पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Chhath Puja 2020, Bihar Latest News; Dainik Bhaskar Investigation On Patna Ghats Boats Fitness Certificate

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

भास्कर पड़ताल:पटना के छठ घाटों पर डूबने से बचाने का सिस्टम इतना मजबूत कि 54 नावों को बिना देखे ही दे दिया फिटनेस सर्टिफिकेट

पटना9 दिन पहलेलेखक: मनीष मिश्रा
  • कॉपी लिंक
छठ के दो दिनों में इन्हीं नावों के सहारे गंगा में गश्ती करेंगे प्रशासन और बचाव दल के सदस्य।
  • पटना के घाटों पर लगी 54 नावों में से एक का भी नहीं हुआ भौतिक सत्यापन
  • हादसों के बाद भी गंभीर नहीं जिम्मेदार लोग, किसी भी नाव में नहीं हैं जीवन रक्षक उपाय

छठ पर्व पर लोगों को डूबने से बचाने का सिस्टम फेल है। घाटों पर चल रही नावों में से किसी का भी भौतिक सत्यापन नहीं किया गया है। नावों को बिना देखे ही सर्टिफिकेट बांट दिया है। प्रशासन की तैयारियों में यह बड़ा छेद है जो पतंग उत्सव की तरह बड़े नाव हादसे की नींव बन सकता है। दैनिक भास्कर की पड़ताल में प्रशासन के दावों की पोल खुली है।

छठ को लेकर प्रशासन की तैयारियों का दावा

छठ में व्रतियों की सुविधा को लेकर प्रशासन की तरफ से तैयारियों के बड़े-बड़े दावे किए गए हैं। खतरनाक घाट तक चिन्हित कर दिए गए हैं, लेकिन जिम्मेदारों ने तैयारी में जो लापरवाही की है, इससे सामान्य घाटों पर भी मौत का खतरा मंडरा रहा है। प्रशासन का दावा है कि पटना में 95 घाटों पर छठ को लेकर व्यवस्था की गई है, जबकि 24 घाटों को खतरनाक घोषित किया गया है। गश्ती के लिए 54 नावों को लगाया गया है। इन्हीं नावों पर निगरानी और डूबते लोगों को बचाने की जिम्मेदारी है।

दैनिक भास्कर की पड़ताल में प्रशासनिक लापरवाही की पोल खुल गई।
दैनिक भास्कर की पड़ताल में प्रशासनिक लापरवाही की पोल खुल गई।

पड़ताल में खुली प्रशासनिक लापरवाही की पोल

दैनिक भास्कर की टीम ने जब पड़ताल की तो प्रशासनिक लापरवाही की पोल खुल गई। नाविकों से बात की गई तो पता चला कि पिछले एक साल से किसी भी नाव की जांच हुई ही नहीं है। कोई भी प्रशासनिक अफसर यह देखने नहीं आया कि नदी में कौन सी नाव चलाई जा सकती है और किससे खतरा है। पाटीपुल घाट पर नाविक मोहताब राय से मुलाकात हुई। मोहताब का कहना है कि 20 साल में पहली बार एक साल पहले जांच की गई थी। कुल 54 नावों को रानीघाट से पाटीपुल घाट तक लगाया गया है। 28 नाव तो केवल पाटीपुल घाट पर हैं। नाव में क्या सही है, क्या गड़बड़ है, यह देखने कोई नहीं आया है और ना ही कोई व्यवस्था दी गई है जिससे किसी दुर्घटना में बचाव किया जा सके। थाना से बुलाया गया था, वहां कागज जमा कर दिए, इसके बाद लाइसेंस दे दिया गया। अन्य नाविकों ने भी बताया कि कोई देखने नहीं आता है और ना ही घाट बनाया गया है। जैसे-तैसे नाव का संचालन कर रहे हैं।

एनडीआरएफ के एक्सपर्ट ने बताया

पाटीपुल घाट पर तैनात एनडीआरएफ के इंचार्ज अरविंद कुमार ने बताया कि लकड़ी वाली नाव में सुरक्षा और सत्यापन की जांच को लेकर तीन प्रमुख बिंदु है।

  • समय-समय पर नाव की जांच (लीकेज, यदि मोटरबोट है तो इंजन की जांच) किए जाने के साथ सबसे जरुरी है ओवरलोडिंग सिग्नल का होना, जिसे नाव के बाहर पेंट से बनाया जाता है। जब नाव ओवरलोड होती है तो यह निशान पानी के अंदर चला जाता है। ऐसे में कोई भी देखकर ओवरलोडिंग का अंदाजा लगा सकता है।
  • हर नाव पर लाइफ सपोर्ट के लिए जैकेट होना चाहिए। बचाव के लिए एयर रिंग होना चाहिए। अगर कुछ भी नहीं है तो कम से कम हर नाव पर पर्याप्त हवा भरा ट्यूब होना चाहिए।
  • नाविकों को पूरी तरह प्रशिक्षित होना चाहिए। उनका भी सत्यापन जरूरी है।

सुरक्षा के सवाल पर भड़क गए साहब

नावों के संचालन और सुरक्षा के सवाल पर पटना के डीएम कुमार रवि से बात करने की कोशिश की गई, लेकिन उन्होंने फोन नहीं उठाया। प्रमंडलीय आयुक्त संजय अग्रवाल ने भी फोन रिसीव नहीं किया। पटना सदर के एसडीओ नितिन सिंह ने फोन तो उठाया, लेकिन सुरक्षा के सवाल पर भड़क गए। उनका कहना है कि 20 और 21 नवंबर को गंगा नदी में प्राइवेट नाव का परिचालन पूरी तरह से बंद रहेगा। इसलिए इन नावों को गश्ती टीम के लिए लगाया गया है। जब सर्टिफिकेट को लेकर सवाल किया गया तो बोले कि जिम्मेदारी डीटीओ की है, इस मामले में उनसे बात किया जाए। इतना कहकर गुस्से में फोन काट दिए।

सुरक्षा और जिला प्रशासन की जवाबदेही के सवाल के साथ उन्हें फिर फोन लगाया गया। तब एसडीओ सदर ने कहा कि जो नाव चल रही हैं, वे गलत हैं। सर्टिफिकेट है या नहीं, यह जांच का विषय है। इसकी जिम्मेदारी डीटीओ की है। पूर्व में हुए पतंगोत्सव के दौरान हादसे का हवाला देकर उनकी जवाबदेही पर सवाल किया गया तो कहा कि वह मामले की जांच करा रहे हैं।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- घर के बड़े बुजुर्गों की देखभाल व उनका मान-सम्मान करना, आपके भाग्य में वृद्धि करेगा। राजनीतिक संपर्क आपके लिए शुभ अवसर प्रदान करेंगे। आज का दिन विशेष तौर पर महिलाओं के लिए बहुत ही शुभ है। उनकी ...

और पढ़ें