पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Chirag Paswan Meet Former MP DR. Arun Kumar; Arun Kumar Attack On Nitish; Bihar Political Latest News

नीतीश को टक्कर देगी चिराग और अरुण की जोड़ी:रात में जहानाबाद के पूर्व सांसद से मिले चिराग, डॉ. अरुण बोले- नीतीश कुमार कपटी हैं, छल-प्रपंच में माहिर, चिराग में बिहार का भविष्य

पटना3 महीने पहलेलेखक: अमित जायसवाल
जहानबाद के सांसद डॉ. अरुण कुमार से खास बातचीत।

हाजीपुर के सुल्तानपुर में अपने पिता की पहली जयंती मनाने के बाद लोक जनशक्ति पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष व जमुई सांसद चिराग पासवान सीधे पटना के आशियाना नगर पहुंचे थे। वह जहानाबाद के पूर्व सांसद और भारतीय सबलोग पार्टी के मुखिया डॉ. अरुण कुमार से मिले। साथ में कई नेता मौजूद थे। रामविलास पासवान की जयंती पर एक बड़ी प्लानिंग के तहत मुलाकात और बातों का दौर चला। करीब डेढ़ घंटे तक चिराग पासवान वहां मौजूद रहे। इनके जाने के बाद भास्कर टीम ने डॉ. अरुण कुमार से बात की। नीतीश पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि सीएम कपटी हैं। छल-प्रपंच और तिकड़म करने लगे हैं।

आशीर्वाद यात्रा का जिक्र करते हुए अरुण कुमार ने कहा, 'चिराग को अप्रत्याशित आशीर्वाद मिला है। हर समाज, जाति और धर्म से उपर उठकर लोगों ने उन्हें अपना आशीर्वाद दिया। यहां के नौजवानों ने उनका साथ दिया। इनकी उपस्थिति सबसे अधिक थी। नीतीश कुमार ने नौजवानों को ठगा है। इनके राज्य में युवा चौराहों पर खड़े हैं। युवा होने के कारण चिराग ने इस समस्या को चुनौती के रूप में अपने कंधों पर लिया है'। डा. अरुण ने कहा कि उनकी पार्टी के लोग सुबह 10 बजे से आए हुए थे। घर पर ही हम पूर्व केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान की जयंती मना रहे थे। चिराग आए और हमारे साथियों को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि बिहारी अस्मिता की जो लड़ाई शुरू की है, उसे अंतिम सांस तक लड़ेंगे। बिहार को बदलेंगे।

परिस्थितियों ने जलाया एक नया चिराग
डा. अरुण बिहार के पुराने नेता हैं। जॉर्ज फर्नांडिस, नीतीश कुमार और उपेंद्र कुशवाहा का राजनीतिक तौर पर काफी साथ दे चुके हैं। उन्होंने कहा, 'मैंने उपेंद्र कुशवाहा को पूरी ताकत दी है। लेकिन, वह केंद्र में बनते ही खुश हो गए। सारे संकल्प को उन्होंने धवस्त कर दिया। इस कारण हम चुप बैठ गए और अपना काम करने लगे। प्रकृति और परिस्थितियों ने एक नया चिराग जलाया। इसमें हमने अपनी उर्जा देने का संकल्प लिया है।

चिराग पासवान हमसे कुछ मांगने नहीं आए थे। मैंने यह महसूस किया कि उनके साथ अनर्थ हो रहा है। अनैतिक और कपट वाले कार्य उनके साथ हुए। रामविलास पासवान के ब्रह्मलीन होते ही सारे लोगों ने हर तरह की लीला रच दी। चिराग एक नवोदित नौजवान हैं। हमने उन्हें पार्लियामेंट के अंदर भी बोलते सुना है। उन्हें समस्याओं को चुनौती के रूप में लेते देखा है। इस व्यक्ति में संभावनाएं हैं। राज्य और देश का यह नेतृत्व कर सकता है। इसलिए इनका साथ देना चाहिए और मनोबल को बढ़ाना चाहिए। यही देख कर हमने चिराग के साथ खड़े होने का फैसला लिया है'।

हर कुर्बानी देने के लिए हैं तैयार
भारतीय सबलोग पार्टी के लोकजनशक्ति पार्टी में विलय से जुड़े सवाल पर डॉ. अरुण कुमार ने कहा कि विलय से क्या होगा? 'हम तो ऐसे ही उनको ताकत देने के लिए मौजूद हैं। बाहर रहकर साथ देने से भी हमारा संकल्प पूरा हो जाता है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के खिलाफ और चिराग का साथ देने के लिए हम कोई भी कुर्बानी देने को तैयार हैं। हमारा मुख्य मुद्दा बिहार को अराजकता से निकालना है। हमारा मुद्दा ये कभी नहीं रहा कि हमें कितनी संख्या में और क्या सीट मिलेगी? हम कितने के हिस्सेदार हैं? हिस्सेदारी तो नीतीश कुमार सबको दे ही रहे हैं। उनके मंत्री छाती पीट रहे हैं कि उनकी कोई सुन नहीं रहा है। जिस दिन कानून-व्यवस्था पर नीतीश मीटिंग करते हैं, उसी दिन डकैती, मर्डर और रेप की घटनाएं हो जाती हैं। उनका ऑरा (तेज) समाप्त हो गया है। ऐसे कालखंड में बिहार को एक बेहतर विकल्प की जरूरत है। उस बेहतर विकल्प की संभावनाएं चिराग पासवान के अंदर दिख रही हैं'।

बनाना होगा मॉर्डन और सशक्त बिहार
"समाजवाद की जिस धारा को रामविलास पासवान ने अंतिम सांस तक जिया है। उसे अब उनके बेटे को आगे लेकर बढ़ना होगा। उन्हें बिहार को एक मॉर्डन के साथ ही सशक्त बिहार बनाना होगा। बिहारी होना स्वाभिमान की बात नीतीश कुमार कहा करते थे। ऐसा उन्होंने कुछ किया नहीं। बिहार अपमान का विषय था और रह गया। लेकिन, नया बिहार बनाने का हमने संकल्प लिया है"।

चिराग नीतीश कुमार को कितना टक्कर दे पाएंगे? इस सवाल पर उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार किसी को टक्कर नहीं दे पाते हैं। वो सिर्फ कपट से सबकुछ प्राप्त कर पाते हैं। जब जॉर्ज फर्नांडिस थे तब उन्हें सच्ची शक्ति मिली थी। बाद में नीतीश कुमार ने सिर्फ तिकड़मबाजी की। नीतीश कुमार अपराध, लूट, भ्रष्टाचार, हॉस्पिटलों की दुखद स्थिति और 117 बिन्दुओं पर विश्लेषण करने वाले नीति आयोग के मामले में ही फर्स्ट हैं।

खबरें और भी हैं...