• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Gaya News; Video Of Cracker Bursting In Mufassil Police Station Area Despite Ban In City

गया पुलिस का 'पटाखाफोड़-कानूनतोड़' जश्न, VIDEO देखिए:पूरे शहर में था बैन, मुफस्सिल थाने में ही उड़े रॉकेट और सतरंगी आवाज वाले पटाखे

गया22 दिन पहलेलेखक: दीपेश

दिवाली की अगली शाम जिले के मुफस्सिल थाना परिसर में नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के आदेशों की जमकर धज्जियां उड़ाई गई। NGT के आदेश पर पूरे शहर में पटाखे बैन थे, लेकिन थाने में जमकर पटाखे चलाए गए। इस दौरान इंस्पेक्टर से लेकर DSP तक सभी अफसर-कर्मचारी शामिल रहे।

जिला प्रशासन ने सील कर दी थी शहर की कई पटाखा दुकानें
नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने दिवाली के एक सप्ताह पूर्व ही आदेश जारी किया था कि गया में किसी भी प्रकार के पटाखे नहीं छोड़े जाएंगे। इस आदेश का सख्ती से पालन कराने की भी बात कही थी। जिला प्रशासन ने इसे सख्ती से लागू भी किया था। शहर की कई पटाखे की दुकानें भी सील की गई थीं। यही नहीं, दिवाली की रात को पूर्व की अपेक्षा पटाखे छोड़े जाने की होड़ में काफी कमी भी आंकी गई है, लेकिन यह सारी सख्ती सिर्फ आम अवाम के लिए ही बरती गई।

पुलिस वालों ने दिवाली की दूसरी रात जमकर पटाखे छोड़े। पटाखे भी सामान्य नहीं, बल्कि एक से बढ़ कर एक कर्कश आवाज, जबर्दस्त धुंआ उत्सर्जित करने वाले। ऐसा नहीं है कि थाने में पुलिस कर्मियों द्वारा पटाखा छोड़े जाने का आयोजन अचानक से किया गया था, बल्कि यह पूर्व नियोजित था। इस पार्टी में वजीरगंज DSP घूरन मण्डल पूरे पारंपरिक परिधान में थे। धोती-कुर्ता पहनकर पटाखा छोड़े जाने वाले स्थल पर जमीन से लेकर आसमान तक छोड़े जाने वाले सतरंगी पटाखों का नजारा ले रहे थे। उनका आवास व कार्यालय मुफस्सिल थाना परिसर में ही है। वहीं थाने के इंस्पेक्टर भी इस पटाखाछोड़ जश्न में पूरा योगदान दे रहे थे।

पटाखे बिके नहीं, तो खरीदे कहां से?
सवाल यह है भी कि जब शहर में जिला प्रशासन के आदेश पर पटाखे नहीं बिक रहे थे, तो पुलिस वालों ने पटाखे कहां से खरीदे। क्या उन्होंने उन स्थानों से ही खरीदारी की, जहां उन्हीं की सरपरस्ती में खुलेआम मानपुर क्षेत्र में पटाखे बेचे जा रहे थे। इस बारे में बात करने के लिए वजीरगंज डीएसपी घूरन मण्डल को लगातार कॉल किया जाता रहा, लेकिन शाम चार बजे तक भी मोबाइल नंबर बंद मिल रहा है।

मुफस्सिल थाने के इंस्पेक्टर पंकज सिंह थाने में पटाखे चलने की बात से मुकर गए। उन्होंने कहा कि थाना परिसर में पटाखे नहीं चलाए गए हैं। भास्कर ने जब उन्हें बताया कि पटाखा छोड़े जाने का वीडियो हमारे पास मौजूद है तो, उन्होंने कहा कि, 'नहीं-नहीं ऐसा नहीं है।' यह कहते हुए फोन काट दिया।

दिवाली की रात 83 रहा था गया का AQI इंडेक्स
दिवाली की रात गया में 10:00 बजे एयर क्वालिटी इंडेक्स (AQI) 83 रहा, जो मानक के अनुसार संतोषप्रद है। हवा में पीएम 2.5 अधिकतम 79 रहा जो कि सामान्य स्तर है।

गया में चार जिलों में बैन हैं पटाखे

बिहार के चार जिलों में पटाखे बैन हैं। इसमें पटना, गया, मुजफ्फरपुर और वैशाली शामिल हैं। गया में रोक के बावजूद भी कई जगहों पर ब्रिकी हुई। नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल NGT ने पटना, मुजफ्फरपुर, वैशाली और गया में पटाखों की बिक्री पर पूरी तरह से रोक लगाने का आदेश जारी किया है। इस आदेश के बाद राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने पटना सहित सभी चारो जिलों के डीएम और एसपी को निर्देश जारी कर पटाखों पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगाने को कहा। कहा गया कि न तो कोई नया लाइसेंस जारी किया जाए और न ही पुराने लाइसेंस पर पटाखा बिक्री की अनुमति दी जाए। इन 4 जिलों के अलावा बिहार के अन्य 34 जिलों को लेकर भी गाइडलाइन जारी की गई। इन 34 जिलों में इको फ्रेंडली पटाखों की बिक्री के साथ पटाखा छुटाने का समस भी निर्धारित कर दिया गया है।