• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Kishanganj Town SHO Ashwini Kumar Mother Dead; SevenPolice Officer Suspended In Kishanganj Inspector Mob Lynching Case

बेटे के साथ मां की सजेगी चिता:किशनगंज के शहीद SHO की मां यह खबर सुन चल बसीं, पूर्णिया में आज दोनों की साथ उठेगी अर्थी

पटना8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
SHO अश्विनी कुमार की मां की मौत के बाद शव के पास बिलखते परिजन। - Dainik Bhaskar
SHO अश्विनी कुमार की मां की मौत के बाद शव के पास बिलखते परिजन।

किशनगंज टाउन थाना के SHO अश्विनी कुमार की मां भी इस दुनिया में नहीं रहीं। बेटे की मौत की खबर सुनते ही उनकी भी सांसें थम गईं। हार्ट की पेशेंट होने की वजह से शनिवार को मॉब लिंचिंग में बेटे की शहादत के बारे में मां को परिवार के लोगों ने जानकारी नहीं दी थी। शनिवार की शाम 3.45 में मायके से घर पहुंची थी। इसके बाद उन्हें लाडले की मौत की जानकारी हुई। यह सुनते ही वह बेहोश हो गईं। चेहरे पर बार-बार पानी देने के बाद होश में आईं। इसके बाद शहीद SHO अश्विनी कुमार की मां एक ही बात बोलती रहीं कि आब केना रहबे हो बाबू। रविवार की सुबह छह बजे उनकी मौत हो गई।

मां और बेटे की एक साथ अर्थी बनाते लोग।
मां और बेटे की एक साथ अर्थी बनाते लोग।

मां और बेटे की चिता एक साथ सजेगी। पूर्णिया स्थित उनके घर पर दोनों की अर्थी एक साथ बनाई गई है। यह देख हर किसी की आंखें नम हो जा रही है। परिजनों के साथ-साथ पूरे गांव में मातम का माहौल है। शहीद SHO अश्विनी कुमार के छोटे भाई प्रवीण कुमार ने बताया कि भैया की मौत का सदमा मां बर्दाश्त नहीं कर सकीं। उन्होंने बताया कि मां पिछले 14-15 साल से हार्ट की पेशेंट थी। पिछले साल पिता जी की भी मौत हो गई थी। इस सदमे से किसी तरह निकली थीं। लेकिन, बेटे की मौत ने उन्हें पूरी तरह से तोड़ दिया और 24 घंटे के भीतर ही उनकी मौत हो गई।

शहीद SHO अश्विनी कुमार की मां को दिल की बीमारी थी।
शहीद SHO अश्विनी कुमार की मां को दिल की बीमारी थी।

परिजनों की सरकार से मांग

अश्विनी कुमार हत्याकांड मामले को लेकर ग्रामीणों एवं परिजनों ने पैतृक गांव में बैठक की है। इसमें उन्होंने सरकार से हाईकोर्ट की निगरानी में हत्याकांड की CBI जांच की मांग की है। साथ ही हत्याारों की स्पीड ट्रायल कराकर सजा दिलाने की भी मांग की है। परिजनों का कहना है कि शहीद की पत्नी को सरकारी नौकरी मिलनी चाहिए और उनके बच्चों की पढ़ाई का खर्च सरकार को उठाना चाहिए। परिजनों ने बताया कि मांगें पूरी होने के बाद ही SHO अश्विनी कुमार का दाह संस्कार किया जाएगा।

शहीद SHO अश्विनी कुमार के पार्थिव शरीर के पास परिजन।
शहीद SHO अश्विनी कुमार के पार्थिव शरीर के पास परिजन।

मां को नहीं दी गई बेटे की मौत की खबर

भागनेवाले पुलिसकर्मी गद्दार

पश्चिम बंगाल के पनतापाड़ा गांव में शनिवार की अहले सुबह ग्रामीणों ने पीट-पीट कर SHO अश्विनी कुमार की हत्या कर दी थी। इस मामले में अश्वनी कुमार के साथ छापेमारी में गए 7 पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया है। बिहार पुलिस ने इसे गद्दारी मानी है। सातों पुलिसकर्मियों पर निलंबन के अलावा भी कार्रवाई करने की बात कही गई है। किशनगंज SP कुमार आशीष ने बताया कि विभागीय मामला चलाकर कठोरतम सजा दी जाएगी।