• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Congress Raised Question Over JP Pension By Bihar Government, Said It Should Be Stopped Immediately

JP पेंशन बढ़ाने से कांग्रेस को ऐतराज:बंद करने की उठाई मांग; तर्क- गरीबों-असहायों की पेंशन बढ़ाने को रुपए नहीं, यह तो बंदरबांट है

पटनाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जेपी आंदोलन से निकले CM नीतीश कुमार ने जेपी सेनानियों की पेंशन बढ़ाने का फैसला किया है। - Dainik Bhaskar
जेपी आंदोलन से निकले CM नीतीश कुमार ने जेपी सेनानियों की पेंशन बढ़ाने का फैसला किया है।

बिहार सरकार ने JP सेनानियों को मिलने वाली पेंशन की राशि बढ़ाने का ऐलान किया है, वहीं कांग्रेस ने इसे सरकारी धन का दुरुपयोग बताया है। कांग्रेस के पार्षद प्रेमचंद मिश्रा ने कहा- 'इस योजना को जल्द से जल्द खत्म करना चाहिए। यह कांग्रेस सरकार के विरुद्ध चलाया गया राजनीतिक महत्वाकांक्षा से प्रेरित एक आंदोलन था। इसमें भाग लेने या जेल गए राजनीतिक कार्यकर्ताओं को हजारों रुपए बतौर पेंशन देना, सरकारी खजाने को अपने समर्थकों में बांटना, न सिर्फ धन का दुरुपयोग बल्कि गलत परंपरा है। इसे तत्काल वापस लेना चाहिए।'

उन्होंने पूछा है- '45 साल पहले के आंदोलनकारी को आखिर कब तक सरकारी खजाने से पैसा दिया जाता रहेगा? जब गरीबों, विकलांगों, महिलाओं, वृद्धजनों को प्रतिमाह मात्र 400 रुपए मिलने वाली पेंशन को बढ़ाने की मांग की जाती है, तो मुख्यमंत्री पैसे की कमी बता कर मना कर देते हैं। जेपी सेनानियों के नाम पर अपने समर्थकों को प्रतिमाह पांच हजार से बढ़ाकर 7500 रुपए पेंशन देने के लिए पैसा है? यह अपने आप में कई सवाल खड़े करता है।'

प्रेमचंद मिश्रा।
प्रेमचंद मिश्रा।

मिश्रा ने कहा -'किसी भी राज्य में सत्तारूढ़ दल के समर्थकों को पेंशन देना कहीं से भी उचित नहीं है। बिहार जैसे गरीब राज्य के खजाने से प्रतिमाह करोड़ों रुपए 45 साल पहले के राजनीतिक आंदोलन में भाग लेने वालों के बीच बांटना, एक प्रकार की लूट और बंदरबांट जैसा है। इस मद में खर्च हो रहे सरकारी धन का उपयोग गरीबों, दलितों, विकलांगों, असहाय वृद्धों, महिलाओं को मिलने वाली पेंशन की राशि की बढ़ोतरी में किया जाना चाहिए।'

JDU ने कहा- पहले RJD से राय ले लें प्रेमचंद मिश्रा
इस मामले में JDU के प्रवक्ता नीरज कुमार ने भास्कर से कहा- 'देश में जो सरकारें हैं, उसका तुलनात्मक अध्ययन कर लें। हम सारे वर्ग के लोगों को योजनाओं से लाभ पहुंचाते हैं। जेपी मूवमेंट अधिनायकवाद के खिलाफ लड़ाई थी। इस पर बयान देने से पहले महागठबंधन के RJD से राय ले लें प्रेमचंद मिश्रा। जेपी सेनानी जेल में गए थे। वह दलीय निष्ठा नहीं थी। नीतीश कुमार ने ही स्वतंत्रता सेनानियों के पोते-पोतियों को आरक्षण दिया, कांग्रेस ने तो उनका ख्याल नहीं रखा।'

RJD ने कहा- भूमिगत रहकर काम करने वालों को भी मिले पेंशन
RJD के प्रवक्ता चित्तरंजन गगन ने कहा- 'जेपी आंदोलन किसी दल विशेष से जुड़ा हुआ नहीं था। अभी उससे भी बदतर स्थिति होती जा रही है। जेपी पेंशन बंद नहीं होनी चाहिए, बल्कि उन लोगों को भी जोड़ना चाहिए जिन्होंने भूमिगत होकर आंदोलन को आगे बढ़ाने में मदद की। सरकार को वृद्धावस्था पेंशन सहित सामाजिक सुरक्षा पेंशन की राशि बढ़ानी चाहिए।'

स्वतंत्रता सेनानियों के जैसे मिल रही JP पेंशन - भाजपा
भाजपा के प्रवक्ता प्रेम रंजन पटेल ने कहा- 'जेपी सेनानियों ने सत्ता की निरंकुशता और एकाधिकार के खिलाफ लड़ाई लड़ी थी। 1947 में एक आजादी की लड़ाई लड़ी गई और दूसरी आर्थिक आजादी की लडा़ई लड़ी गई जेपी के नेतृत्व में। स्वतंत्रता सेनानी भी निस्वार्थ भाव से लड़े थे और जेपी के सिपाही भी निस्वार्थ भाव से लड़े। जेल गए, यातनाएं झेलीं। स्वतंत्रता सेनानियों को जिस तरह से पेंशन दी गई, उसी तरह से सत्ता की निरंकुशता के खिलाफ लड़ने वाले को पेंशन दी जा रही है। कांग्रेस के खिलाफ ही वह लड़ाई लड़ी गई थी, इसलिए कांग्रेस नेता विरोध कर रहे हैं।'

खबरें और भी हैं...