• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Gujrat SEC Praised Bihar SEC Arrangements For Digitalisatio Of Panchayat Election In Patna

बिहार का डिजिटल चुनाव बना मॉडल:पंचायत चुनाव का डिजिटलाइजेशन देखने पटना आए गुजरात के राज्य निर्वाचन आयुक्त, कहा- फर्जी मतदान रोकने में बड़ा काम

पटना8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
गुजरात के राज्य निर्वाचन आयुक्त संजय प्रसाद और को बिहार के राज्य निर्वाचन आयुक्त दीपक प्रसाद। - Dainik Bhaskar
गुजरात के राज्य निर्वाचन आयुक्त संजय प्रसाद और को बिहार के राज्य निर्वाचन आयुक्त दीपक प्रसाद।

बिहार का पंचायत चुनाव PM के स्टेट गुजरात के लिए मॉडल बन गया है। देश में पहली बार डिजिटल चुनाव के कांसेप्ट का गुजरात में भी प्रयोग किया जा सकता है। बिहार में नए कांसेप्ट पर हो रहे पंचायत चुनाव का मॉडल देखने आए गुजरात के राज्य निर्वाचन आयुक्त संजय प्रसाद को डिजिटलाइजेशन भा गया है।

पंचायत चुनाव में बायोमैट्रिक से लेकर कई लेयर में पारदर्शिता के नए इंतजाम किए गए हैं। प्रसाद ने राज्य निर्वाचन आयोग बिहार के पटना स्थित कार्यालय आकर पूरा मॉडल देखा व समझा है। दो दिवसीय दौरे पर बिहार आए संजय प्रसाद को बिहार के राज्य निर्वाचन आयुक्त दीपक प्रसाद ने चुनाव में अपनाई जा रही हर तकनीक के बारे में बताया।

बिहार पंचायत चुनाव के संचालन प्रबंधन और नियंत्रण प्रणाली का पूरा मॉडल गुजरात के राज्य निर्वाचन आयुक्त संजय प्रसाद को दिखाया गया। उन्हें यह भी बताया कि चुनाव के सभी कार्यों का डिजिटलाइजेशन कर दिया गया है। बोगस वोटिंग रोकने में पहली बार बायोमैट्रिक से सत्यापन की प्रक्रिया बेहद कारगर सिद्ध हुई है। इससे पारदर्शी व निष्पक्ष मतदान की तैयारियां पूरी तरह से सार्थक हुई और इसके सकारात्मक प्रभाव चुनाव परिणामों में भी देखा जा रहा है। मतगणना के दौरान ओसीआर तकनीक से औरंगाबाद जिला में ऑटो टेबुलेशन की सफल प्रक्रिया की भी जानकारी दी गई। साथ ही मतदान केन्द्रों पर लाइव वेब कास्टिंग के साथ वोटरों और उम्मीदवारों को दी जा रही ऑनलाइन जानकारी देने के कांसेप्ट को भी बताया गया। गुजरात के राज्य चुनाव आयुक्त इस नए मॉडल से काफी प्रभावित हुए।

डिजिटल से जटिल प्रक्रिया हुई आसान

बिहार पंचायत की चुनाव प्रक्रिया देखने पहुंचे गुजरात के राज्य निर्वाचन आयुक्त ने चुनाव के सभी कार्यों का डिजिटलाइजेशन करने की पहल की खूब सराहना की। उनका कहना है कि इस अभिनव प्रयोगों की सहायता से चुनाव की जटिल प्रक्रिया को काफी सरल बनाया गया है। इसके माध्यम से हम लोकतंत्र को गांव - गांव तक पहुंचा सकते हैं।

बिहार राज्य निर्वाचन का कहना है कि आने वाले चुनावों में भी वह दौरा कर सकते हैं और माना जा रहा है कि बिहार पंचायत चुनाव की सफल रणनीति को कुछ हद तक गुजरात में भी अपनाया जा सकता है। बिहार के राज्य निर्वाचन आयुक्त डॉ. दीपक प्रसाद एवं राज्य निर्वाचन सचिव मुकेश कुमार सिन्हा ने गुजरात के राज्य निर्वाचन आयुक्त को पूरा मॉडल समझाया। उनका कहना है कि चुनाव के इस नए मॉडल को गुजरात में लाए जाने की उम्मीद है।

खबरें और भी हैं...