम को इससे धक्का लगना तय है।

बिहार विधान परिषद सभागार में कार्यकारी सभापति अवेधश नारायण सिंह ने नवगठित समितियों के अध्यक्ष व संयोजकों के साथ बैठक की थी। समितियों के कार्य एवं उसके महत्व पर विशेष विमर्श चल रहा था। इसी बीच बैठक में शामिल भाजपा MLC संजय पासवान ने अपना इस्तीफा कार्यकारी सभापति को सौंप दिया। इस्तीफा सौंप कर संजय पासवान सीधे बैठक से बाहर निकल गए। संजय पासवान को अनुसूचित जाति एवं जनजाति समिति का अध्यक्ष बनाया गया था ।

यह तो जातिगत भेदभाव है : संजय पासवान

संजय पासवान ने समिति से अपना इस्तीफा दिए जाने की पुष्टि की है। उनका कहना है कि बिना उनके परामर्श के उन्हें इस समिति का सदस्य बनाया गया था और वो इससे नाखुश थे। कहा कि जरूरी नहीं कि अनुसूचित जाति से आनेवाले को ही अनुसूचित जाति की समिति का अध्यक्ष बनाया जाए। उन्होंने इसे जातिगत भेदभाव का मामला बताते हुए कहा कि असल में इस तरह से अनुसूचित जाति से आनेवाले नेताओं को एक विशेष समुदाय के साथ काम करने के लिए छोड़ दिया है। उन्होंने आरोप लगाया कि अनुसूचित जाति के नेताओं को मुख्यधारा में आने से रोका जा रहा है और इसी का उन्होंने विरोध किया है।

पार्टियों से इन मामलों पर ली जाती है राय

संजय पासवान का निशाना असल में उनकी पार्टी है। वजह यह है कि विधान परिषद् की समितियों के पुनर्गठन में सभी पार्टियों से राय ली जाती है। पार्टी अपने हिस्से आनेवाली समितियों के अध्यक्ष और संयोजकों के लिए अपने-अपने MLC का नाम देती है। ऐसे में संजय पासवान को जिस समिति में जगह मिली है, वह उनकी पार्टी का फैसला है, यह खुद संजय पासवान को भी पता है। ऐसे में उन्होंने इस्तीफा देकर पार्टी के सामने अपनी नाराजगी जाहिर कर दी है।

खबरें और भी हैं...