शीतकालीन सत्र का चौथा दिन:भाई बीरेंद्र और संजय सरावगी के बीच सुलह; मंत्री की गाड़ी रोकने के मामले की वीडियो फुटेज से होगी जांच

पटना5 महीने पहले

बिहार विधानमंडल के शीतकालीन सत्र का गुरुवार को चौथा दिन था। सत्र शुरू होने से पहले ही धरना-प्रदर्शन शुरू हो गया। माले ने परिसर में मंडी व्यवस्था फिर से लागू करने और मनरेगा को कृषि कार्य से जोड़ने की मांग को लेकर प्रदर्शन किया तो कांग्रेस के विधायकों ने परिसर के बाहर धान क्रय में MSP तय करने को लेकर प्रदर्शन किया।

वहीं, विधानसभा में कार्यवाही शुरू होते ही श्रम मंत्री जीवेश मिश्रा अफसरशाही पर भड़क गए। उनके समर्थन में विपक्ष के सदस्य भी आ गए। हंगामा होते ही विधानसभा की कार्यवाही को 10 मिनट के लिए रोकना पड़ा। 20 मिनट बाद दोबारा कार्यवाही शुरू हुई तो सदस्यों ने मंत्री को न्याय दो के नारे लगाए। वहीं, विधान परिषद में मुजफ्फरपुर आंखकांड पर विपक्ष भड़क गया। पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी ने बाहर प्रदर्शन करने के अलावा सदन के अंदर भी जमकर सरकार को घेरा। इस मसले पर कांग्रेस ने भी साथ दिया और दोनों दलों ने कार्यस्थगन प्रस्ताव लाया। जिसे सभापति ने नामंजूर कर दिया।

विधानसभा में लंच के दौरान कार्यवाही स्थगित किए जाने के बाद जातीय जनगणना मुद्दे पर CM से विपक्ष के सभी नेता मिले। नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने कहा कि- " आज मुख्यमंत्री जी से मिलकर जातीय जनगणना से जुड़ी बातों का जिक्र किया और उन्हें ज्ञापन दिया है। CM नीतीश कुमार ने 3-4 दिन में उन्होंने सर्वदलीय बैठक का भरोसा दिया है।"

मंत्री मिश्रा गाड़ी रोकने के मसले पर भड़के थे। दरअसल, वे विधानसभा पहुंचे थे लेकिन उसी समय CM का काफिला गुजर रहा था। उनके पीछे DM और SSP की गाड़ी जा रही थी। इसलिए उनकी गाड़ी रोक दी गई। इसके बाद गुस्साए मंत्री जिवेश मिश्रा गाड़ी से उतरकर गाड़ी रोकने वाले पुलिस अधिकारी को संस्पेंड करने की मांग करने लगे। उन्होंने सदन में कहा, 'DM बड़ा SP बड़ा या मंत्री बड़ा बताया जाए अध्यक्ष जी।" उनकी बातों पर सदन में जोरदार हंगामा हुआ। मामले में विधानसभा अध्यक्ष विजय सिन्हा ने DGP एसके सिंघल और अपर मुख्य सचिव गृह विभाग चैतन्य प्रसाद को 5:00 बजे तलब किया है। साथ में पटना के डीएम और एसएसपी भी मौजूद रहेंगे। पूरे घटनाक्रम पर बिहार विधानसभा के अध्यक्ष चारों अधिकारियों से घटना की मूल वजह की जानकारी लेंगे और निर्देश पारित करेंगे।

बिहार विधानसभा परिसर के बाहर कांग्रेस का प्रदर्शन।
बिहार विधानसभा परिसर के बाहर कांग्रेस का प्रदर्शन।

विधान सभा LIVE अपडेट्स

  • नेता प्रतिपक्ष ने कहा- CM नीतीश कुमार ने 3-4 दिनाें में सर्वदलीय बैठक का भरोसा दिया है।
  • तेजस्वी यादव ने कहा- आज मुख्यमंत्री जी से मिलकर जातीय जनगणना से जुड़ी बातों का जिक्र किया और उन्हें ज्ञापन दिया है।
  • जातीय जनगणना मुद्दे पर तेजस्वी यादव सहित सभी विरोधी दल के नेताओं ने सीएम नीतीश कुमार से की मुलाकात।
  • विधानसभा की कार्यवाही 12:50 में 2 बजे तक के लिए स्थगित। (लंच ब्रेक)
  • विधानसभा अध्यक्ष ने मंत्री विवाद पर सभी दल के विधायक, दल के नेताओं को एक-एक मिनट बोलने को दिया।
  • सदन में मंत्री जीवेश मिश्रा जी को न्याय दो का नारा लगा रहें विपक्ष के नेता।
  • बीस मिनट बाद 11:55 शुरू हुई सदन की कार्यवाही।
  • विधानसभा अध्यक्ष 10 मिनट बाद भी आसन पर नहीं पहुंचे। बजती रही घंटी।
  • भाकपा माले विधायक महबूब आलम ने कहा- बार-बार इस तरह से विधायकों का अपमान होता आ रहा है। विधायक तो विधायक अब मंत्रियों की भी पिटाई होगी।
  • मंत्री की गाड़ी रोके जाने पर बोले विधानसभा अध्यक्ष, जिस पदाधिकारी ने ऐसा किया है उसके विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की जाएगी।
  • RJD विधायक प्रहलाद यादव को विधानसभा अध्यक्ष ने लगाई फटकार। कहा- सदन में बैठकर बोलना सदन का अपमान है। आप जब सदन का सम्मान नहीं करेंगे तब आपका सम्मान एक दारोगा कैसे करेगा।
  • 11:35 में 10 मिनट के लिए सदन स्थगित।
  • मंत्री विजय चौधरी बोले- श्रम संसाधन मंत्री के साथ हुई घटना वास्तव में यह एक गंभीर मामला है।
  • मंत्री जीवेश मिश्रा ने विधानसभा अध्यक्ष से कि दोषी अधिकारियों को कार्रवाई करने की मांग की।
  • सदन के अंदर श्रम संसाधन मंत्री जीवेश मिश्रा ने कहा, DM- SSP के कारण उनकी गाड़ी रोके जाने पर गुस्साए।
  • RJD विधायक भाई बीरेंद्र ने कहा- सरकार जातीय जनगणना कराएगी तो विपक्ष उनके साथ खड़ी रहेगी।
  • राजद के विधायक किसानों की आय दोगुनी करने की कर रहे मांग।
  • परिसर में मंडी व्यवस्था फिर से लागू करने की मांग को लेकर माले का प्रदर्शन। मनरेगा को कृषि कार्य से जोड़ने की मांग।
  • परिसर में हुए मंत्री के विवाद के बाद बिहार विधानसभा अध्यक्ष विजय कुमार सिन्हा ने कार्य मंत्रणा बैठक के बाद राज्य के डीजीपी एसके सिंघल, अपर मुख्य सचिव गृह विभाग चैतन्य प्रसाद को 5:00 बजे तलब किया।
  • राजद विधायक भाई वीरेंद्र और बीजेपी विधायक संजय सरावगी में कहा सुनी मामले में विधानसभा अध्यक्ष ने की पहल। दोनों विधायकों में कराया समझौता। नेता विरोधी दल तेजस्वी यादव और उप मुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद थे मौजूद। दोनों विधायकों ने एक-दूसरे के प्रति खेद प्रकट की। दोनों विधायकों को खास जिम्मेदारी दी गई। अपने-अपने जिलों में रखेंगे अनुशासन का ख्याल।
  • विधानसभा अध्यक्ष विजय सिन्हा ने कहा कि ऐसी घटनाओं से सदन की मर्यादा को ठेस पहुंचती है। सभी को रखना चाहिए ख्याल। ऐसी घटनाओं से लेनी चाहिए सबक।
  • शिक्षा विभाग के वाद-विवाद में जब शिक्षा मंत्री विजय चौधरी बोल रहे थे तो विपक्ष ने वाक आउट किया।
  • विधान सभा की कार्यवाही कल 11 बजे तक के लिए स्थगित।
  • विधान सभा अध्यक्ष डीजीपी, मुख्य सचिव, गृह सचिव के साथ मीटिंग कर रहे हैं। पटना के SSP और DM भी हैं।
  • गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव चैतन्य प्रसाद ने कहा- कोई भी अधिकारी या कर्मचारी हो यह सवाल ही पैदा नहीं होता है कि वह उनकी इज्जत न करें। अनादर का प्रयास भी नहीं कर सकता है। अगर इस तरह की घटना हुई है तो यह जाने अनजाने में हुई है।
  • गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव चैतन्य प्रसाद ने मीटिंग समाप्त होने के बाद कहा कि माननीय मंत्री का कोई अनादर नहीं कर सकता है। इस पर जांच की जाएगी। जांच में जो मामला आएगा, कार्रवाई की जाएगी।
  • डीजेपी एस के सिंघल ने मीटिंग समाप्त होने के बाद कहा कि वीडियो फुटेज के आधार पर जांच की जाएगी।
  • विधानसभा में 31 मार्च 2020 को समाप्त हुए वित्तीय वर्ष का नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक की रिपोर्ट पेश किया गया। डिप्टी सीएम तारकिशोर प्रसाद ने विधानमंडल के दोनों सदनों में इस रिपोर्ट को रखा।
विधानसभा में सीएम नीतीश कुमार से मुलाकात करने जाते तेजस्वी यादव।
विधानसभा में सीएम नीतीश कुमार से मुलाकात करने जाते तेजस्वी यादव।

विधान परिषद LIVE अपडेट्स

  • 2:50 तक विधान परिषद स्थगित।
  • विधान परिषद में पार्षद संजय कुमार सिन्हा ने कहा कि मुजफ्फरपुर के शिक्षक से मतदान केंद्र पर पुलिस ने मारपीट की। FIR दर्ज कराने थाना गए तो उन्हें गाली देकर भगा दिया गया।
  • जवाब में विधान परिषद सभापति ने कहा कि मामले की जांच एसपी स्तर तक की जा रही है उसका इंतजार करना चाहिए।
  • कृषि मंत्री अमरेंद्र प्रताप सिंह ने कहा- बिहार में पूरी दुनिया का 90 फीसदी मखाना का उत्पादन होता है। प्रशिक्षण के जरिए बिहार में मखाना के उत्पादन को बढ़ा करा काफी आगे किया गया है।
  • कृषि मंत्री अमरेंद्र प्रताप सिंह ने कहा, दुनिया में बिहार का मखाना, मिथिला मखाना के नाम से ही जाना जाएगा।
  • कृषि मंत्री ने कहा ध्यानाकर्षण में इससे जुड़ा सवाल कांग्रेस के पार्षद प्रेमचंद्र मिश्रा ने उठाया था। उन्होंने कहा था कि बिहार के मकानों को मिथिला मखाना के नाम से ही GI टैग मिलना चाहिए।
  • बिहार राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के वित्तीय वर्ष 2018 - 19 के वार्षिक प्रतिवेदन की प्रति सदन के पटल पर रखी गई।
  • विधान परिषद में बिहार भूमि दाखिल खारिज संशोधन विधेयक 2021 सदन के पटल पर रखा गया।
  • जवाब में मंत्री नीरज कुमार सिंह बिहार में तालाबों की संख्या नहीं बता पाए। उन्होंने कहा कि तालाबों की संख्या बता दी जाएगी।
  • विधान परिषद में खालिद अनवर ने सवाल किया कि तालाबों की संख्या लगातार घटती जा रही है। अब तक 10 वर्षों में कितने पौधे लगाए गए और कितने तलाब खुदवाए गए?
  • जवाब में मंत्री नीरज कुमार ने कहा कि वित्तीय वर्ष 2021-22 में 5 करोड़ पौधों के विरुद्ध 3,87,62,497 पौधों का रोपण हो चुका है। 31 मार्च 2022 तक लक्ष्य पूर्ण करना है।
  • विधान परिषद में पार्षद ललन कुमार सर्राफ ने पर्यावरण वन एवं जलवायु परिवर्तन विभाग से सवाल पूछा कि अब तक कितना पौधारोपण हो चुका है और लक्ष्य कब तक पूरा किया जा सकेगा?
  • जवाब में परिवहन मंत्री शीला कुमारी ने कहा कि इसपर उचित कार्रवाई की जाएगी।
  • विधान परिषद में पार्षद डॉ. संजीव सिंह ने कहा कि- मोटर वाहन अधिनियम के प्रावधान के तहत रात में वाहनों की High बीम की जगह Low बीम रखे जाने की जरूरत है।
  • जवाब में मंत्री विजेंद्र यादव ने कहा कि पत्रकार हत्या मामले में 6 लोगों की गिरफ्तारी की गई है।
  • विधान परिषद में घनश्याम ठाकुर ने मधुबनी जिला के बेनीपट्टी निवासी पत्रकार बुद्धिनाथ झा की हत्या का मामला उठाया।
  • मुजफ्फरपुर आंख कांड मामले में सभापति ने भी माना यह बहुत गलत हुआ है। लेकिन उन्होंने विपक्ष के द्वारा लाए गए कार्य स्थगन प्रस्ताव को नामंजूर कर दिया।
  • मुजफ्फरपुर आंख कांड पर परिषद में भड़की राबड़ी, बोलीं- कहां है स्वास्थ्य मंत्री?
  • जीवेश मिश्रा प्रकरण पर राबड़ी देवी ने कहा, बिहार में अफसरशाही हावी है। इसके लिए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जिम्मेवार हैं।
  • राबड़ी देवी ने कहा, मुजफ्फरपुर आंख निकाले के कांड में जिम्मेवार डॉक्टरों पर कार्रवाई की जाए।
  • राबड़ी देवी सहित विपक्ष ने बिहार विधान परिषद परिसर में किया प्रदर्शन।
  • कांग्रेस के पार्षद प्रेमचंद मिश्रा ने मुजफ्फरपुर आंख ऑपरेशन कांड पर कार्य स्थगन लाया।​​​​​​
  • 18 विधान पार्षदों ने ध्यानाकर्षण के तहत कहा कि बिहार राज्य विश्वविद्यालय अधिनियम के स्थापित प्रावधानों की अनदेखी करके कुलपति एवं संबंधित पदाधिकारियों द्वारा धड़ल्ले से कई प्रकार के विवादास्पद भुगतान और खरीद किए जा रहे हैं।
  • पार्षदों ने कहा- राज्य सरकार के स्पष्ट निर्देशों के विपरीत बिना जेम पोर्टल पद्धति अपनाए ही जरूरत से ज्यादा उत्तर पुस्तिकाओं का क्रय बिना प्रक्रिया अपनाएं ही पुराने संस्करणों की अनुपयोगी पुस्तकों की खरीद और बाहरी ठेका संचालित प्रक्रिया के साथ-साथ प्रबंधन सूचना प्रणाली एजेंसियों का मनमाने ढंग से चयन कर बड़े पैमाने पर वित्तीय गड़बड़ी की जा रही है।
  • आरोप लगाया कि यहां तक कि कई पूर्व और वर्तमान कुलपतियों द्वारा खासकर पूर्णिया विश्वविद्यालय, भागलपुर तिलकामांझी विश्वविद्यालय के साथ अन्य विश्वविद्यालयों में भी इस क्रम में क्रय विक्रय समिति और वित्त समिति को अनियमित रूप से गठित कराया गया है। कहा गया कि स्थिति अराजक है।
  • विधान पार्षद संजीव सिंह ने विस्तार से अपनी बात रखी और कई तरह की गड़बड़ियों से सदन को अवगत कराया। पार्षद गुलाम गौस ने आरोप लगाया कि राजभवन के पदाधिकारी बड़ी गड़बड़ियां कर रहे हैं।
  • दाखिल खारिज संशोधन विधेयक पर चर्चा हुई। इस पर बोलते हुए विपक्ष की ओर से पूर्व मंत्री और राजद नेता रामचंद्र पूर्वे ने कहा कि 9,00,000 से ज्यादा दाखिल खारिज के मामले सरकार के पास लंबित हैं। दाखिल खारिज के लिए लोगों को सबसे ज्यादा परेशान होना पड़ता है उन्होंने कहा कि एक जमीन का चार चार बार रजिस्ट्रेशन पटना में देखा गया है।
  • कांग्रेस नेता समीर सिंह ने कहा कि रिश्वत लेकर जमीन दूसरे के नाम पर कर्मचारी कर दे रहे हैं।
  • राजस्व एवं भूमि सुधार मंत्री रामसूरत राय ने कहा कि जनप्रतिनिधियों को अपने घर में सही तरीके से भाइयों के बीच बंटवारा करके समाज में मैसेज देना चाहिए कि आपसी बंटवारा कितना आसान है। उन्होंने बताया कि उनके पिता चाहते थे उनके मरने के बाद ही घर में बटवारा होगा। लेकिन पिता को समझाया कि बेहतर होगा कि जीते जी बंटवारा कर लें। पिता तैयार हो गया और साल भर में पहले मन में बंटवारा किया गया। उसके बाद कागज पर बंटवारा हुआ।
  • मंत्री रामसूरत महतो ने कहा कि डिजिटल मैप तैयार हो रहा है हम खतियान भी लोगों में बाटेंगे जिन लोगों ने आपसी बंटवारा नहीं कराया है, वे सभी आपसी बटवारा करवा लें। कई बार ऐसा दिख रहा है कि जो चालाक भाई होता है वह धोखे से जमीन बेच लेता है और इसमें बिचौलिए मजे मार रहे हैं इससे कई तरह का विवाद सामने आ रहा है और मामला कोर्ट तक जा रहा है कई बार भाई भाई की हत्या भी कर दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि जनप्रतिनिधियों का कर्तव्य है कि वह अपने घर में तो बंटवारा करवाएंगे आस-पड़ोस के लोगों में भी बंटवारा करवाएं।
किसानों की आय दोगुनी करने की मांग को लेकर प्रदर्शन करते राजद के विधायक।
किसानों की आय दोगुनी करने की मांग को लेकर प्रदर्शन करते राजद के विधायक।

डिप्टी सीएम ने पेश की CAG की रिपोर्ट
बिहार विधानसभा में गुरुवार को 31 मार्च 2020 को समाप्त हुए वित्तीय वर्ष की नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (CAG) की रिपोर्ट पेश की गई। डिप्टी सीएम तारकिशोर प्रसाद ने विधानमंडल के दोनों सदनों में इस रिपोर्ट को रखा। CAG रिपोर्ट में कहा गया है कि 2019 के दौरान बिहार को 2008-09 के बाद पहली बार 1784 करोड़ का राजस्व घाटा हुआ। बिहार ने इस दौरान 14724 करोड़ का राजकोषीय घाटा दर्ज किया जो पिछले वर्ष की तुलना में 917 करोड़ यानी 6.64% बढ़ गया। राज्य का प्राथमिक घाटा वर्ष 2015-16 में 4963 करोड़ से घटकर 19-20 में 3733 करोड़ हो गया। 2018-19 में थोड़ी कमी हुई। पिछले वर्ष की तुलना में 2019-20 के दौरान राजस्व प्राप्ति में 7561 करोड़ यानी 5.74% की कमी देखी गई जो बजट आकलन से 29.71% कम था। पिछले वर्ष की तुलना में 2019-20 में राजस्व व्यय में 1120 करोड़ रुपए की वृद्धि हुई जो बजट आकलन से 18.82% कम था। वित्तीय वर्ष के अंत में बकाया लोकप्रिय पिछले वर्ष की तुलना में 22035 करोड़ यानी 17.47% बढ़ गया। CAG रिपोर्ट में उपयोगिता प्रमाण पत्र को लेकर भी सरकार पर गंभीर सवाल खड़े किए गए हैं। 31 मार्च 2020 तक 79690.92 करोड़ के उपयोगिता प्रमाण पत्र लंबित थे। अधिक मात्रा में लंबित उपयोगिता प्रमाण पत्र से दुरुपयोग एवं गबन की संभावना रहती है। लंबित विस्तृत आकस्मिक विपत्र में कुल 9155.44 करोड़ की 20642 एसी विपत्रों से आहरित राशि मार्च 2020 तक डीसी बिल के और प्रस्तुतीकरण के कारण लंबित था।

अनुपूरक बजट पर होगी चर्चा

आज सरकार 2021-22 के द्वितीय अनुपूरक व्यय विवरण को सम्मिलित कर अनुदान की मांग करेगी। शिक्षा विभाग के लिए पेश किए जा रहे हैं अनुपूरक बजट पर चर्चा होगी, जरूरत पड़ने पर इस पर वोटिंग भी हो सकती है। लंच के बाद वित्तीय वर्ष 2021-22 के द्वितीय अनुपूरक व्यय विवरण में सम्मिलित अनुदान की मांग पर वाद-विवाद और मतदान होगा। शेष अनुदानों की मांग गिलोटिन द्वारा लिया जाएगा। वाद-विवाद शिक्षा विभाग को लेकर होगा। वहीं, बिहार विनियोग (संख्या-4) विधायक 2021 की पुनः स्थापित करने की मांग विधानसभा में लाई जाएगी। इसके बाद यदि पहले का कोई जरूरी विधायी कार्य हो तो उसका निपटारा किया जाएगा।

खबरें और भी हैं...