पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Bihar Lightning Death: Eight People Died Due To Lightning Strikes Today In Bihar District Patna, Vaishali, Saran And Araria

बिहार:बिजली गिरने से 10 जिले में फिर 18 लोगों की मौत, इस साल 300 से अधिक जानें जा चुकीं, बचने के लिए करें ये उपाय

पटना5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पटना में करीब दो घंटे तक भारी बारिश हुई, जिससे कुछ जगह सड़क पर जल-जमाव हो गया।
  • वैशाली जिले के राघोपुर पूर्वी पंचायत में ठनका की चपेट में आकर चार लोगों की मौत हुई
  • मौसम विभाग ने रोहतास, कैमूर, शेखपुरा, नवादा, सारण और बक्सर में बिजली गिरने की संभावना जताई है

मंगलवार को वैशाली, रोहतास, सारण, भोजपुर, गोपालगंज, बेगूसराय, सुपौल, पटना, कैमूर और अररिया में बिजली गिरने से 17 लोगों की मौत हो गई। सबसे अधिक मौत वैशाली जिले के राघोपुर में हुई है। राघोपुर पूर्वी पंचायत में ठनका की चपेट में आकर चार लोगों की मौत हुई। रोहतास के खुर्माबाद में दो किसानों की मौत ठनका गिरने से हुई। वहीं, एक व्यक्ति की मौत काराकाट में हुई।

सारण जिले के पानापुर में बिजली गिरने से दो बच्चियों की मौत हो गई। भोजपुर जिले के उदवंत नगर में दो लोगों की मौत हुई। मृतकों में एक छात्रा शामिल है। वह कॉलेज से घर लौट रही थी तभी उस पर बिजली गिर गई। गोपालगंज के भोरे में ठनका गिरने से दो बच्चों की मौत हो गई। बेगूसराय जिले के डंडारी थाना क्षेत्र में ठनका गिरने से एक महिला की मौत हो गई। वहीं, अररिया जिले के फारबिसगंज प्रखंड के पुरवारी झिरवा में वज्रपात की चपेट में आने से मो. सदरूल की मौत हो गई। सुपौल जिले के बसंतपुर प्रखंड के कोचगामा में ठनका गिरने से 37 साल के मोहम्मद नासिर की मौत हो गई। कैमूर जिले के चैनपुर के लोहरा गांव में ठनका गिरने से एक किशोर की मौत हो गई। पटना जिले के पालीगंज में ठनका गिरने से एक व्यक्ति कि मौत हो गई।

मौसम विभाग ने जारी किया भारी बारिश और बिजली गिरने का अलर्ट
मौसम विभाग ने बिहार के कई जिलों में भारी बारिश और बिजली गिरने की चेतावनी जारी की है। विभाग ने कहा है कि अगले छह घंटे तक उत्तर बिहार में भारी बारिश की संभावना है। विभाग ने लोगों से इस दौरान ऐहतियात बरतने की अपील की है।

विभाग ने रोहतास, कैमूर, शेखपुरा, नवादा, सारण और बक्सर में बिजली गिरने की संभावना जताई है। विभाग के अनुसार बंगाल की खाड़ी से हवा नमी लेकर उत्तर बिहार की ओर बढ़ रही है, जिसके चलते उत्तर बिहार में भारी बारिश हो सकती है। आपदा प्रबंधन विभाग ने लोगों से सतर्क रहने की अपील की है।

पटना में भी बदला मौसम
राजधानी पटना का मौसम मंगलवार को चंद घंटे में बदल गया। सुबह से दोपहर तक उमस और गर्मी थी। दोपहर में आसमान में काले बादल छा गए। हल्की हवा चली इसके बाद भारी बारिश हुई। करीब दो घंटे हुई बारिश से लोगों को गर्मी से राहत मिली है।

बारिश के बाद पटना में सड़क पर हुआ जल-जमाव।
बारिश के बाद पटना में सड़क पर हुआ जल-जमाव।

औसतन 300 मौतें हर साल, जानकारी के अभाव में मौत का औसत पार
बिहार में औसतन हर साल 300 मौतों बिजली गिरने के कारण होती रही है, लेकिन इस साल यह आंकड़ा इस औसत को पार कर चुका है। बिहार सरकार के आपदा प्रबंधन विभाग की बैठकों में सलाह के लिए बुलाए जाने वाले वज्रपात सुरक्षित भारत अभियान के संयोजक कर्नल संजय श्रीवास्तव के अनुसार आकाशीय बिजली से बचने के उपायों की जानकारी लोगों तक नहीं पहुंच रही है, जिसके कारण शहरों की अपेक्षा बिहार की ग्रामीण आबादी इसकी शिकार ज्यादा हो रही है।

शहरों में ज्यादातर भवनों पर तड़ित रोधक (लाइटनिंग अरेस्टर) और तड़ित चालक (लाइटनिंग कंडक्टर) लगे रहते हैं, इसलिए वह बिजली को खींचकर अर्थिंग के जरिए जमीन तक भेज देते हैं, जबकि गांवों में खुले खेतों में पड़े लोहे-तांबे के सामान, जलस्रोत, ऊंचे पेड़ आकाशीय बिजली को आकर्षित कर लेते हैं। इसके आसपास रहे लोगों की आकाशीय बिजली के करंट या तेज आवाज से धड़कन रुक जाती है या जलकर मौत हो जाती है।

बचना है तो क्या करें, न करें...यह जान लीजिए

  • खुले में हैं तो किसी पक्के मकान तक पहुंच सकते हैं तो पहुंचें
  • खुले में ही हैं तो दोनों पैर सटा चुक्कू-मुक्कू बैठ कान बंद कर लें
  • लोहे के खंभों, ऊंचे पेड़ों, तालाब-जलाशय आदि से खुद को दूर करें
  • सूखी लकड़ी, प्लास्टिक, बोरा या सूखे पत्ते पर खड़े हो सकते हैं
  • जिन चीजों में करंट आ सकता है, उन्हें तुरंत अपने से दूर कर दें
  • समूह में सटकर खड़े न हों, दूरी बनाकर रहें और जमीन पर न सोएं
  • घर में हों तो नल, फ्रिज या ऐसे करंट वाले उपकरणों को नहीं छुएं

स्थायी उपाय भी कर सकते हैं
आकाशीय बिजली से बचाने के लिए बिहार में कुछ संस्थाएं नो प्रॉफिट, नो लॉस पर लाइटनिंग अरेस्टर और लाइटनिंग कंडक्टर भी उपलब्ध करा रही हैं। लाइटनिंग कंडक्टर 54 हजार रुपए में मिल रहा है। यह जिस ऊंचाई पर लगाया जाता है, उससे 45 डिग्री की छाया में वज्रपात को रोकता है। यानी, खेत में 40 फीट ऊंचाई पर इसे लगा दें तो उस जगह से 45 डिग्री का कोण बनाने पर जितनी परिधि होगी, उतनी दूर तक बिजली नहीं गिरेगी। लाइटनिंग अरेस्टर इससे करीब तीन गुणा कीमत पर 1.42 लाख रुपए में उपलब्ध है। यह जहां लगाया जाता है, उसके 1.4 वर्ग किमी के दायरे के आकाश में बिजली बननी शुरू होते ही उसे खींचकर जमीन में डाल देता है। मतलब, यह 1.4 वर्ग किमी के दायरे में बिजली से बचाने वाला छाता है। बिजली न गिरेगी और न आवाज होगी।

बिहार में वज्रपात से मौत

15 अप्रैल: 2 की मौत

मुंगेर2

26 अप्रैल: 12 की मौत

छपरा9
जमुई2
भोजपुर1

1 मई: 4 की मौत

जमुई2
पूर्वी चंपारण1
नवादा1

5 मई: 21 की मौत

पटना1
समस्तीपुर3
जहानाबाद2
कटिहार2
सीतामढ़ी2
अरवल1
सीवान1
मुजफ्फरपुर1
बांका1
जमुई1
नवादा1
शेखपुरा1
बेगूसराय1
नालंदा1

19 मई-5 की मौत

पूर्णिया5

25 जून: 100 मौतें

गोपालगंज13
पूर्णिया09
सीवान08
मधुबनी08
नवादा08
औरंगाबाद08
भागलपुर08
मोतिहारी05
दरभंगा05
बांका05
खगड़िया03
जमुई03
बेतिया02
समस्तीपुर02
सीतामढ़ी02
सुपौल02
जहानाबाद02
शिवहर01
किशनगंज01
सहरसा01
मधेपुरा01
अररिया01
बक्सर01
छपरा01

30 जून: 11 की मौत

सारण5
पटना2
नवादा2
लखीसराय1
जमुई1

2 जुलाई: 29 मौतें

समस्तीपुर8
पटना6
मोतिहारी4
शिवहर3
कटिहार3
मधेपुरा2
पूर्णिया1
सासाराम1
बेतिया1

3 जुलाई: 8 की मौत

समस्तीपुर3
लखीसराय2
गया1
बांका1
जमुई1

4 जुलाई: 29 मौतें

भोजपुर9
सारण5
रोहतास4
पटना2
कैमूर2
जहानाबाद2
औरंगाबाद2
बक्सर2
सहरसा1

7 जुलाई: 7 की मौत

बेगूसराय3
भागलपुर1
मुंगेर1
कैमूर1
जमुई1

8 जुलाई: 12 की मौत

बेगूसराय7
भागलपुर1
मुंगेर1
कैमूर1
गया1
जमुई1

9 जुलाई: 5 की मौत

बांका2
भोजपुर2
कटिहार1

10 जुलाई: 7 की मौत

भोजपुर2
मुंगेर2
सुपौल1
कैमूर1
बांका1

11 जुलाई: 16 की मौत

अररिया5
किशनगंज3
पूर्णिया2
कटिहार2
सासाराम1
औरंगाबाद2
बांका1

19 जुलाई: 18 की मौत

गया5
पूर्णिया4
बेगूसराय2
जमुई2
पटना1
सहरसा1
पूर्वी चंपारण1
मधेपुरा1
दरभंगा1

21 जुलाई: 17 की मौत

बांका7
नालंदा4
जमुई3
बेगूसराय1
मोतिहारी1
लखीसराय1

30 जुलाई: 8 की मौत

शेखपुरा3
जमुई3
सीवान1
बेगूसराय1
0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- लाभदायक समय है। किसी भी कार्य तथा मेहनत का पूरा-पूरा फल मिलेगा। फोन कॉल के माध्यम से कोई महत्वपूर्ण सूचना मिलने की संभावना है। मार्केटिंग व मीडिया से संबंधित कार्यों पर ही अपना पूरा ध्यान कें...

और पढ़ें