• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Chirag Paswan Publis Meetings In Bihar May Be Super Spreader For Corona Infection

कोरोना के 'सुपर स्प्रेडर' बन सकते हैं चिराग, देखें VIDEO:5 जुलाई से अब तक 5 जिलों में भारी भीड़ जुटा चुके, DM से DGP तक को खुद दे रहे जानकारी, फिर भी प्रशासन की आंखें बंद

पटना5 महीने पहले

बिहार में चिराग पासवान कोरोना के सुपर स्प्रेडर बन सकते हैं। भीड़ से अपनी ताकत दिखाने वाले चिराग की आशीर्वाद यात्रा भारी पड़ सकती है। यह हम नहीं, हालात कह रहे हैं। बिहार में तबाही को दो माह भी नहीं बीते और संक्रमण की भीड़ तैयार हो रही है। हालांकि, चिराग ने अपने सारे कार्यक्रम की जानकारी प्रदेश के गृह सचिव, DGP से लेकर जिला प्रशासन तक को दी। इसके बावजूद काेरोना गाइडलाइन का पालन नहीं कराया जा रहा है।

जिम्मेदारों की आंख पर काला चश्मा

कोरोना की दूसरी लहर ने बिहार में जमकर तबाही मची। अप्रैल-मई में मौत का तांडव हुआ। कोरोना की चेन तोड़ने के लिए सरकार को लॉकडाउन का सहारा लेना पड़ा। सोशल डिस्टेंसिंग को लेकर सरकार की सख्ती से ही कोरोना के आंकड़ाें पर काबू में पाया जा सका। सरकार भी मानती है कि अभी कोरोना का खतरा टला नहीं है। इसी कारण से बिहार अनलॉक-4 में चल रहा है।

सरकार ने कोरोना का स्प्रेड रोकने के लिए सार्वजनिक आयोजन पर पूरी तरह से रोक लगाई है और शादी-विवाह जैसे आवश्यक कार्यक्रमों में भी 50 से अधिक लोगों की अनुमति नहीं दे रही है। CM नीतीश कुमार ने समीक्षा के बाद अधिकारियों को अनलॉक 4 के नियम का कड़ाई से पालन कराने का निर्देश दिया है, लेकिन CM का आदेश भी अफसरों के लिए हवा-हवाई ही है।

5 जुलाई को चिराग पटना पहुंचे, एयरपोर्ट से लेकर भीड़ के साथ पटना में कई कार्यक्रम किया।
5 जुलाई को चिराग पटना पहुंचे, एयरपोर्ट से लेकर भीड़ के साथ पटना में कई कार्यक्रम किया।

नेताओं ने स्वार्थ में साइड कर दी गाइडलाइन

कोरोना के अनलॉक-4 में कई बड़े राजनीतिक कार्यक्रम हुए। इसी 5 जुलाई को राजद ने पटना में पार्टी का स्थापना दिवस मनाया और पशुपति पारस की तरफ से रामविलास पासवान की जयंती समारोह का आयोजन किया। यह दोनों आयोजन एक ही दिन कोरोना की सारी गाइडलाइन को तोड़कर कर लिए गए। वहीं, चिराग पासवान ने 5 जुलाई से आशीर्वाद यात्रा चलाई, जाे लगातार कोरोना गाइडलाइन तोड़ते हुए जारी है। यह यात्रा पटना से लेकर कई जिलों में पहुंच रही है, जहां खुद चिराग बिना मास्क के घूम रहे हैं और भीड़ में अधिकांश लोग बिना मास्क के दिख रहे हैं।

भीड़ पर एक्सपर्ट का यह है व्यू

दैनिक भास्कर ने राजनीतिक कार्यक्रम में भीड़ से टूट रही कोरोना गाइडलाइन और इसके खतरे को लेकर मेडिकल एक्सपर्ट से बात की तो पता चला यह मनमानी भारी पड़ सकती है। पटना मेडिकल कॉलेज के माइक्रो वायरोलॉजी विभाग के HOD डॉ सत्येंद्र सिंह का कहना है कि भीड़ में एक भी संक्रमित बड़ी संख्या में लोगों को संक्रमित कर सकता है। भीड़ में बीमार, वृद्ध और बिना वैक्सीन वालों को बड़ा खतरा होगा।

डॉ सत्येंद्र बताते हैं कि भीड़ में ऐसे लोगों का खतरा होगा, जिन्होंने वैक्सीन की दोनों डोज नहीं ली है। जिन लोगों को कोरोना हो चुका है या फिर वैक्सीन ले चुके हैं वही इस खतरे से बच पाएंगे। भीड़ में एक-दो व्यक्ति ही बड़े समूह को संक्रमित कर तबाही मचा सकते हैं। भीड़ में कोरोना स्प्रेड होने से इसकी रफ्तार को रोक पाना काफी मुश्किल होगा।

पड़ोसी राज्यों में खतरनाक स्प्रेड, यूपी से आए समर्थक

बिहार के पड़ोसी राज्यों में खतरनाक वैरिएंट पाए जा रहे हैं। उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में डेल्टा प्लस के साथ कप्पा वैरिएंट मिला है। बिहार और यूपी का कनेक्शन अधिक है। गोरखपुर से बिहार में लोगों का आना-जाना होता है। ऐसे में नए वैरिएंट को लेकर भी खतरा है।

बताया जा रहा है कि चिराग के आशीर्वाद यात्रा में अधिक संख्या में यूपी से भी समर्थक आए हैं। वह चिराग के साथ साथ चल रहे हैं। ऐसे में इस चिराग से कोरोना की आग का खतरा जाना जा सकता है। एक भी संक्रमित खतरनाक वैरिएंट का होगा तो पूरा एरिया तबाह हो जाएगा। हर तरफ तबाही मच जाएगी।

सरकार से भास्कर के 5 सवाल

  1. क्या राजनीतिक कार्यक्रमों में कोरोना के दौर में भीड़ में कोई छूट दी गई है?
  2. क्या चिराग पासवान ने बिहार में जगह-जगह भीड़ जुटाने के लिए कोई अनुमित ली है?
  3. अगर बिना अनुमति के कई जिलों में भीड़ से ताकत दिखाई जा रही है, ताे क्या कार्रवाई की गई?
  4. क्या राजनीतिक कार्यक्रम में बिना मास्क के जुटने वाली भीड़ से कोरोना का कोई खतरा नहीं?
  5. आम जनता की सुरक्षा में क्या किया गया, क्या ऐसी भीड़ से अनलॉक 4 का नियम नहीं टूटा?

बिहार में कोरोना के खतरे का ग्राफ

  • 24 घंटे में नए मामले - 115
  • अब तक संक्रमित हुए - 7,22,965 लोग
  • कोरोना से ठीक हुए - 7,12,210 लोग
  • अब तक संक्रमण से मौत हुई - 9614 लोगों की
  • कुल एक्टिव मामले हैं बिहार में - 1140

इन इलाकों में चिराग की आग का खतरा

  • 5 जुलाई को चिराग पटना पहुंचे, एयरपोर्ट से लेकर भीड़ के साथ पटना में कई कार्यक्रम किया।
  • 5 जुलाई को ही चिराग ने हाजीपुर में आशीर्वाद यात्रा भारी भीड़ के साथ निकाली और कई कार्यक्रम किया।
  • 7 जुलाई को आशीर्वाद यात्रा से पटना से लेकर समस्तीपुर तक यात्रा किया, इसमें भारी भीड़ जुटी।
  • 8 जुलाई को समस्तीपुर से लेकर बेगूसराय तक एक दर्जन से अधिक कार्यक्रम में शामिल हुए।
  • 9 जुलाई को बेगूसराय में 10 से अधिक कार्यक्रम किया जिसमें जमकर भीड़ दिखी।
  • 9 जुलाई को खगड़िया, बेगूसराय, जीरो माइल, मोकामा, बाढ़, बख्तियारपुर होते हुए पटना आए।
खबरें और भी हैं...