पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Jyoti Kumari; Who Is Jyoti Kumari? US President Donald Trump Daughter Ivanka Trump Hailed Bihar Darbhanga Girl

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

ज्योति की कहानी, जिसे इवांका ने सराहा:1200 किमी का सफर 500 रुपए की साइकिल से तय किया था, पिता के साथ हुए हादसे के बाद पढ़ाई छोड़ी थी, अब फिर शुरू करेंगी

दरभंगा8 महीने पहलेलेखक: अलिंद्र ठाकुर
  • कॉपी लिंक
ज्योति कहती हैं- पहले मुझे कोई नहीं जानता था। अब सब जानते हैं। इससे मेरा हौसला बढ़ा। मैं पढ़-लिखकर कुछ बनना चाहती हूं। फिर स्कूल जाने का इंतजार है। - Dainik Bhaskar
ज्योति कहती हैं- पहले मुझे कोई नहीं जानता था। अब सब जानते हैं। इससे मेरा हौसला बढ़ा। मैं पढ़-लिखकर कुछ बनना चाहती हूं। फिर स्कूल जाने का इंतजार है।
  • ज्योति पिता के साथ हुए हादसे के बाद दरभंगा से दिल्ली पहुंची थीं
  • ज्योति फिलहाल होम क्वारैंटाइन में हैं, वो एक महीने बाद साइक्लिंग फेडरेशन का ट्रायल देने दिल्ली जाएंगी

लॉकडाउन ने लाखों प्रवासियों को ताउम्र न भूलने वाला दर्द दिया। इस दौरान कई कहानियां या कहें आपबीती सामने आईं। कोई सैकड़ों किलोमीटर भूखे-प्यासे पैदल चलकर अपने घर लौटा। किसी ने रास्ते में ही जान गंवा दी। इस बीच इंसान के हौसले और चट्टान जैसे मजबूत इरादों की कहानी भी सामने आई। एक मिसाल ज्योति कुमारी की है।

ज्योति बिहार के दरभंगा जिले के सिंहवाड़ा प्रखंड के सिरहूल्ली गांव में रहती हैं। 15 साल की ज्योति बीमार पिता को साइकिल पर बैठाकर 10 मई को दिल्ली से चलीं।16 मई को दरभंगा पहुंचीं। उन्होंने सात दिन में 1200 किलोमीटर दूरी तय की।ज्योति की ‘ज्योति’ सात समंदर पार अमेरिका भी पहुंची। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की बेटी इवांका ने उन्हें ट्विटर पर सराहा।

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की बेटी ने ज्योति की तारीफ की है।
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की बेटी ने ज्योति की तारीफ की है।

ज्योति ने कहा- शुक्रिया इवांका दीदी

तारीफ और हौसलाअफजाई के लिए ज्योति ने इवांका को धन्यवाद कहा। ज्योति ने कहा, “मैं पहले इवांका दीदी को नहीं जानती थी। अब जान गई हूं। उन्होंने मेरा हौसला बढ़ाया। इसके लिए बहुत-बहुत धन्यवाद। वो बहुत बड़ी शख्सियत हैं। उन्होंने मेरे जैसी छोटी बच्ची की तारीफ की। यह मेरे लिए बहुत मायने रखता है। मैं बहुत खुश हूं।”

ज्योति को सम्मानित करते एसएसबी के अधिकारी।
ज्योति को सम्मानित करते एसएसबी के अधिकारी।

पिता के साथ हुए हादसे के बाद छूट गई थी पढ़ाई

ज्योति के परिवार में छह लोग हैं। दो भाई, दो बहन और माता-पिता। पिता मोहन पासवान अकेले दिल्ली में रहकर रिक्शा चलाते थे। मां गांव के आंगनबाड़ी केंद्र में बच्चों के लिए खाना बनाती हैं। उन्हें हर महीने दो हजार रुपए मिलते हैं। ज्योति बताती हैं, “माता-पिता की कमाई से किसी तरह घर चल रहा था। मैं गांव के स्कूल में पढ़ने जाती थी। एक ट्रक ने मेरे पिता के रिक्शा को टक्कर मार दी। उनका घुटना टूट गया। मैं पढ़ाई छोड़कर दिल्ली आ गई। ताकि पापा का ख्याल रख सकूं। उनके इलाज में बचाकर रखा पूरा पैसा खर्च हो गया। मां ने कई लोगों से कर्ज भी लिया।

मां और भाई-बहन के साथ ज्योति कुमारी।
मां और भाई-बहन के साथ ज्योति कुमारी।

500 रुपए में खरीदी साइकिल
ज्योति ने कहा. “मैंने साइकिल चलाना सीख रखा था। दिल्ली में मेरे पास साइकिल नहीं थी। लॉकडाउन के चलते जब भूखे मरने की नौबत आई तब जन-धन खाते से 500 रुपए निकाले। इस पैसे से एक पुरानी साइकिल खरीदी। उसी पर पापा को बैठाकर ले आई। मैंने बेटी होने का फर्ज निभाया। जब भी ऐसा मौका मिलेगा। माता-पिता की सेवा करती रहूंगी।”

इस साइकिल पर पिता को बैठाकर दिल्ली से दरभंगा आई थीं ज्योति। पैडल्स के सहारे उनके पैरों ने 1200 किलोमीटर सफर तय किया। पिता पीछे बैठे थे। क्योंकि घुटने में फ्रेक्चर था।
इस साइकिल पर पिता को बैठाकर दिल्ली से दरभंगा आई थीं ज्योति। पैडल्स के सहारे उनके पैरों ने 1200 किलोमीटर सफर तय किया। पिता पीछे बैठे थे। क्योंकि घुटने में फ्रेक्चर था।

अब एक सपना

ज्योति कहती हैं, “मैं पढ़-लिखकर कुछ बनना चाहती हूं, ताकि समाज के लिए कुछ अच्छा कर सकूं। अभी तो लॉकडाउन है। ये खत्म होता है तो फिर स्कूल में नाम लिखवाउंगी। मैं दिल्ली नहीं जाऊंगी। यहीं आगे पढ़ना है। साइकिलिंग फेडरेशन ने ट्रायल के लिए बुलाया है। इसके लिए एक महीने बाद ट्रायल देने दिल्ली जाऊंगी। अभी होम क्वारैंटाइन में हूं।”

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आपने अपनी दिनचर्या से संबंधित जो योजनाएं बनाई है, उन्हें किसी से भी शेयर ना करें। तथा चुपचाप शांतिपूर्ण तरीके से कार्य करने से आपको अवश्य ही सफलता मिलेगी। परिवार के साथ किसी धार्मिक स्थल पर ज...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser