• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Bihar News; Children Will Also Get Vaccine Dose, Registration Will Be Done From May 28 For Trial In Patna AIIMS

बच्चों को भी लगेगी बड़ों वाली वैक्सीन:पटना AIIMS में ट्रायल के लिए 28 मई से रजिस्ट्रेशन, 2 से 18 साल के बच्चों को दी जाएगी बड़ों की वैक्सीन, देखा जाएगा असर

पटना5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पहले होगा रजिस्ट्रेशन फिर होगी कोरोना और एंटीबॉडी की जांच, स्वास्थ्य परीक्षण के बाद होगा टीका का परीक्षण। - Dainik Bhaskar
पहले होगा रजिस्ट्रेशन फिर होगी कोरोना और एंटीबॉडी की जांच, स्वास्थ्य परीक्षण के बाद होगा टीका का परीक्षण।

बड़ों की कोवैक्सीन से ही बच्चों पर भी ट्रायल होगा। बस खुराक कम, लेकिन कोरोना को मात देने वाली होगी। पटना AIIMS में शुक्रवार 28 मई से रजिस्ट्रेशन किया जाएगा। पहले 2 से 18 वर्ष तक के बच्चों का पहले रजिस्ट्रेशन किया जाएगा फिर कोरोना और एंटीबॉडी की जांच के बाद उन्हें वैक्सीन की खुराक दी जाएगी। इस ट्रायल में बिहार के किसी भी क्षेत्र के बच्चे शामिल हो सकते हैं। पटना AIIMS बिहार के लोगों से अपील की है कि वह बच्चों को इस महाअभियान के ट्रायल में शामिल कराएं, जिससे बच्चों के लिए वैक्सीन तैयार कर कोरोना को मात दी जा सके।

3 स्टेप में हर तरह से जांच के बाद दी जाएगी वैक्सीन

पटना AIIMS के प्रिंसिपल इंवेस्टीगेटर वैक्सीन और कम्युनिटी एंड फेमिली मेडिसिन के एचओडी डॉ. सीएम सिंह का कहना है कि ट्रायल की प्रक्रिया के लिए शुक्रवार को 28 मई से रजिस्ट्रेशन होगा। उनका कहना है कि इसके लिए ट्रायल का पूरा प्रोटोकॉल है जिसके आधार पर 2 से 18 वर्ष के बच्चों को वैक्सीन दी जाएगी। डॉ. सिंह का कहना है कि बड़ों को लगने वाली वैक्सीन से ही बच्चों का भी ट्रायल होगा।

स्टेप 1 : रजिस्ट्रेशन के लिए कराना होगा फोन

पटना AIIMS के प्रिंसिपल इंवेस्टीगेटर वैक्सीन डॉ सी एम सिंह का कहना है कि +91 9471408832 नंबर पर कोई भी गार्जियन बच्चों के ट्रायल के लिए रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं। रजिस्ट्रेशन में बच्चे का नाम पता और उससे जुड़ी जानकारी के साथ अभिभावक की पूरी जानकारी दर्ज की जाएगी।

स्टेप 2 : जांच के बाद फिजिकल एग्जामिन

रजिस्ट्रेशन के बाद पटना AIIMS संबंधित बच्चे के अभिभावक को फोन करेगा और पटना AIIMS में बुलाएगा। इसके बाद बच्चे की पूरी जांच होगी। फिजिकल जांच के बाद संबंधित बच्चे की कोरोना जांच होगी और फिर एंटीबॉडी की जांच कराई जाएगी। अगर बच्चा कोरोना निगेटिव पाया गया और उसके अंदर एंटीबॉडी नहीं बनी तो उसे ट्रायल के लिए पास कर लिया जाएगा और अगली डेट पर बुलाया जाएगा।

स्टेप 3 : वैक्सीन देने के बाद होगी मॉनिटरिंग

तीसरे स्टेप में पटना AIIMS संबंधित बच्चे को बुलाया जाएगा। इसके बाद फिर फिजिकल जांच के बाद बच्चे को वैक्सीन दी जाएगी। वैक्सीन देने के बाद संबंधित बच्चे की लगातार मॉनिटरिंग की जाएगी। बच्चों पर टीके का क्या असर हुआ इसका पूरा डाटा तैयार किया जाएगा।

बड़ों की वैक्सीन के लिए AIIMS ने 1306 लोगों का किया था ट्रायल

पटना AIIMS के प्रिंसिपल इंवेस्टीगेटर वैक्सीन और कम्युनिटी एंड फेमिली मेडिसिन के एचओडी डॉ सी एम सिंह का कहना है कि बड़ों की वैक्सीन आने से पहले ट्रायल किया गया था। 3 चरण में हुए ट्रायल में कुल 1306 लोगों का ट्रायल किया गया। पहले चरण में 46 और दूसरे चरण में 44 और तीसरे चरण में 1216 लोगों का ट्रायल किया गया था। बड़ाें की तरह ही बच्चों को भी ट्रायल के लिए आने पर पैसा दिया जाएगा। बच्चों को जितनी बार भी पटना AIIMS बुलाया जाएगा उन्हें आने जाने का खर्च दिया जाएगा।

दो से तीन चरण में होगा प्रशिक्षण

पटना AIIMS के प्रिंसिपल इंवेस्टीगेटर वैक्सीन और कम्युनिटी एंड फेमिली मेडिसिन के एचओडी डॉ सी एम सिंह की निगरानी में वैक्सीन का ट्रायल होगा। इसमें 2 से 18 साल तक के बच्चों में कोवैक्सीन का ट्रायल होगा। बच्चों में कोवैक्सीन का 2 से 3 चरण में परीक्षण होगा।

बड़ोंं की तरह बच्चों को भी दी जाएगी 28 दिन में 2 खुराक

COVID - 19 टीकाकरण परीक्षण में प्रत्येक बच्चे को 4 सप्ताह के अंदर में कोवैक्सीन की 2 खुराक दी जाएगी। बस बच्चा RT PCR और कोविड एंडीबाटी जांच में नेगेटिव पाया जाए। RT PCR और एलिसा के लिए नाक, गले से थूक का नमूना लिया जाएगा। सब जांच ठीक पाए जाने पर, बच्चे को इस COVID - 19 टीकाकरण परीक्षण में शामिल किया जाएगा। मोबाइल नंबर 9471408832 फोन कर ट्रायल में भाग लेने की अपील की जा रही है।

खबरें और भी हैं...