खान सर की अपील, बंद में न शामिल हों छात्र:फिर यूट्यूब पर वीडियो जारी कर कहा- रेलवे ने सारी मांगें मान ली हैं, अब पढ़ाई करें

पटना4 महीने पहले

छात्रों को उकसाने का आरोप झेल रहे खान सर अब सामने आ गए हैं। उन्होंने अपने यूट्यूब चैनल पर शुक्रवार सुबह वीडियो जारी कर छात्रों से आज के बिहार बंद में शामिल नहीं होने की अपील की है। उन्होंने कहा है, '28 जनवरी को होने वाले प्रोटेस्ट में कोई भी छात्र हिस्सा नहीं लें, क्योंकि रेलवे ने आप लोगों की मांगों को मान लिया है।'

वीडियों में खान सर ने कहा है, 'रेलवे ने यह भी कहा है कि वन स्टूडेंट वन रिजल्ट होगा। 20 गुना ज्यादा रिजल्ट दिया जाएगा। आपकी लड़ाई में हम खड़े हैं। आप लोग प्रोटेस्ट नहीं करें। आपके प्रोटेस्ट में कोई दूसरा घुस कर हिंसा कर देता है। गया में ट्रेन जला दी गई। क्या कोई स्टूडेंट ट्रेन जला सकता है?' बता दें कि रेलवे अभ्यर्थियों के समर्थन में गुरुवार को छात्र संगठनों ने 28 जनवरी को बिहार बंद का ऐलान किया है। इसमें राजनीतिक दलों ने भी बंद को समर्थन दिया है।

एक वीडियो पर घिर गए खान सर

30 नवंबर 2021 को खान सर ने अपने यूट्यूब चैनल पर RRB-NTPC से संबंधित एक वीडियो डाला। इसमें उन्होंने नौकरी से संबंधित सभी जानकारियों का जिक्र किया है। भर्ती बोर्ड की खामियों को बताने के साथ-साथ उन्होंने किसान आंदोलन से संबंधित कुछ तस्वीरों को साझा करते हुए कहा है, 'छात्रों को अपनी मुहिम किसान आंदोलन की तरह लंबी चलानी होगी।'

उनके इस वीडियो पर 25.77 लाख व्यूज हैं। इस वीडियो को 2 लाख 40 हजार लाइक्स मिले हैं। इससे भी बड़ी बात यह है कि इसमें एक भी डिसलाइक नहीं है। अभ्यर्थियों के समर्थन में उन्होंने एक दिसंबर को ट्विटर पर #Justice_For_Railway_Students कैंपेन भी चलाया, जिसमें लाखों लोगों ने ट्वीट किया है।

पुलिस ने दर्ज की है FIR

खान सर पर पटना के पत्रकारनगर थाने में पुलिस ने FIR दर्ज की है। FIR में दावा किया गया है कि पकड़े गए छात्रों ने ही सभी के नाम लिए। इस कारण खान सर, एस के झा सर, नवीन सर, अमरनाथ सर, गगन प्रताप सर, गोपाल वर्मा सर को नामजद किया गया है। FIR में करीब 400 अज्ञात छात्रों को आरोपी बनाया गया है। दावा किया जा रहा है पुलिस ने अपनी FIR में इस वीडियो को भी आधार बनाया है।

24 जनवरी को बिहार में शुरू हुआ छात्रों का आंदोलन

बिहार समेत कई राज्यों में रेलवे के RRB-NTPC रिजल्ट से नाखुश छात्रों ने 24 जनवरी को प्रदर्शन शुरू कर दिया। इसका सबसे ज्यादा असर बिहार में दिखा। छात्रों ने गया में रेल के कई डिब्बों को आग के हवाले कर दिया है। सवाल उठ रहे हैं कि क्या ये महज 2 दिनों में सामने आया गुस्सा है या इसकी तैयारी पहले से हो रही थी? इन्हीं सब को लेकर पटना वाले खान सर आरोपों के घेरे में हैं।

खबरें और भी हैं...