CM नीतीश बोले- कोरोना से सचेत और सजग रहें:कहा- सभी लोग मास्क जरूर लगाएं, पटना में मंदिरी नाले पर 11 माह में बनेगी सड़क

पटना10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार। - Dainik Bhaskar
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार।

कोरोना की तीसरी संभावित लहर को देखते हुए केंद्र की सरकार कई उपाय कर रही है और इसको लेकर कई गाइडलाइन जारी किया है। कोरोना से बचाव को राज्य सरकार अपने स्तर से सभी कदम उठा रही है लेकिन सभी को सचेत और सजग रहने की जरूरत है। सभी लोग मास्क का प्रयोग जरूर करें। ये बातें मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहीं। वे रिमोट के माध्यम से पटना स्मार्ट सिटी मिशन के अंतर्गत 15 योजनाओं का शिलान्यास और 12 योजनाओं का उद्घाटन कर रहे थे।

इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने रिमोट के माध्यम से नगर विकास एवं आवास विभाग के अंतर्गत विभिन्न जिलों में 15 योजनाओं का उद्घाटन एवं कई योजनाओं का शिलान्यास किया। मुख्यमंत्री ने रिमोट के माध्यम से पटना स्मार्ट सिटी मिशन के अंतर्गत मंदिरी नाला के विकास कार्य योजना का भी शिलान्यास किया। मंदिरी नाले पर 11 माह में सड़क निर्माण करवाया जाएगा।

मुख्यमंत्री सचिवालय स्थित 'संवाद' में शनिवार को यह आयोजन हुआ। उप मुख्यमंत्री सह नगर विकास एवं आवास मंत्री तारकिशोर प्रसाद ने मुख्यमंत्री का स्वागत पौधा भेंटकर किया। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से मंदिरी नाला कार्यक्रम स्थल से पथ निर्माण मंत्री नितिन नवीन ने भी संबोधित किया।

नगर निकायों में काफी पदों का सृजन किया जा रहा

इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्ष 2005 में बिहार में सिर्फ 112 शहरी निकाय थे जो वर्ष 2021 में बढ़कर 258 हो गए हैं। 2005 में शहरी निकायों की आबादी लगभग 81 लाख 49 हजारी थी जो वर्ष 2021 में बढ़कर 1 करोड़ 58 लाख 71 हजार हो गई है। कई नगर निगम, नगर परिषद एवं नगर पंचायतों का गठन किया गया है। इसमें ग्रामीण इलाकों को शहरी क्षेत्र में शामिल किया गया है। वर्ष 2006 हमलोगों ने पंचायती राज चुनाव में महिलाओं को 50 प्रतिशत का आरक्षण का प्रावधान किया। वर्ष 2007 में नगर निकाय चुनाव में भी महिलाओं को 50 प्रतिशत आरक्षण का प्रावधान कर दिया गया। SC-ST, अतिपिछड़े वर्गों के लिये भी आरक्षण का प्रावधान किया गया। नगर निकायों का काम ठीक ढंग से हो इसको लेकर काफी पदों का सृजन किया जा रहा है।

शहरों और नदी घाटों पर विद्युत शवदाह गृह व मोक्ष धाम का निर्माण होगा

मुख्यमंत्री ने कहा कि ग्रेटर पटना का प्रारूप वर्ष 2013-14 में तैयार कराया गया था। उस पर तेजी से काम करें। शहरों के गंदे पानी को साफ कर गांवों में सिंचाई के लिए इसका उपयोग करने की योजना पर काम चल रहा है। स्मार्ट सिटी के तहत पटना, मुजफ्फरपुर, बिहारशरीफ एवं भागलपुर में काम चल रहा है। सही मायने में सिटी को स्मार्ट बनाने के लिए काम करना है। स्मार्ट सिटी के लिए जितने पैसों की जरूरत होगी उसे पूरा किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि सात निश्चय-2 के अन्तर्गत वृद्धजनों के लिये आश्रय स्थल का इंतजाम किया जा रहा है। वृद्धाश्रम के लिए एजेंसी के चयन की प्रक्रिया चल रही है। शहरों के वैसे गरीब-गुरबा जिनके पास रहने के लिये अपना घर नहीं है, उनके रहने के लिए बहुमंजिली इमारत बनेगी। सभी शहरों में स्मार्ट वाटर ड्रेनेज सिस्टम को विकसित किया जाएगा ताकि शहरों में जलजमाव की समस्या न हो। सभी शहरों एवं नदी घाटों पर विद्युत शवदाह गृह एवं मोक्ष धाम का निर्माण कराया जाएगा और वहां साफ-सफाई की भी पूरी व्यवस्था रहेगी ताकि किसी को भी अपने परिजनों के अंतिम संस्कार में कोई परेशानी न हो।

शहरों में जाम से निजात के लिए बाईपास

मुख्यमंत्री ने कहा कि शहरों में जाम की समस्या से निपटने को लेकर बाईपास का निर्माण कराया जा रहा है। जहां बाईपास बनाने के लिये जगह नहीं है वहां फ्लाईओवर का निर्माण कराया जाएगा। राजधानी पटना में भी कई फ्लाईओवरों का निर्माण कराया गया है।

सांकेतिक रूप से घर की चाभी सौंपी

कार्यक्रम के दौरान नगर विकास एवं आवास विभाग की विभिन्न योजनाओं से संबंधित एक वृतचित्र का प्रदर्शन किया गया। पटना स्मार्ट सिटी पर आधारित एक वृतचित्र का भी प्रदर्शन किया गया। कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री शहरी आवास योजना के अंतर्गत 12,515 लाभुकों में से सांकेतिक तौर पर 4 लाभुकों मंजू देवी, सुशीला देवी, संजीदा परवीन और शमीमा खातून को घर की चाभी सौंपी।

479 स्वयं सहायता समूहों को 5 करोड़ 81 लाख 50 लाख रुपए ऋण दिए

मुख्यमंत्री ने पंडित दीनदयाल उपाध्याय अंत्योदय योजना राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन के अंतर्गत लाभान्वित 479 स्वयं सहायता समूह में से सांकेतिक तौर पर 3 स्वयं सहायता समूहों, नगर निगम बेतिया से शिवगुरु आजीविका स्वयं सहायता समूह को 5 लाख रुपए का चेक, नगर परिषद नवादा के सहायता स्वयं सहायता समूह को 1.5 लाख का चेक नगर परिषद मसौढ़ी के भवानी आजीविका समूह की महिलाओं को 1.5 लाख रुपये का ऋण के रूप में चेक प्रदान किया।

इस योजना के अंतर्गत 479 स्वयं सहायता समूहों को 5 करोड़ 81 लाख 50 हजार की राशि ऋण के रुप में वितरित की गई। कॉमन सर्विस सेंटर के संचालन के लिए सांकेतिक रूप से स्वयं सहायता समूह की महिला इंदू श्रीवास्तव और सविता कुमारी को प्रमाण-पत्र दिया। राज्य में 2,250 स्वयं सहायता समूहों द्वारा विभिन्न जिलों में कॉमन सर्विस सेंटर की शुरूआत की गई है।