पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Indigo Manager Rupesh Singh Family Will Appeal In Patna Highcourt; Rupesh Singh Murder Case Latest News

इंडिगो मैनेजर रूपेश सिंह हत्याकांड:बड़े भाई ने कहा- परिवार को मर्डर की वजह पर विश्वास नहीं, सरकार का कमिटमेंट फेल, फोन तक नहीं उठा रहे, CBI जांच की मांग के लिए जाएंगे हाईकोर्ट

पटना22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पत्नी और बच्चों के साथ रूपेश सिंह। (फाइल फोटो) - Dainik Bhaskar
पत्नी और बच्चों के साथ रूपेश सिंह। (फाइल फोटो)

इंडिगो के पटना स्टेशन हेड रूपेश सिंह हत्याकांड की जांच केंद्रीय ब्यूरों ऑफ इनवेस्टिगेशन (CBI) से कराने की मांग को लेकर से उनका परिवार पटना हाईकोर्ट की शरण में जाएगा। रूपेश के बड़े भाई नंदेश्वर सिंह और परिवार के लोग हत्या की वजह से संतुष्ट नहीं है।

बुधवार को भास्कर से बातचीत में उन्होंने कहा कि रोड पर मारपीट करने की वजह से हत्या होगी, यह बात कबूल नहीं हाे रही है। पुलिस की तरफ से बताई जा रही हत्या की वजह पर विश्वास नहीं हो रहा है। इस वजह से जल्द इस मामले में रूपेश के बड़े भाई नंदेश्वर सिंह पटना हाईकोर्ट में एक याचिका दायर करेंगे और पूरे मामले की CBI से जांच कराने की मांग करेंगे।

रूपेश का नेचर मारपीट का नहीं था

नंदेश्वर सिंह ने कहा कि हत्या तो ऋतुराज ने अपने साथियों के साथ मिलकर ही की है। यह कंफर्म है। FSL रिपोर्ट मैच कर गई है। वही गोली, वही आर्म्स है। CCTV फुटेज में दिखी पल्सर, अपाची बाइक भी रिकवर हुई। 100 प्रतिशत सत्य है कि हत्या इन्हीं लोगों ने की है, लेकिन हत्या का मोटिव क्या है? यह आज तक समझ में नहीं आया।

रूपेश सिंह के बड़े भाई नंदेश्वर सिंह।
रूपेश सिंह के बड़े भाई नंदेश्वर सिंह।

रूपेश इस नेचर का आदमी नहीं था कि वो रोड पर किसी से मारपीट करता। मैं बचपन से उसे देख रहा हूं। आज तक उसका किसी से हॉट टॉक नहीं हुआ था, इसलिए हम आज भी यह मानने को तैयार नहीं है कि हत्या का मोटिव रोड रेज होगा।

हत्या के मोटिव से संतुष्ट नहीं

उन्होंने बताया कि सोमवार को SSP उपेंद्र कुमार शर्मा और शास्त्री नगर थानेदार का मैसेज आया था। वह अपराधी का बयान सुनाने के लिए बुला रहे थे, लेकिन हम लोग नहीं गए। उन्हें कह दिया, आपको जो करना है करिए। हमको भगवान और कोर्ट पर भरोसा है। पकड़े गए सभी आरोपियों का बयान एक है। फिर भी हम लोग हत्या के मोटिव से संतुष्ट नहीं है।

फेल हुआ मुख्यमंत्री का आश्वासन

रूपेश का परिवार का कहना है कि 7 फरवरी को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मिले थे। उन्होंने आश्वासन दिया था। यह मुलाकात तब हुई थी, जब पहला आरोपी ऋतुराज सिंह पकड़ा गया था। वहां DGP और SSP भी थे। उस वक्त मुख्यमंत्री ने आश्वासन दिया था कि जो भी कार्रवाई होगी, उचित होगी। इसमें कोई भी शामिल हो, उसे बख्शा नहीं जाएगा। मुख्यमंत्री का बहुत बड़ा आश्वासन मिला था। वो कहते थे कि मुझे शॉक लग गया कि ऐसे आदमी की हत्या कैसे हो गई? जो प्रयास होगा, वो करेंगे। मंत्री संजय झा भी वहां थे। इस मामले को देखने के लिए मुख्यमंत्री ने संजय झा को बोला था। 2-4 बार संजय झा से फोन पर बात हुई, वो कहते रहे कि हम देखते हैं। बाद में वो टालमटोल करने लगे।

इसलिए जाएंगे हाईकोर्ट

बड़े भाई ने कहा कि घर और गाड़ी के लोन के संबंध में मुख्यमंत्री को आवेदन दिए थे। जिस पर उन्होंने संजय झा को देखने के लिए कहा था, पर अब तो वो फोन भी नहीं उठा रहे हैं। हत्या के कुछ दिनों बाद तक तो लोगों ने रिप्लाई दिया, मगर अब तो कहीं से कोई रिप्लाई नहीं मिलता है। मुख्यमंत्री से मिलने की दोबारा कोशिश की। उनके पीए हरेंद्र को भी कॉल किए, उन्होंने भी रिप्लाई नहीं दिया। हमने दोबारा भी ईमेल और रजिस्ट्री से लेटर भेज कर CBI जांच की डिमांड की थी। जब सरकार मदद नहीं कर रही है तो अब हाईकोर्ट जाएंगे। मोटिव पर अब भी संशय है। हत्या क्यों हुई? यह परिवार ही नहीं, बल्कि बिहार के लोग भी जानना चाहते हैं। इसलिए हाईकोर्ट से इस मामले की जांच CBI से कराने की मांग करेंगे।

सिर्फ बातें हुई, किसी ने मदद नहीं की

बड़े भाई ने बताया कि रूपेश की फैमिली पटना में ही रह रही है। हत्या की वारदात के बाद मुख्यमंत्री की तरफ से उनकी पत्नी को नौकरी देने की बात कही गई थी। अब तक सरकार या इंडिगो कंपनी की तरफ से कोई फीडबैक नहीं मिला है। वारदात के बाद बहुत बड़े-बड़े लोग घर आए थे। बहुत कुछ कह कर गए थे। बहुत सारा आश्वासन मिला था, लेकिन किसी ने कोई मदद नहीं की।

इसी कार से घर लौट रहे थे रुपेश सिंह, तभी मारी गई थी गोली।
इसी कार से घर लौट रहे थे रुपेश सिंह, तभी मारी गई थी गोली।

महाराजगंज के सांसद जर्नादन सिंह सिग्रीवाल ने भी कहा था कि रूपेश के बच्चों की पढ़ाई का हम देखेंगे। मगर, उन्होंने भी अब तक कुछ नहीं किया। आए और फोटो खिंचवा कर चले गए। कहीं से किसी ने कोई मदद नहीं मिली।

12 जनवरी को हुई थी हत्या

12 जनवरी को रुपेश की हत्या पुनाईचक स्थित उसके कुसुम विलास अपार्टमेंट के नीचे कर दी गई थी। तब रुपेश एयरपोर्ट से लौटे ही थे। जांच में यह बात आई कि नवंबर 2020 में रूपेश की कार और ऋतुराज की बाइक आपस में टकरा गई थी। इसके बाद रुपेश ने ऋतुराज के साथ मारपीट की थी। इसी का बदला लेने के लिए ऋतुराज ने रूपेश की हत्या की साजिश रची। मामले में चार अभियुक्तों ऋतुराज, आर्यन, सौरभ और पुष्कर की संलिप्तता सामने आई और सभी सलाखों के पीछे हैं।

खबरें और भी हैं...