पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Chhath Folk Song Folk Singer Of Patna Manisha Shrivastava Traditional Folk Song Of Chhath Puja Folk Music In Chhath Nature In Chhath

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

छठ पर नया गीत लेकर आईं मनीषा:कीनी ला वा या हो पिया फल-फलहरिया, लागी गईले पटना बजरिया हो....

6 दिन पहले
पटना की लोकगायिका मनीषा।
  • पटना की लोकगायिका मनीषा ने गीत के जरिये युवाओं को छठ का महत्व समझाया
  • मनीषा श्रीवास्तव ने छठ के कई पारंपरिक गीतों को गाया है

लोक आस्था के महापर्व छठ का इंतजार हर किसी को रहता है। उन लोक गायकों को भी छठ का इंतजार रहता है, जो इस महापर्व में गीत गाते हैं। पटना की लोक गायिका मनीषा श्रीवास्तव ने बताया कि छठ का इंतजार सबको रहता है लेकिन मुझे खास इंतजार रहता है। इस मौके पर वह छठ के गीतों को गुनगुनाती ही नहीं बल्कि सबको सुनाती भी हैं।

दैनिक भास्कर के दफ्तर पहुंचीं मनीषा श्रीवास्तव ने छठ के पारंपरिक गीतों को तो गाया ही, साथ ही आज के युवाओं को छठ के महत्व को गीत के जरिए समझाने की कोशिश भी की। मनीषा श्रीवास्तव ने महेंद्र मिसिर का गीत भी गाया। उन्होंने बताया कि भोजपुरी और छठ के गीत एक दूसरे के पूरक बन चुके हैं। जब भी छठ की बात आती है तो भोजपुरी गीतों की चर्चा जरूर होती है।

मनीषा अब तक छठ के कई गीत गा चुकी हैं। वे कहती हैं कि महापर्व छठ लोक आस्था के साथ-साथ प्रकृति का भी पर्व है। इस पर्व के माध्यम से हम प्रकृति का भी महत्व समझते हैं। इस महापर्व में सभी प्राकृतिक चीजों का ही इस्तेमाल होता है। मनीषा के गीतों में इन सब चीजों का पुट नजर आता है। छठ के गीत गाती हुई वह इन सब चीजों में जैसे डूब जाती हैं।

छठ पर बिहार के कई कलाकार छठी मइया को समर्पित गीत गाते हैं। महापर्व छठ को लेकर वे कई तरह के अनूठे प्रयोग भी करते हैं। पटना के कंकड़बाग के रहने वाले उत्सव श्रेय ने कुछ ऐसा ही किया है। उन्होंने एक खूबसूरत गीत के जरिए छठी मइया से वही समय जो कोरोना काल से पहले का था, उसे लौटाने की प्रार्थना की है। Youtube पर इस गीत को खूब सराहा जा रहा है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- दिन उन्नतिकारक है। आपकी प्रतिभा व योग्यता के अनुरूप आपको अपने कार्यों के उचित परिणाम प्राप्त होंगे। कामकाज व कैरियर को महत्व देंगे परंतु पहली प्राथमिकता आपकी परिवार ही रहेगी। संतान के विवाह क...

और पढ़ें