पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Chirag Paswan Uncle's Ramchandra Paswan Death Anniversary; Pashupati Paras And BJP Leaders Paid Tribute

BJP ने 'चिराग' छोड़ 'पारस' का हाथ थामा:बिहार BJP अध्यक्ष संजय जायसवाल पहुंचे रामविलास के छोटे भाई रामचंद्र की दूसरी पुण्यतिथि में; दिल्ली में पारस ने किया था आयोजन, उधर चिराग अकेले ही नजर आए

पटना9 दिन पहले
चाचा रामचंद्र की पुण्यतिथि में अकेले पड़ गए चिराग।

रामचंद्र पासवान की पुण्यतिथि मंगलवार को मनाई गई। दिवंगत नेता रामविलास पासवान की जयंती के बाद यह दूसरा मौका था, जब लोजपा के दोनों गुटों-चिराग और पारस- ने जोर-आजमाइश की। इस मौके पर अब तक लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) की बगावत में खुलकर सामने नहीं आने वाली भाजपा की एंट्री हो गई। बिहार बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल पारस गुट की ओर से दिल्ली में आयोजित पुण्यतिथि समारोह में शामिल हुए। वहीं, चिराग पासवान ने अकेले ही कार्यक्रम का आयोजन किया। रिश्तेदार भी केंद्रीय मंत्री पशुपति पारस के साथ नजर आए।

दिवंगत रामचंद्र पासवान के सांसद पुत्र प्रिंस राज और कृष्ण राज ने भी चिराग पासवान को याद नहीं किया। वे, अपने केंद्रीय मंत्री चाचा पशुपति पारस के साथ राजनीति में शामिल हो गए। कार्यक्रम में पूर्व सांसद सूरजभान सिंह, सांसद वीणा देवी, सांसद चंदन सिंह शामिल हुए। पुण्यतिथि पर रामचंद्र पासवान के चित्र पर माल्यार्पण किया गया।

चिराग अभी लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) पर हक की लड़ाई संसद से सड़क तक लड़ रहे हैं।

भाई रामचंद्र पासवान को श्रद्धांजलि देते पशुपति कुमार पारस।
भाई रामचंद्र पासवान को श्रद्धांजलि देते पशुपति कुमार पारस।

पशुपति पारस अपने भाई को याद कर भावुक हो गए( कहा- 'आज हमारे दोनों भाई रामविलास पासवान और रामचंद्र पासवान हमें छोड़ कर चले गए। हम तीन भाई के चार लड़के हैं। ग्रामीण परिवेश से हम लोग यहां तक पहुंचे हैं जो हमारे पिता जी का पुण्य प्रताप था। पारस ने कहा कि छोटा भाई रामचंद्र पासवान हम सबका प्रिय था। भगवान से प्रार्थना है कि जहां भी हो उनकी आत्मा को शांति दें'।

पारस की ओर से आयोजित श्रद्धांजलि सभा में पहुंचे बिहार भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल।
पारस की ओर से आयोजित श्रद्धांजलि सभा में पहुंचे बिहार भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल।

उधर, चिराग पासवान के समारोह में ना तो प्रिंस राज दिखे और ना ही कृष्णराज दिखे। चिराग पासवान ने अपने बेहद निजी कार्यक्रम की फोटो सोशल मीडिया पर डाली और एक मार्मिक पोस्ट भी डाला, जिसमें उन्होंने लिखा कि 'समस्तीपुर लोकसभा के पूर्व सांसद व मेरे छोटे चाचा जी स्वर्गीय रामचंद्र पासवान जी की पुण्यतिथि पर उनको नमन करता हूं। पहले छोटे चाचा जी फिर पापा के निधन के कारण पिछले दो वर्ष पारिवारिक तौर पर बेहद कष्ट देने वाले रहे हैं। छोटे चाचा जी की कमी कोई पूरी नहीं कर सकता। विनम्र श्रद्धांजलि।' इनके इस कार्यक्रम में कोई बाहरी व्यक्ति नहीं दिखाई दिया।

क्या बोले पारस

केंद्रीय मंत्री पशुपति पारस ने कहा कि हमारे दोनों भाई रामविलास पासवान और रामचन्द्र पासवान हमें छोड़ कर चले गए, हमारे तीनों भाई के चार लड़के हैं, ग्रामीण परिवेश से हमलोग यहां तक पहुंचे हैं, जो हमारे पिताजी का आर्शीवाद एवं पुण्य-प्रताप था। पारस ने कहा कि छोटा भाई रामचन्द्र पासवान हम सब का प्रिय था, भगवान से प्रार्थना है कि जहां कहीं भी दिवंगत रामचन्द्र हैं उनकी आत्मा को शांति मिले। इस मौके पर पारस ने परिवारिक बातों का उल्लेख करते हुए कहा कि हम तीनों भाई जहां तक पहुंचे, हमारे भाई का बेटा चिराग पासवान भी हैं और प्रिंस राज भी हैं। प्रिंस हो या चिराग पासवान। मैं दोनों के उज्जवल भविष्य की कामना करता हूं और मैं दोनो का पिता होने के नाते दोनों को आर्शीवाद देता हूं, ये दोनों हमलोग से भी आगे बढ़े और आगे जाए।

खबरें और भी हैं...