• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • CM Nitish Kumar Visits Patna City Area To Survey Archeological Works On Ground For Whole Day

पटना का इतिहास जमीन से बाहर लाएंगे CM:नीतीश कुमार पूरे दिन पटना साहिब में घूमते रहे, प्रकाश पुंज-गुलजारबाग प्रेस और BNR गए

पटना9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
CM ने प्रकाश पुंज परिसर के चारों तरफ वृक्षारोपण कराने को कहा। - Dainik Bhaskar
CM ने प्रकाश पुंज परिसर के चारों तरफ वृक्षारोपण कराने को कहा।

CM नीतीश कुमार ने शुक्रवार को राजधानी के इतिहास को ढूंढने के लिए पटना साहिब के कई इलाकों का भ्रमण किया। पहले उन्होंने पटना साहिब के गुरु के बाग में बन रहे प्रकाश पुंज का जायजा लिया। यहां बन रहे प्रकाश पुंज और प्रकाश भवन का जायजा लिया। वहीं, पटना सिटी इलाके के गुलजारबाग प्रेस में भी CM पुरातात्विक विभाग के अधिकारियों के साथ पहुंचे। वहां अधिकारियों के साथ काफी देर तक मत्थापच्ची की। फिर पटना सिटी के BNR कॉलेज पहुंचे, जहां उन्होंने कहा कि यहां पुरातत्व विभाग एक तरफ खुदाई कर सकता है और यहां के इतिहास को बाहर निकाल सकता है।

CM नीतीश ने गुरु के बाग में बन रहे प्रकाश पुंज के बहुद्देशीय प्रकाश केंद्र और उद्यान परियोजना का निरीक्षण किया और अधिकारियों से उसके निर्माण कार्य से संबंधित जानकारी ली। निरीक्षण के क्रम में मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रकाश पुंज परिसर के चारों तरफ चयनित वृक्षों का रोपण कराया जाए। इसके मुख्य द्वार के सामने के तालाब के चारों तरफ पेवर ब्लॉक से रास्ते का निर्माण कराया जाए, जिससे टहलने में सहूलियत हो। इसके अलावे तालाब के बाद रेलवे लाइन है, सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए तालाब के बाहर बाउंड्री भी कराई जाए। प्रकाश पुंज परिसर के बाहरी क्षेत्र में भी सड़क का निर्माण कराया जाए, ताकि पर्यटकों और स्थानीय लोगों को सुविधा हो।

नीतीश कुमार ने BNR टीचर्स ट्रेनिंग कॉलेज का निरीक्षण किया।
नीतीश कुमार ने BNR टीचर्स ट्रेनिंग कॉलेज का निरीक्षण किया।

गुलजारबाग प्रेस भवन में इतिहास की बात की

इसके बाद CM नीतीश ने गुलजारबाग प्रेस भवन परिसर में कहा कि पाटलिपुत्र यही है, जो पटना साहिब कहलाता है। पाटलिपुत्र का इलाका यही है, यहां पुरातात्विक खुदाई को लेकर लोगों को विस्थापित करना संभव नहीं है। अगर कहीं सरकारी जमीन है तो उसको देखकर वहां कुछ खुदाई की जाये तो बहुत सारी चीजों की जानकारी मिल सकती है। इसके लिये हमने कहा है। अभी हाल ही में एक दो जगह आइडेंटीफाइ किया गया है और उसी को हम देखने आये हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि पाटलिपुत्र का इतिहास दुनिया का सबसे पुराना है। अगर एक बार यहां के बारे में कुछ पता चल जाए तो कितने टूरिस्ट आयेंगे। यहां का जो इतिहास है वो और ज्यादा सार्वजनिक होगा। नई पीढ़ी के लोग और बढ़िया से जानेंगे और देखेंगे। इसके लिये हमलोगों की इच्छा शुरू से रही है, लेकिन कहीं कोई जमीन नहीं रहने के कारण कुछ कर नहीं पा रहे हैं।

BNR में पुरातात्विक खुदाई पर चर्चा की

नीतीश कुमार सबसे अंत में BNR टीचर्स ट्रेनिंग कॉलेज के निरीक्षण में गए। वहां भी पुरातात्विक खुदाई को लेकर विशेषज्ञों और अधिकारियों के साथ निरीक्षण के दौरान कई बिंदुओं पर चर्चा की और आवश्यक निर्देश दिए। निरीक्षण के बाद CM ने कहा कि हमने पुरातात्विक खुदाई को लेकर पहले ही बता दिया है कि जो सरकारी एरिया है, उसमें खुदाई कर सकते हैं। लेकिन यहां पर हम आये हैं और परिसर को देखे हैं। यहां पर स्कूल को और एक्सटेंशन करने की जरूरत है। एक तरफ बच्चियों के खेलने की व्यवस्था रहेगी और जो जगह बचेगा, उसमें खुदाई किया जा सकता है।

खबरें और भी हैं...