पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • In The RJD Office Case, JDU National President Lalan Singh Said, Jagdanand Singh Is A PHD In Therology, The Same, RJD Showed The Mirror And Said Don't Make Inappropriate Comments, Leaders

बिहार में दल-जमीन-झगड़ा:RJD कार्यालय मामले में कूदे JDU के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह कहा, जगदानंद सिंह थेथरलॉजी में PHD हैं; RJD बोली- अमर्यादित टिप्पणी ना करें

पटना22 दिन पहले
ललन सिंह ने कहा कि जगदानंद सिंह कुतर्क करने में मास्टर हैं।

RJD के कार्यालय की जमीन मामले में अब JDU के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह भी कूद गए हैं। ललन ने RJD के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह को आड़े हाथों लिया है। उन्होंने कहा कि जगदानंद सिंह थेथरलॉजी में PHD हैं। जगदानंद सिंह कुतर्क करने में मास्टर हैं। RJD के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह ने यह आरोप लगाया था कि नीतीश कुमार जानबूझकर RJD को जमीन नहीं दे रहे हैं। इस मामले पर नीतीश कुमार भी आगबबूला हो चुके हैं और JDU के प्रवक्ता नीरज कुमार ने लालू यादव को चिट्ठी लिखकर उनकी निजी जमीन पर हमला किया था। वहीं RJD ने इस मामले पर कहा कि JDU नेताओं के बयान का स्तर गिर रहा है।

ललन बोले- 2005 में सबसे पहले नीतीश कुमार ने नीतिगत फैसला लिया था
ललन सिंह ने कहा कि 2005 में सबसे पहले नीतीश कुमार ने नीतिगत फैसला लिया था। मान्यता प्राप्त सभी राजनीतिक दलों को पटना में जगह दी जाएगी। उसके तहत जिस पार्टी ने जो जगह मांगी उन्हें वो जगह मिली। RJD को वो जगह पसंद थी। पहले जगदानंद सिंह और उनकी पार्टी ने दूसरी जगह क्यों नहीं जमीन ली थी। जो जमीन वो मांग रहे है वो हाईकोर्ट पुल की है। ललन सिंह ने कहा कि जब 2015 में महगठबंधन की सरकार थी तब भवन निर्माण मंत्री कौन था। उस वक़्त हाईकोर्ट से बातचीत करके क्यों नहीं जमीन ले ली गई। पटना हाईकोर्ट से कह दें कि जमीन वापस कर दीजिए। जब पटना हाईकोर्ट जमीन वापस कर देगी तो पार्टी कार्यालय का विस्तार कर लेंगे। इसमें राज्य सरकार कहां से आती है। हाईकोर्ट को जो जमीन ट्रांसफर है वो RJD को कहां से दे दी जाएगी।

BJP और JDU नेताओं की टिप्पणी घोर आपत्तिजनक
वहीं, RJD के प्रदेश प्रवक्ता चितरंजन गगन ने कहा कि प्रदेश अध्यक्ष जगदानन्द सिंह ने प्रमाणिक तथ्यों के साथ मुख्यमंत्री और भवन निर्माण मंत्री को पत्र लिखकर RJD कार्यालय के विस्तारीकरण के लिए जमीन की मांग की है। इस पर BJP और JDU नेताओं ने जिस प्रकार अमर्यादित टिप्पणियां की हैं वह घोर आपत्तिनजक और निंदनीय है। जमीन की मांग सरकार से की गई है, BJP और JDU से नहीं। आखिर वे किस हैसियत से टिप्पणी कर अपनी ओछी मानसिकता का परिचय दे रहे हैं। यह प्रशासनिक मामला है राजनीतिक नहीं।

खबरें और भी हैं...