• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Jitan Ram Manjhi Meets BJP President JP Nadda And Bihar Incharge Bhupendra Yadav In Delhi

BJP की शरण में मांझी की नैया:दिल्ली में शाह-नड्डा-भूपेंद्र यादव से मिले; मन में राज्यपाल बनने का पाल रहे ख्वाब, HAM को UP में भी उतारना है

पटना7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मुलाकात के बाद जीतन राम मांझी ने सोशल मीडिया पर दो पोस्ट किए। - Dainik Bhaskar
मुलाकात के बाद जीतन राम मांझी ने सोशल मीडिया पर दो पोस्ट किए।

बिहार के पूर्व CM जीतन राम मांझी इन दिनों दिल्ली में है। आज उनकी मुलाकात केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से हुई। इसके अलावा जीतन राम मांझी ने BJP के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा और बिहार प्रभारी भूपेंद्र यादव से भी मुलाकात की है। इस मुलाकात में मांझी के पुत्र और बिहार सरकार के मंत्री संतोष मांझी भी मौजूद थे।

मुलाकात के बाद जीतन राम मांझी ने सोशल मीडिया पर दो पोस्ट किए। लिखा - न्यायपालिका एवं निजी क्षेत्रों में आरक्षण, दशरथ मांझी जी को भारत रत्न की मांग सहित बिहार के विकास से जुड़े कई मुद्दों पर गृह मंत्री अमित शाहू BJP अध्यक्ष जेपी नड्डा एवं भाजपा के राष्ट्रीय महामंत्री भूपेंद्र यादव से सफल मुलाकात हुई। आशा है, हमारी सभी मांग जल्द पूरी होगी।

PM से मुलाकात नहीं हुई, फिर भी लिखा- धन्यवाद मोदी जी

मांझी ने दूसरे पोस्ट में लिखा- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी से मैंने कर्पूरी जी, दशरथ मांझी जी को भारत रत्न की मांग के साथ-साथ न्यायपालिका एवं निजी क्षेत्रों में आरक्षण देने की मांग की थी, जिसके आलोक में उन्होंने तीन सदस्यों की शक्तिशाली कमिटी बनाकर मेरे मांगों पर विचार करने की बात कही है। धन्यवाद मोदी जी…

मांझी पिछले चार दिनों से दिल्ली में हैं। उन्होने प्रधानमंत्री मोदी से भी मिलने का समय मांगा था लेकिन उन्हें समय नहीं मिला था।

मांझी के मन में राज्यपाल पद, UP पर भी नजर

जीतनराम मांझी राजनीति के माहिर खिलाड़ी हैं। उन्हे पता है कब-कैसे और कहां नॉक करना है। इस मुलाकात के पीछे भले वो दशरथ मांझी को भारत रत्न और निजी क्षेत्र में आरक्षण की मांग कर रहे हों, लेकिन वो इस मुलाकात में अपनी बात करने गए थे। उन्होंने अपने लिए राज्यपाल पद की मांग की है। उन्हें पता है कि UP में दलित वोटबैंक प्रभावित करता है। ऐसे में अपनी पार्टी HAM के लिए कुछ दलित प्रभावित सीटों की मांग की है, ताकि UP में भी उनकी पार्टी का विस्तार हो सके।

उन्होंने इसके पीछे BJP को मदद करने का भी पूरा भरोसा दिया होगा। वो जानते हैं कि BJP मायावती के तोड़ में दलित चेहरे की खोज कर रही है। मांझी के इस डील से उनका राज्यपाल बनने का भी सपना पूरा हो सकता है।

हाल में उठाया था PM की तस्वीर पर सवाल

ये वही जीतनराम मांझी हैं, जिन्होंने कुछ दिन पहले ही BJP और प्रधानमंत्री पर जोरदार हमला किया था। उन्होंने कोरोना टीका सर्टिफिकेट पर लिखा ‘को-वैक्सीन का दूसरा डोज लेने के बाद मुझे प्रमाण-पत्र दिया गया, जिसमें प्रधानमंत्री की तस्वीर लगी है। देश में संवैधानिक संस्थाओं के सर्वेसर्वा राष्ट्रपति हैं। इस नाते उसमें राष्ट्रपति की तस्वीर होनी चाहिए। वैसे तस्वीर ही लगानी है तो राष्ट्रपति के अलावा PM और CM की भी तस्वीर हो।'

कुछ देर बाद मांझी ने दोबारा द्वीट किया, जिसमें लिखा, ‘वैक्सीन के सर्टिफिकेट पर यदि तस्वीर लगाने का इतना ही शौक है तो कोरोना से हो रही मृत्यु के डेथ सर्टिफिकेट पर भी तस्वीर लगाई जाए। यही न्याय संगत होगा।’

खबरें और भी हैं...