• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Chirag Paswan Lok Janshakti Party; Dainik Bhaskar To Bihar BJP Leaders Over IN Or OUT Question

ना 'चिराग', ना 'पारस', LJP पर BJP कंफ्यूज:दलित नेताओं ने चाचा-भतीजा दोनों का किया खुलकर विरोध, पार्टी महासचिव बोले- चुनाव आयोग के फैसले तक इंतजार करें

पटना5 महीने पहलेलेखक: बृजम पांडेय
  • कॉपी लिंक

चिराग पासवान को लेकर केंद्र की BJP सरकार कंफ्यूज है। लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) के अंदर जिस तरह से भगदड़ मची, उसके बाद रातों-रात चिराग पासवान अकेले पड़ गए। उनके चाचा पशुपति पारस ने लोकसभा में संसदीय दल के नेता के तौर पर लोकसभा अध्यक्ष को ज्ञापन दे दिया, उन्हें यह पद भी मिल गया। अब पारस ने लोजपा के बागी गुट के राष्ट्रीय अध्यक्ष होने की वजह से चुनाव आयोग में अपील की है कि पार्टी पर असली हक उनका है। इससे इतर चर्चा यह है कि महीने के अंतिम सप्ताह में केंद्रीय मंत्रिमंडल विस्तार में चिराग पासवान को जगह मिलती है या नहीं? दैनिक भास्कर की टीम ने BJP के बड़े नेताओं से इस सवाल का जवाब जानना चाहा तो पार्टी के दलित चेहरों ने मुखर होकर जवाब दिया। हालांकि, बाकी नेताओं ने इस सवाल को टाल दिया।

चिराग और पारस को मंत्रिमंडल में लेना ही नहीं चाहिए : मंत्री जनक राम

अलग-थलग पड़े चिराग पासवान को लेकर पूर्व सांसद और वर्तमान में बिहार सरकार में मंत्री जनक राम ने कहा, 'मामला अभी आयोग के पास है। निर्णय चुनाव आयोग को लेना है, लेकिन मेरा मानना है कि चिराग पासवान और पशुपति पारस जैसे नेताओं को मंत्रिमंडल में लेना ही नहीं चाहिए। इन्होंने सिर्फ अपने परिवार की राजनीति की है। इन्होंने समाज की राजनीति कभी नहीं की है। जब टिकट देना होता है, जब पार्टी में पद देना होता है तो ये सिर्फ अपने परिवार के लोगों को ही मुख्य पद देते हैं। आज तक रामविलास पासवान के परिवार ने समाज के लिए कोई हित का काम नहीं किया है'।

वहीं, BJP के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री संजय पासवान भी चिराग पासवान को मंत्रिमंडल में शामिल करने के खिलाफ हैं। साथ ही वह यह भी कहते हैं कि पशुपति पारस को भी मंत्रिमंडल में जगह नहीं मिलनी चाहिए। रामविलास पासवान और संजय पासवान एक ही समाज से आते हैं। अभी संजय पासवान बिहार BJP से विधान परिषद में सदस्य हैं। यह अटल बिहारी वाजपेई की सरकार में मंत्री भी रह चुके हैं।

मामला चुनाव आयोग में, अभी बोलना ठीक नहीं : सिग्रीवाल

इस मसले पर BJP के महाराजगंज से सांसद जनार्दन प्रसाद सिग्रीवाल कहते हैं कि यह मामला चुनाव आयोग में है। चिराग को मंत्रिमंडल में शामिल करना या ना करने पर फैसला NDA नेतृत्व लेगा। नेतृत्व की तरफ से मंत्रिमंडल के लिए पार्टी से सदस्य का नाम होता है। उस पर विचार किया जाता है। अभी LJP का पूरा मामला चुनाव आयोग के पास है। इस पर कुछ खास बोला नहीं जा सकता।

बिहार से केंद्र की राजनीति में गए संजय मयूख भी चिराग पासवान को लेकर अभी कोई बयान नहीं देना चाहते हैं। उनका मानना है कि अभी इस मामले पर बोलना उचित नहीं होगा। संजय मयूख BJP के राष्ट्रीय मीडिया सह प्रभारी हैं और बिहार में MLC भी हैं।

वहीं, BJP प्रदेश के महासचिव संजीव चौरसिया भी कहते हैं कि चिराग पासवान और उनके चाचा पशुपति पारस का मामला चुनाव आयोग के पास है जब तक यह मामला सुलझ नहीं जाता, इस मसले पर बोलना उचित नहीं होगा।

रामविलास पासवान को लेकर बहुत सम्मान : देवेश कुमार

इस मसले पर बिहार BJP के महासचिव देवेश कुमार कहते हैं कि रामविलास पासवान को लेकर BJP के मन में बहुत सम्मान है। उनकी धरोहर को हम BJP के साथ रखना चाहते हैं। हम चाहते हैं कि LJP तो NDA का हिस्सा रहे। हमारे साथ उनकी बाइंडिंग है।

खबरें और भी हैं...