• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Chhapra News; Mother And Sister Of One Accused Sonu Pandey Suicide After Police Raid In 40 Lakh Loot Case

40 लाख की लूट, आरोपी की मां-बहन की लाश मिली:रात में पुलिस ने छापेमारी की, 6 लाख रुपए के साथ पिता को थाने ले गई; ग्रामीणों का आरोप- पुलिस ने बहुत टॉर्चर किया

छपरा2 महीने पहले
सोनू की मां-बहन का शव ले जाती पुलिस।

सारण के मढ़ौरा में निजी कंपनी के कर्मचारी से 40 लाख रुपए लूट के मामले में पुलिस को सफलता तो मिली है, लेकिन घटनाक्रम अब दूसरी ओर मुड़ गया है। पुलिस ने मंगलवार देर रात भेल्दी थाना क्षेत्र के खारदरा में छापेमारी कर सोनू पांडेय के घर से छह लाख रुपए और उसके पिता चंदेश्वर पांडेय को गिरफ्तार किया है। वहीं, बुधवार सुबह उसकी मां और बहन की लाश मिली है। सोनू फिलहाल फरार है।

बुधवार सुबह आरोपी के घर पहुंची पुलिस।
बुधवार सुबह आरोपी के घर पहुंची पुलिस।

गांववालों को सुबह मिली मां-बहन के सुसाइड की जानकारी

मंगलवार रात कई घंटों तक चली छापेमारी में रुपए बरामद होने के बाद पुलिस सोनू के पिता को साथ लेकर चली गई। उसके बाद सोनू की मां और बहन ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। इस बात की जानकारी पड़ोसियों को सुबह में हुई, जिसके बाद पुलिस को सूचित किया गया। पुलिस सोनू के घर पहुंची और दोनों शवों को अपने साथ ले गई। पुलिस द्वारा शव ले जाने के बाद अब गांव के लोग तरह-तरह की बातें कह रहे हैं।

दोनों शवों पर जख्म के निशान, खून दिखा, सुसाइड नोट मिला

आत्महत्या की बात सामने आते ही सोनू के घर के पास भीड़ लग गई। पूरे दलबल के साथ मढ़ौरा SDO और अन्य अधिकारियों के नेतृत्व में पुलिस भी पहुंची। दोनों शवों को ले जाने के दौरान गांववालों ने शरीर पर जख्म के कई निशान देखे। पैरों से रिसता खून भी देखा गया। बहन के हाथ से लिखा एक सुसाइड नोट भी मिलने की बात कही गई है, लेकिन पुलिस ने उसके बारे में कोई जानकारी नहीं दी है।

शवों को लेकर जब पुलिस चली गई, तब ग्रामीणों के बीच तरह-तरह की चर्चाएं होने लगी। लोगों का कहना है कि पुलिस ने सोनू की मां संजू देवी और बहन रूपा कुमारी को बहुत टॉर्चर किया है। उनके साथ मारपीट की गई है। इसके बाद ही पुलिस की ज्यादती और समाज में इज्जत जाने के डर से दोनों ने आत्महत्या कर ली। उनका कहना था कि सोनू का कोई आपराधिक इतिहास भी नहीं था। हाल-फिलहाल में वह जरूर कुछ गलत लड़कों की संगत में आ गया था। हालांकि, लोगों में पुलिस की दहशत भी देखने को मिली। इस वजह से कोई भी खुलकर मीडिया के सामने कुछ नहीं कह रहा है।

पुलिस की कार्रवाई के बारे में जानकारी देते मढ़ौरा SDO योगेंद्र कुमार।
पुलिस की कार्रवाई के बारे में जानकारी देते मढ़ौरा SDO योगेंद्र कुमार।

आरोपों को सदर SDO ने नकारा

मढ़ौरा SDO योगेंद्र कुमार से जख्म और खून के बारे में सवाल किया गया तो उन्होंने कुछ नहीं कहा। पुलिस द्वारा मारपीट के सवाल पर उन्होंने कहा कि ऐसा कुछ नहीं हुआ है। वहीं, DSP इंद्रजीत बैठा ने भी मीडिया के किसी सवाल का जवाब नहीं दिया। अधिकारियों ने सुसाइड नोट मिलने की बात तो मानी, लेकिन उसमें क्या लिखा है, यह बताने से इनकार कर दिया। फिलहाल पुलिस ने मृतक संजू देवी और रूपा कुमारी के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमॉर्टम के लिए छपरा सदर अस्पताल भेज दिया है।

लूट मामले में पुलिस को सीसीटीवी कैमरे से मिले थे महत्वपूर्ण सुराग।
लूट मामले में पुलिस को सीसीटीवी कैमरे से मिले थे महत्वपूर्ण सुराग।

पुलिस को अब तक लूट की रकम में से करीब 18 लाख मिले

सोमवार शाम हुई 40 लाख रुपए लूट की इस घटना में पुलिस ने अब तक तीन जगह कार्रवाई कर करीब 18 लाख रुपए बरामद कर लिए हैं। इसमें छह लाख रुपए सोनू के घर से और करीब नौ व तीन लाख रुपए दो अलग-अलग जगह से बरामद किए गए हैं। मामले में एक लड़के को पुलिस ने अरेस्ट किया है। वह उन तीन लड़कों में शामिल था, जिन्होंने लूट की घटना को अंजाम दिया था। हालांकि, इनमें से किसी भी बात की पुष्टि किसी पुलिस अधिकारी ने अभी तक नहीं की है। आगे लिंक पर क्लिक कर पढ़िए...

राशि निकासी के साथ बैंक से ही मुकुंद पीछा करने लगे थे अपराधी, 40 लाख लूट के बाद इसरौली और मिर्जापुर के बीच बदल लिए थे अलग-अलग रास्ते

खबरें और भी हैं...